Tuesday, October 19, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUttar Pradesh NewsBaghpatकृषि कानूनों के विरोध में रालोद ने बोला हल्ला, हाइवे जाम किया

कृषि कानूनों के विरोध में रालोद ने बोला हल्ला, हाइवे जाम किया

- Advertisement -
  • रालोद नेताओं ने केन्द्र व प्रदेश सरकार के खिलाफ कलक्ट्रेट में जुलूस निकालकर किया धरना प्रदर्शन
  • कृषि कानून वापस नहीं लेने पर आंदोलन करने की चेतावनी, एसडीएम को सौंपा राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन

जनवाणी संवाददाता |

बागपत: कृषि कानूनों के विरोध में रालोद नेता भी विरोध पर उतर आए है और बुधवार को कलक्ट्रेट में पहुंचकर केन्द्र सरकार के खिलाफ हल्ला बोला। उन्होंने जुलूस निकालते हुए कलक्ट्रेट में नारेबाजी कर धरना प्रदर्शन किया और उसके बाद दिल्ली-सहारनपुर हाइवे पर जाम लगाकर वहीं पर बैठ गए।

उन्होंने कहा कि वह काले कानून को वह किसी भी कीमत पर सहन नहीं करेंगे और किसानों का उत्पीड़न करने वालों को करारा जवाब दिया जाएगा। उन्होंंने अपनी मांगों का ज्ञापन एसडीएम को राष्ट्रपति के नाम सौंपकर बिल को वापस नहीं लेने पर आंदोलन की चेतावनी दी। ज्ञापन देने के बाद सभी नेता दिल्ली के लिए रवाना हो गए।

वहीं सीओ की टिप्पणी पर रालोद नेता भडक गए और उनकी सीओ के साथ काफी देर तक नोकझोंक हुई। बाद में कुछ नेताओं के समझाने पर वह शांत हुए। उधर, हाइवे जाम होने के कारण वाहन चालकों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ा।

बुधवार को रालोद नेता केन्द्र सरकार पारित कृषि कानूनों के विरोध में कलक्ट्रेट में पहुंचे और वहां केन्द्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर जुलूस निकालकर धरना प्रदर्शन किया। उन्होंने बताया कि यह देश कृषि प्रधान है और किसानों ने हमेशा देश की अर्थव्यवस्था में अपना महत्वपूर्ण योगदान किया है।

कोरोना जैसी महामारी व लॉकडाउन के दौरान भी किसानों ने उत्पादन कर अर्थव्यवस्था में अपना सहयोग दिया। लेकिन उसके बाद भी केन्द्र सरकार ने कृषि कानून पास करके किसानों का उत्पीड़न करने का कार्य किया है। इससे तो किसानों की स्थिति काफी खराब हो जाएगी। बताया कि किसान विरोधी कानून को किसी भी कीमत पर सहन नहीं किया जाएगा।

इन कानून के लागू होने पर मंडी समिति व एमएसपी समाप्त हो जाएगी और कॉरपोरेट जगत की स्वेच्छा से दी जाने वाली कीमत पर कृषि उपज की खरीद होगी और पूंजीपतियों व किसानों के बीच विवाद का निस्तारण भी सिविल कोर्ट में न होने से किसानों के लोकतांत्रिक अधिकारों का हनन होगा।

इकरारनामा के माध्यम से किसानों का शोषण होगा और तैयार फसल की कीमत गुणवत्ता के बहाने कम मिल पाएगी। भंडारण की सीमा कारपोरेट जगत के पक्ष में समाप्त हो जाएगी, जिसका लाभ किसानों को न मिलकर सीधे पूंजीपतियों को मिलेगा। उन्होंने कहा कि वह किसानों का उत्पीडन करने वाली सरकार को उखाड देंगे और उनके साथ मिलकर आंदोलन करेंगे। इन मांगों को लेकर नेताओं ने कलक्ट्रेट के सामने दिल्ली-सहारनपुर हाइवे पर पहुंचकर जाम लगा दिया और कई नेता तो सड़क पर लेट गए। उन्होंने कहा कि जब उनकी मांगे पूरी नहीं होगी वह यहां से उठने वाले है। बाद में एसडीएम के समझाने के बाद उन्होंने अपनी मांग का ज्ञापन राष्ट्रपति के नाम सौंपकर पूरा करने की मांग की। मांग के पूरा नहीं होने पर आंदोलन की चेतावनी दी।

दिल्ली रवाना हुए नेता

कलक्ट्रेट में प्रदर्शन करने के बाद रालोद नेता अपनी-अपनी गाडियों से दिल्ली में हो रहे विरोध प्रदर्शन में शामिल होने के लिए रवाना हो गए। यहां से काफी नेता दिल्ली गए, ताकि किसान आंदोलन को सफल बनाया जा सकें।

सीओ की टिप्पणी में भडके कार्यकर्ता, नोकझोंक

कलक्ट्रेट के सामने जब रालोद नेताओं ने हाइवे जाम कर दिया तो सीओ वहां पहुंचे और उन्हें फोटो खिंचवाने का ड्रामा बंद कर ज्ञापन देने की टिप्पणी की तो वह भडक गए। कार्यकर्ताओं व सीओ में काफी देर तक नोकझोंक हुई और कहा कि वह यहां फोटो खिंचवाने नहीं आए है, बल्कि किसानों के हक की लडाई लडने के लिए आए है। बाद में अन्य नेताओं के समझाने के बाद वह शांत हुए।

हाइवे जाम से वाहन चालक परेशान

दिल्ली-सहारनपुर हाइवे के जाम होने से वाहन चालकों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ा और वहां काफी लंबा जाम लग गया। रालोद नेताओं के जाम खोलने के बाद ही वाहनों का आवागमन शुरू हो सका। वहीं एंबुलेंस के आने पर नेताओं ने रास्ता दिया, ताकि मरीजों को परेशानी न उठानी पड़े।

ये नेता रहे शामिल

जिलाध्यक्ष सुखबीर गठीना, पूर्व विधायक वीरपाल राठी, मंडल महसचिव ओमबीर ढाका, ब्लॉक प्रमुख बागपत सुभाष गुर्जर, विश्वास चौधरी, पूर्व जिपं सदस्य संजीव मान, पुष्पेन्द्र प्रधान, विकास प्रधान, रीता चौहान, सुबोध राणा, राजू तोमर सिरसली, गगन धामा, उपेन्द्र धामा, भुरू, रवि, नीरज पंडित, धर्म सिंह, मोहित मुखिया, संजय सिंह, देवेन्द्र आर्य एडवोकेट, जयवीर सिंह तोमर एडवोकेट, सतीश, श्याम सिंह, नौशाद अली, लेखराज प्रधान, सचिन पंडित, कृष्णपाल, कलीम अल्वी, रवि गोठरा, सतेन्द्र मलिक, रविन्द्र सिंह, प्रेमपाल सिंह आदि मौजूद रहे।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments