Wednesday, June 19, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutइलाहाबाद बैंक के ग्राहक परेशान, बैंक बदलने की फिराक में

इलाहाबाद बैंक के ग्राहक परेशान, बैंक बदलने की फिराक में

- Advertisement -
  • नौ दिन से बैंक में कामकाज पूरी तरह से ठप, एटीएम भी दे रहे धोखा

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: बैंकों का विलय क्या हुआ लोगों की परेशानी बढ़ गई। इलाहाबाद बैंक जब से इंडियन बैंक में विलय हुआ है, तभी से खाताधारकों को मुसीबतों से सामना हो गया है। साफ्टवेयर अपडेट करने के नाम पर इलाहाबाद बैंक में 10 फरवरी से लेकर 18 फरवरी तक कामकाज पूरी तरह से ठप रहा।

पहले इलाहाबाद बैंक की तरफ से कहा गया था कि 10 फरवरी से लेकर 16 फरवरी तक कामकाज ठप रहेगा, लेकिन बैंक ने इस अवधि में अपना साफ्टवेयर अपडेट नहीं किया। 17 और 18 फरवरी को भी बैंक में कामकाज न के बराबर था। विलयीकरण के कारण जिस तरह से लोग परेशान है उसको देखकर लोग इलाहाबाद बैंक से नाता तोड़ने की सोचने लगे हैं।

इलाहाबाद बैंक का इंडियन बैंक में विलय होते ही ग्राहकों को मुश्किलें उठानी पड़ रही है। बैंक में आरटीजीएस, एनईएफटी का काम ठप पड़ा हुआ है। कैश निकालने के लिये ऐडी चोटी का जोर लगाने के बाद भी पैसा नहीं निकल पा रहा है। इसके अलावा चेक भी क्लीयर नहीं हो पा रहे हैं। वहीं कई दिनों से क्लीयरिंग न होने से हजारों ग्राहक परेशान घूमते रहे और बैंक अधिकारी कुछ भी कहने की स्थिति में नहीं दिखे।

वहीं जो लोग गूगल-पे और एटीएम के जरिये पैसा निकालना चाह रहे हैं, उनको भी निराश होना पड़ रहा है। सबसे ज्यादा परेशानी उन लोगों को हो रही है जिनका रोज का बड़ा ट्रांजिक्शन है। पेंशनधारकों को भी 10 दिन से चक्कर काटना पड़ रहा है। इलाहाबाद बैंक में तमाम लोग ऐसे भी दिखे जो प्राइवेट बैंकों की तरफ जाने की बात कर रहे थे।

इस बैंक के साथ सबसे बड़ी समस्या सर्वर डाउन को लेकर है। वैसे भी बैंकों में लगातार छुट्टियां हो रही है ऐसे में सर्वर आदि की समस्या को समय रहते ठीक किया जा सकता है, लेकिन बैंकों को तो अपनी कमाई से मतलब है उनको इस बात की जरा भी फिक्र नहीं है कि ग्राहकों को किस हद तक समस्या का सामना करना पड़ रहा है। अकेले इलाहाबाद बैंक में ही इस तरह की समस्या नही है विलयीकरण के कारण कई बैंकों को यह समस्या का सामना करना पड़ रहा है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments