Saturday, June 15, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutयूक्रेन से सकुशल मवाना पहुंचा अभिषेक, आंखें हुई नम

यूक्रेन से सकुशल मवाना पहुंचा अभिषेक, आंखें हुई नम

- Advertisement -
  • परिवार के सदस्यों ने गले लगाया, भारत सरकार का जताया आभार

जनवाणी संवाददाता |

मवाना: रूस-यूक्रेन में शुरू हुए युद्ध के बाद पोलैंड की टरनोविल यूनिवर्सिटी में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहे मवाना के विवेक विहार कालोनी निवासी अभिषेक राणा के सकुशल वापस लौटने पर परिवार के सदस्यों की आंख से आंसु छलक उठे। एमबीबीएस छात्र अभिषेक राणा ने बताया कि वतन वापस के लिए पोलैंड बॉर्डर पर पहुंचने के लिए 35 किमी पैदल चलना पड़ा।

05 3

आरोप है कि इस दौरान भारतीय छात्रों को यूक्रेनियन सेना अभद्रता कर रहे थे। बताया कि सायरन बजने के बाद रात में बंकर में भी शरण लेनी पड़ी। अभिषेक ने बताया कि स्थिति काफी भयावह होती देख उनकी धड़कनें बढ़ने लगी। शनिवार को घर लौटने पर माता-पिता के साथ मिलने वालों ने भी फूल माला पहनाकर स्वागत किया।

एमबीबीएस छात्र सुहेब भी पहुंचा सकुशल वापस

यूक्रेन के शहर पोलटावा में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहे नगर के मोहल्ला कल्याण सिंह निवासी सुहेब के सकुशल घर लौटने पर परिवार के सदस्यों ने गले लगा लिया। सुहेब ने बोलते हुए कहा कि स्वदेश लौटने पर उसकी आंखों में दहशत का मंजर साफ दिख रहा था।

04 4

कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अच्छा कदम उठाया। जिसके बाद सभी मां-बाप के लाडलों की सकुशल वापसी कराई। हालात काफी ही खराब दिखाई दिए जाने के बाद एक के एक भारतीय छात्र दहशत में आ गया था। सुहेब एमबीबीएस की पढ़ाई अधूरी होने पर अफसोस जताते हुए कहा कि पढ़ाई पूरी करने के बाद गरीबों की सेवा फ्री करेगा।

भाजपा नेता विनीत शारदा ने किया स्वागत

एमबीबीएस छात्र अभिषेक राणा के पोलैंड से सकुशल वापस लौटने पर उनके आवास पर पहुंचे भाजपा व्यापार प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष विनीत शारदा और व्यापार जिला संयोजक व्यापार प्रकोष्ठ रोहित बंसल उर्फ मोनू बंसल आदि भाजपाइयों ने बधाई देते हुए फूल माला पहनाकर स्वागत किया। मां शशी एवं पिता ओमबीर गुर्जर ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आभार प्रकट किया। इस मौके पर सुदर्शन गोयल, आलोक चौधरी, मुकेश जैन, ब्रजेश द्विवेदी, विकास चौधरी, मिलन चौहान, गोविंद गुप्ता, अतुल चौहान, सत्येंद्र घोरिया, चंद्रशेखर, नंदा रस्तोगी आदि मौजूद रहे।

यूक्रेन से लौटे किठौर के पांच छात्र

किठौर: यूक्रेन की लवीव यूनिविर्सिटी से एमबीबीएस चतुर्थ कर रहा ललियाना निवासी फिरोज पुत्र फकीरा शनिवार सुबह लगभग 8:00 बजे सकुशल घर पहुंच गया। बेटे को देखते ही मां शहनाज की आंखों से खुशी के आंसू बह निकले और उसने फिरोज को गले से लगाकर दुलारा।

06 4 09 4

यूक्रेन के हालात पर चर्चा में फिरोज ने बताया कि कई दिनों से तनाव चल रहा था। रूस द्वारा हमले की आशंका जताते हुए अमेरिका यूक्रेन को अलर्ट कर रहा था, लेकिन यूक्रेन ने इसे गंभीरता से नहीं लिया। नतीजा 24 फरवरी को रूस ने यूक्रेन के खरकीव, कीव, डेनीपर सहित कई औद्योगिक शहरों व मिलिट्री बेसों पर एकसाथ हमला कर उसे भारी क्षति पहुंचाई। हमले के बाद यूकेन को रेडजोन घोषित कर मार्शल लॉ लगा दिया गया। वहां अध्ययनरत छात्रों को कॉलेज व विवि प्रशासनों ने हॉस्टलों में बने बंकरों में भेज दिया।

…अब वतन नहीं लौट पाएंगे

अब्दुल खालिक ने बताया कि डेनीपर में उसके बंकर से मात्र दो किमी की दूरी पर रूस सेना ने हमले किए थे। पूरा शहर दहल रहा था। उस वक्त ऐसा लगा कि अब वतन नहीं लौट पाएंगे। 27 को डेनीपर सिटी स्टेशन पर पहुंचे तो ढाई बजे हमला हो गया। कुछ घंटों बाद टेन पहुंची लवीव के लिए उसमें बैठना को घुसे तो यूक्रेन सेना ने रोक दिया।

07 4 08 4

बहरहाल 13 हजार यूक्रेनी मुद्रा सैनिकों को देकर छह साथी टेन में चढ़े और उजगरोड, स्लोवाकिया, प्रोसोव सिटी, और फिर हुमेन्ने पहुंचे। जहां से इनको बस द्वारा ब्रेटीस्लावा एयरपोर्ट भेजा गया। यहां केंद्रीय कानून मंत्री किरन रिजिजू ने इन छात्रों को भारतीय वायुसेना के जेट से भारत के लिए रवाना किया। बेटे के घर पहुंचते ही खालिक की मां जन्नत ने उसे गले लगाया और फूट-फूटकर रोने लगी। खालिक की मां दिल की बीमार है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
3
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments