Monday, June 14, 2021
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutब्लैक फंगस के 19 नये मरीज आंकड़ा पहुंचा 73 तक

ब्लैक फंगस के 19 नये मरीज आंकड़ा पहुंचा 73 तक

- Advertisement -
+1
  • मेडिकल कालेज में बनाया गया 32 बेड का वार्ड

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: शहर में ब्लैक फंगस के बुधवार को 19 नए मरीज मिले हैं, जबकि मेडिकल में तीन लोगों की मौत हो गई। अब तक 73 मरीजों में इस बीमारी की पुष्टि हो चुकी है। वहीं फलावदा में एक और मरीज की ब्लेक फंगस से मौत हो गई।

सर्विलासं प्रभारी डा. अशोक तालियान ने बताया कि मेडिकल कालेज में 30, आनंद अस्पताल में 11, कनग अस्पताल में 8, केएमसी में 2, लोकप्रिय अस्पताल में 3, न्यूटिमा अस्पताल में 8, मेरठ किडनी अस्पताल में चार के अलावा आशा क्लीनिक, होली फेमिली, होप अस्पताल, सार्इं अस्पताल, सुभारती अस्पताल और विजन केयर में एक एक मरीज ब्लैक फंगस का मिला है।

आनंद अस्पताल के चिकित्सक डा. पुनीत भार्गव ने बताया कि उनकी ओपीडी में बुधवार को ब्लैक फंगस के तीन मरीज आए, ये बिजनौर, सहारनपुर और मेरठ के रहने वाले हैं। इन्हें अभी भर्ती नहीं किया गया है। इन्हें जांच के लिए लिखा है। एक अन्य महिला मरीज सरोज की आंख का आॅपरेशन किया है। वह कोविड मरीज थीं। उनकी आंखों की रोशनी जा सकती थी, जिन्हें आॅपरेशन के बाद बचा लिया गया है।

मेडिकल के कोविड प्रभारी डा. धीरज राज ने बताया कि ब्लैक फंगस के दो नए मरीज आए हैं। अब तक मेडिकल में 30 मरीज भर्ती हुए हैं। फिलहाल 19 का इलाज चल रहा है। बुधवार को दो लोगों की मौत हुई है। इनके नाम प्रदीप व श्याम सिंह हैं। वे निजी अस्पताल से आए थे। कोरोना के मरीजों में ब्लैक फंगस का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है। संक्रमित मरीज लगातार मिल रहे हैं।

कोरोना के मरीजों के इलाज के दौरान ज्यादा स्ट्रॉयड और शुगर बढ़ने से यह बीमारी होती है। इसमें आंख सूज जाना। पुतली का न घूमना और मुंह में तालु काला हो जाना आदि लक्षण हैं। ब्लैक फंगस के मरीजों के लिए मेडिकल कॉलेज में दिन में 10 बेड का वार्ड तैयार हो गया था।

रात में प्रथम तल पर 32 बेड का वार्ड तैयार किया गया है। कोविड प्रभारी ने बताया कि ब्लैक फंगस के मरीजों की संख्या बढ़ रही है, इसलिए बेड की संख्या बढ़ाई गई है। इनमें दो सेटअप बनाए जाएंगे। एक कोविड के लिए, दूसरा नॉन कोविड के लिए। प्राचार्य ने इसका निरीक्षण भी किया। मंगलवार को ब्लैक फंगस के इलाज के लिए मेडिकल कॉलेज को 66 इंजेक्शन मिले थे। इनका नाम एम्फोटेरिशन-बी 50 मिग्रा है।

फलावदा में ब्लैक फंगस पीड़िता सहित तीन मरीजों की हुई मौत

ब्लैक फंगस और करोना तथा आक्सीजन लेवल ने तीन नागरिकों की जान ले ली। अचानक हुई तीन मौत से कस्बे में दहशत फैल गई है। खतरनाक ढंग से पैर पसार रहे ब्लैक फंगस ने मेडिकल में उपचाराधीन पूर्व सभासद महिला की जान ले ली। दो दिन पूर्व बड़ा गांव में हुई एक व्यक्ति की मृत्यु के बाद फलावदा क्षेत्र में ब्लैक फंगस से यह दूसरी मौत हुई बताई जा रही है।

दूसरी मौत कोरोना संक्रमण से नगर के एक चाऊमीन विक्रेता की हुई है। कस्बे के मोहल्ला कानी पट्टी में कोरोना से गले में संक्रमण होने के चलते अचानक चाऊमीन विक्रेता की मौत हो गई। बताया गया है कि चाऊमीन विक्रेता को बुखार आया था, फिर गले में इंफेक्शन उसकी मौत का सबब बन गया।

तीसरी मौत कस्बे के मोहल्ला मोहल्ला ऊंचा निवासी एक महिला की हुई है। उक्त महिला को तीन दिन पूर्व आॅक्सीजन लेवल कम होने के चलते मवाना में एक प्राइवेट डॉक्टर के पास उपचार के लिए ले जाया गया था। गुरुवार को महिला ने दम तोड़ दिया। कस्बे में हुई तीन मौत से सनसनी फैल गई है।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments