Saturday, February 27, 2021
Advertisment Booking
Home Uttar Pradesh News Meerut खेल विश्वविद्यालय को लेकर प्रशासन फ्रंट फुट पर

खेल विश्वविद्यालय को लेकर प्रशासन फ्रंट फुट पर

- Advertisement -
0
  • सरधना के सलावा में जल्द बनेगा यूपी का इकलौता खेल विश्वविद्यालय
  • लंबे समय से उठाई जा रही थी खेल विवि की मांग

दानिश अंसारी |

सरधना: कई दशकों से अपनी पहचान बचाने के लिए जूझ रहे सरधना के सिर योगी सरकार ने ऐसा ताज सजाया है जो सदियों तक चमकेगा। सरकार द्वारा यूपी का इकलौता खेल विश्वविद्यालय सरधना के सलावा गांव में बनाने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए योगी सरकार ने बजट में बीस करोड़ रुपये भी आवंटित करने की घोषणा कर दी है। इसके लिए करीब एक वर्ष से कागजी गतिविधि शासन-प्रशासन में चल रही थी। अब बजट में घोषणा के बाद अंतिम मोहर भी लग गई है।

योगी सरकार ने खेल विश्वविद्यालय की स्थापना कराने का निर्णय लिया। कई वर्षों तक विश्वविद्यालय के लिए भूमि की तलाश चली। तमाम जिलों तक चली तलाश सरधना विधानसभा के संलावा गांव में जाकर पूरी हुई। करीब एक वर्ष से सलावा गांव में चिह्नित की गई भूमि की कागजी कार्रवाई पूरी करने का कार्य प्रशासन द्वारा किया जा रहा था। चार माह पूर्व शासन द्वारा इसके लिए प्रस्ताव मांगा गया था।

करीब 92 एकड़ भूमि की फाइल तैयार करके प्रशासन द्वारा शासन को भेजी गई थी। यूनिवर्सिटी निर्माण के लिए लोक निर्माण विभाग को निर्माण एजेंसी नामित किया गया है। वहीं, इस संबंध में एसडीएम सरधना अमित कुमार भारतीय का कहना है कि खेल विश्वविद्यालय बनाने के लिए सलावा गांव में गंगनहर पटरी के किनारे भूमि चिंहित की गई है। करीब 92 एकड़ भूमि को चिह्नित किया गया है। भूमि से संबंधित फाइल बनाकर शासन को पहले ही भेजी जा चुकी है। बुधवार को मुख्य सचिव द्वारा लखनऊ में इस संबंध में मीटिंग बुलाई गई है।

खेल व्यापार को मिलेगी संजीवनी

मेरठ जिले को स्पोर्ट्स व्यापार के लिहाज से यूपी का सबसे बड़ा हब माना जाता है। यहां से खेल उपकरण पूरे देश ही नहीं दूनियाभर में निर्यात किए जाते हैं। अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी खुद निजी तौर पर यहां अपने लिए खेल उपकरण खरीदने भी आते रहे हैं। इस ओर ध्यान देते हुए भी सरकार द्वारा खेल विश्वविद्यालय यहां बनाने का निर्णय लिया गया है।

छुपे हुनर को निखरने का मिलेगा मौका

ग्रामीण क्षेत्र में प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है। पीछे जितना दूर तक भी नजर डालें तो देहात की प्रतिभाओं ने हमेशा देश का नाम राशन करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। मगर संसाधनों के अभाव में बहुत प्रतिभाएं ग्रामीण क्षेत्र से आगे नहीं निकल पाती हैं। ऐसे में खेल विश्वविद्यालय बनने के बाद ग्रामीण क्षेत्र में छुपी प्रतिभाओं को निखरने को मौका मिलेगा।

युवाओं ने बना रखा है ट्रैक

खेल विश्वविद्यालय बनाने के लिए सलावा की जिस भूमि को चिह्नित किया गया है, उस पर युवाओं ने स्वयं ही देसी ट्रैक बना रखा है। इसके अलावा भर्ती की तैयारी व खेल अभ्यास के लिए तमाम इंतजाम किए हुए हैं। कोई भी मदद नहीं मिलने के चलते युवाओं ने स्वयं ही मैदान को आबाद कर रखा है, लेकिन अब कुछ उम्मीद जगी है।

डीएम ने किया खेल विवि के लिए सलावा में भूमि का निरीक्षण

तहसील सरधना के ग्राम सलावा में बनने वाले खेल विश्वविद्यालय के संबंध में डीएम ने मंगलवार को लोक निर्माण विभाग, सिंचाई विभाग व प्रषासनिक अधिकारियों के साथ ग्राम सलावा का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि खेल विश्वविद्यालय बन जाने से मेरठ व आसपास के क्षेत्रों के युवाओं को उच्च स्तर की सुविधाएं अपनी खेल प्रतिभा को निखारने के लिए मिलेगी, जोकि उनके भविष्य निर्माण में सहायक होगी। खेल विश्वविद्यालय अत्याधुनिक सुविधाआें से सुसज्जित होगा।

डीएम के. बालाजी के संज्ञान में आया कि खेल विश्वविद्यालय के लिए सिंचाई विभाग की 36़9813 हेक्टेयर भूमि का प्रस्ताव बनाकर शासन को प्रेषित कर दिया गया है तथा प्रदेश सरकार के बजट आवंटन में भी खेल विश्वविद्यालय के लिए रुपये 20 करोड़ का अग्रिम प्रावधान किया गया है।

डीएम ने बताया कि कल मुख्य सचिव खेल विश्वविद्यालय के संबंध में लखनऊ में आयोजित एक महत्वपूर्ण बैठक की अध्यक्षता करेंगे। इस अवसर पर एसडीएम सरधना अमित कुमार भारतीय, अधिशासी अभियंता लोनिवि निर्माण खंड सीपी सिंह, अधिशाषी अभियंता सिंचाई आषुतोष सारस्वत सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments