Monday, April 22, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutपैर फिसलने से गंगनहर में डूबा युवक

पैर फिसलने से गंगनहर में डूबा युवक

- Advertisement -
  • गोताखोरों की मदद से तलाश में जुटी पुलिस, परिजनों में मचा कोहराम

जनवाणी संवाददाता |

सरधना: बुधवार की शाम नानू पुल के निकट गंगनहर किनारे बैठे एक युवक का अचानक पैर फिसल गया। युवक पानी के तेज बहाव के साथ बह गया। यह देख लोगों में हड़कंप मच गया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने गोताखोरों की मदद से युवक को काफी तलाश कराया, लेकिन सफलता नहीं मिल सकी। वहीं युवक के डूबने की सूचना से उसके परिजनों में कोहराम मच गया। पीड़ित पक्ष ने कोतवाली में घटना के तहरीर दी है।

कोतवाली क्षेत्र के दबाथुवा गांव निवासी अंकुर पुत्र धर्मपाल बुधवार की शाम गंगनहर के निकट टहलने गया था। युवक गंगनहर किनारे बैठा था। तभी अचानक उसका पैर फिसल गया और वह गंगनहर में गिर गया। युवक पानी के तेज बहाव के साथ बह गया और कुछ दूर आगे जाकर डूब गया। आसपास मौजूद लोगों ने यह देखा तो हड़कंप मच गया।

08 14

उन्होंने हादसे की सूचना पुलिस को दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने गोताखोरों की मदद से युवक को काफी तलाश कराया, लेकिन सफलता नहीं मिल सकी। वहीं, युवक के गंगनहर में डूबने की सूचना से उसके परिजनों में कोहराम मच गया। अंकुर के भाई तेजवीर ने कोतवाली में घटना की तहरीर दी है।

पेड़ पर लटका मिला अधेड़ का शव

सरधना: बुधवार को रार्धना गांव में एक अधेड़ का शव पेड़ पर लटके मिलने से सनसनी फैल गई। कोतवाली क्षेत्र के रार्धना गांव निवासी ऋषिपाल बुधवार को घर से किसी काम के लिए निकला था। इसके बाद वह वापस नहीं लौटा। गांव के निकट कुछ लोगों ने एक व्यक्ति का शव पेड़ पर फांसी के फंदे पर लटका देखा। जिससे ग्रामीणों में सनसनी फैल गई। सूचना से उसके परिजनों में कोहराम मच गया।

मौके पर पहुंचे परिजन शव को घर ले गए और अंतिम संस्कार की तैयारी शुरू कर दी। इसी बीच किसी ने मामले की सूचना पुलिस को कर दी। पुलिस ने शव को पीएम के लिए भेजने की कोशिश की, लेकिन परिजनों ने कानूनी कार्रवाई से इंकार कर दिया। इसमें बाद पुलिस वापस लौट आई।

पति ने दी मुखाग्नि, कोमल का अंतिम संस्कार

मेरठ: नौचंदी के शास्त्रीनगर सेक्टर दो निवासी कोमल की मौत की खबर पर उसके मायके से कोई नहीं आया। बताया जाता है कि उसके माता पिता नहीं है। जो दूसरे रिश्तेदार हैं उन्होंने मुंह मोड़ लिया और कह दिया कि उन्हें नहीं आना पुलिस चाहे तो लावारिस में फूंक दे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। पूछताछ के लिए हिरासत में लिए कोमल के पति बॉबी को पुलिस ने छोड़ दिया। इतना ही नहीं अंतिम संस्कार कराने में भी उसकी मदद की।

सूरज कुंड पर कोमल का अंतिम संस्कार किया गया। बॉबी ने ही उकसो मुखाग्नि दी। कोमल की मौत की चर्चा पूरे पड़ौस में है। लोग एक ही बात कह रहे हैं कि ऐसा भी क्या गुस्सा की जान ही दे दी। अपना नहीं तो कम से कम दस माह के दोनों मासूम बच्चों के वारे में तो कुछ सोचा होता। कौन बिन मां के बच्चों की अब कौन देखभाल करेगा। कोमल ने तो क्लेश से छुटकारा पाने के नाम पर खुद को खत्म कर लिया,

लेकिन सवाल यह है कि दो मासूमों जिनकी उम्र महज दस माह है, इनका क्या होगा। कौन इन्हें संभालेगा। पिता बॉबी खुद नौकरी करेगा या फिर बच्चे संभालेगा। पुलिस का कहना है कि अभी मासूमों को लेकर कुछ भी नहीं बताया जा सकता। संभवत परिवार में ही कोई इन मासूमों की जिम्मेदारी उठाएगा। इस घटना से पूरे परिवार में कोहराम मचा हुआ है।

खुद संभाले या मासूमों को संभाले

कोमल की मौत से दुखी बॉबी को समझ नहीं आ रहा है कि वह खुद संभले या फिर दस माह के इन मासूमों को संभाले। इंस्पेक्टर नौचंदी ने बताया कि फिलहाल तो बॉबी ही बच्चों को संभाल रहा है। लेकिन उम्मीद है कि कुछ दिन बाद कोई न कोई रिश्तेदार जरूर इन मासूमों की जिम्मेदारी उठाएगा। क्योंकि बॉबी अकेला बच्चों को संभाल पाएगा यह संभव नहीं है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments