Sunday, February 25, 2024
HomeUttar Pradesh NewsMeerutकरोड़ों का सोना लेकर कारीगर फरार

करोड़ों का सोना लेकर कारीगर फरार

- Advertisement -
  • क्रांतिधरा में थमने का नाम नहीं ले रही कारीगरों के सोना लेकर भागने की घटनाएं
  • ज्यादातर का खुलासा नहीं, अब तो ज्वेलर्स भी वारदात की जानकारी देने से काटते हैं कन्नी

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: सदर सराफा बाजार के दो ज्वेलर्स का करोड़ों कीमत का बताया जा रहा सोना लेकर दो कारीगर फरार हो गए। वारदात से सदर सराफा बाजार में हड़कंप मचा हुआ है। इस मामले में पुलिस ने कुछ लोगों को पूछताछ के लिए उठाया है। मेरठ में कारीगरों के सोना लेकर भागने की घटनाएं तमाम कोशिशों व दावों के बाद भी थमने का नाम नहीं ले रही हैं। वहीं, दूसरी ओर घटनाओं के खुलासे न होने के चलते कई ऐसी भी घटनाएं हैं जिनकी जानकारी अब बजाय पुलिस को देने के ज्वेलर्स आपस में ही निपटाने की कोशिश करते हैं।

सुबह पांच बजे की वारदात

सदर सराफा स्थित महबूब छीलाई वाला जो कि सदर सराफा बाजार में आभूषणों पर छीलाई का कार्य करने वाला ठेकेदार है, वह कोलकाता गया हुआ था। उसके पीछे उसका बेटा अमीन यहां पर काम को संभाल रहा था। कारीगर न होने की वजह से अमीन ने कहीं और से एक या दो कारीगर अरेंज करें, जिन्हें उसने दो ज्वेलर्स का गोल्ड दिया था। मिली जानकारी के अनुसार यह गोल्ड मनोज वर्मा व विवेक जैन ने दिया था। एक किलो से अधिक का गोल्ड बताया गया है हालांकि चर्चा है कि इनके अलावा अन्य ज्वेलर्स का भी गोल्ड था जो दिया गया था। जिसके चलते कहा जा रहा है कि करोड़ो रुपये कीमत का सोना लेकर गायब हो गए हैं।

कारीगर के पिता ने दी लूट की जानकारी

मेरठ बुलियन ट्रेडर्स एसोसिएशन के महामंत्री विजय आनंद अग्रवाल ने बताया कि जिस कारीगर महबूब के नाम से छिलाई का काम करने की सदर बाजार में दुकान है, उस महबूब ने सोमवार सुबह विवेक जैन व मनोज वर्मा को जानकारी दी कि जो टेंपरेरी कारीगर रखे गए थे वो दोनों उसके बेटे अमीन के साथ मारपीट कर सोना लेकर भाग गए हैं। आरोप लगाया कि अमीन का मोबाइल भी अपने साथ ले गए हैं। मेरी अमीन से एक ही बार बात हुई है। उसके बाद बात नहीं हो पा रही।

एसपी सिटी को दी जानकारी

इस संबंध में मेरठ बुलियन ट्रेडर्स एसोसिएशन के महामंत्री विजयआनंद अग्रवाल ने एसपी सिटी आयुष विक्रम सिंह को इस संदर्भ में अवगत करा दिया है। उन्होंने तुरंत इस केस के पीड़ितों से सीओ कैंट आदित्य बंसल से संपर्क कर, सारी स्थिति बताने के लिए कहा है। पुलिस ने इस मामले में पूछताछ के लिए कुछ लोगों को हिरासत में लिया है।

एसएसपी से मांगा था स्पेशल सेल

ज्वेलर्स के साथ होने वाली वारदातों को रोकने के लिए मेरठ बुलियन ट्रेडर्स ने एसएसपी से एक स्पेशल सेल की मांग की थी। विगत दिनों अध्यक्ष प्रदीप अग्रवाल के नेतृत्व में सराफा व्यापार से संबंधित समस्याओं एवं सराफा व्यापारियों के साथ घटित अपराधिक घटनाओं के खुलासे को लेकर एसपी से मिला था। महामंत्री विजयआनन्द अग्रवाल ने ज्वेलर्स के साथ हुई घटनाओं के शीघ्र निस्तारण के लिए स्पेशल सेल के गठन की मांग की, जिसे स्वीकार करते हुए इस पर शीघ्र कार्रवाई का आश्वासन दिया।

थाना नौचंदी के अंतर्गत राज ज्वेलर्स शास्त्री नगर के यहां से सोने की अंगूठियों का भरा हुआ डिब्बा लूटकर भागने की घटना, प्रिया ज्वेलर्स, गढ़ रोड पर नाले के रास्ते सुरंग खोदकर चोरी की घटना, थाना सदर के अंतर्गत मैसर्स राज ज्वेलर्स सदर बाजार के यहां से 276 ग्राम सोना चोरी की घटना, सदर के एक गैंग द्वारा चांदी के नकली डले बाजार में चलाने की शिकायत थाना दिल्ली गेट के अंतर्गत लोकेश प्रजापति नामक कारीगर द्वारा सराफा व्यापारियों के सोने को लेकर भाग जाने की घटना आदि एवं

01 18

अन्य पिछली लंबित पड़े केसों की पुन: विवेचना कराकर उनके खुलासे एवं माल की बरामदगी की मांग सराफा व्यापारियों की ओर से की गई। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक ने भी सराफा व्यापारियों से अपने कर्मचारियों एवं कारीगरों के ऐड्रेस वेरीफिकेशन, दुकानों के अंदर कैमरों के साथ-साथ रोड व्यू कैमरे लगाने का आग्रह, किसी भी अनजान व्यक्ति से सोना चांदी आदि ना खरीदने की बात रखी।

बुलियन की चेतावनी के बाद भी वेरीफिकेशन नहीं

मेरठ बुलियन ट्रेडर्स एसोसिएशन की बार-बार चेतावनी के बाद भी जिन कारिगरों को सोना दिया जाता है उनका वेरीफिकेशन कराने में आनाकानी या कहें लापरवाही बरती जाती है। विगत दिनों कारीगरों के सोना लेकर गायब होने की घटनाओं पर चिंता व्यक्त करते हुए इसके समाधान को मेरठ बुलियन ट्रेडर्स व कारीगरों के संगठनों के बीच बैठक हुई और वारदातों को रोकने पर सहमति बनी। मेरठ बुलियन ट्रेडर्स एसोसिएशन द्वारा मेरठ के सभी बंगाली कारीगरों का नेतृत्व करने वाले संगठनों के पदाधिकारियों एवं कारीगरों के ठेकेदारों की एक मीटिंग मंदिर महादेव, शहर सराफा बाजार में आयोजित की गई। सभा की अध्यक्षता प्रदीप अग्रवाल एवं संचालन महामंत्री विजयआनन्द अग्रवाल ने किया।

स्वर्ण आभूषणों के निर्माण में लगे स्वर्णशिल्पीयों के बीच में कुछ ऐसे कारीगरों के होने पर चिंता व्यक्त की गई जो कि, सोना लेकर भाग जाते हैं। हाल फिलहाल में भी काफी घटनाएं सोना लेकर भागने की प्रकाश में आई है। मेरठ बंगाली स्वर्णकार वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष शेख दिलावर हुसैन ने कहा कि, बिना गारंटी के किसी भी कारीगर को सोना आभूषण बनाने के लिए ना दें। मेरठ बंगाली स्वर्णकार वेलफेयर एसोसिएशन के महामंत्री मुअक्किल अली शेख द्वारा बताया गया कि यहां से सोना लेकर भागने के बाद अगर वह कारीगर पश्चिम बंगाल पहुंच जाता है तो वहां के कुछ स्थानों से सोना वसूलने बहुत मुश्किल हो जाता है।

बंगाली एसोसिएशन के मनोज मंडल ने कहा कि आपसी कंपटीशन में कुछ लोग सस्ता माल बनवाने के फेर में अपना सोना गलत कारीगर को दे देते हैं, बाद में ऐसे लोग सोना लेकर भाग जाते हैं तो उन्हें पछताना पड़ता है। अत: सभी लोगों का ऐड्रेस वेरीफिकेशन एवं चरित्र सत्यापन होना चाहिए। हाफिज शेख ने कहा कि, बंगाली एसोसिएशन मेरठ बुलियन ट्रेडर्स एसोसिएशन के साथ मिलकर सभी कारीगरों का ऐड्रेस वेरीफिकेशन एवं चरित्र सत्यापन कराने के लिए तैयार है। इसके लिए 2 हफ्ते के अंदर-अंदर प्रक्रिया आरंभ कर दी जाएगी।

जिसमें प्रत्येक कारीगर का फोटो, उसका पता, नाम, उसके रिश्तेदारों का नाम, उनके मोबाइल नंबर, उसके गांव का नाम, उसके थाने का नाम, उसकी चौकी का नाम, सब अंकित होगा। मुअक्किल अली शेख ने कहा कि जो भी ज्वेलर्स अपना सोना, जेवर बनाने के लिए कारीगर को दे, उसका एड्रेस वेरीफिकेशन जरूर कराये। इसके साथ ही किसी स्थानीय बंगाली संगठन की भी गारंटी जरूर ले। एसोसिएशन के संरक्षक राजेंद्र जैन ने सभी बंगाली कारीगरों को आश्वासन दिया कि दुख दर्द में हम हर समय साथ खड़े हैं

और ऐड्रेस वेरीफिकेशन का जो भी कार्य है हम सब साथ मिलकर करेंगे। संदीप अग्रवाल ने बंगाली एसोसिएशन की सभी संस्थाओं को एक छत के नीचे रहकर संगठित होकर इस अभियान को चलाने का आह्वान किया। महामंत्री विजय आनन्द अग्रवाल ने कहा कि पश्चिमी बंगाल में कुछ स्थानों पर कानून व्यवस्था बहुत ज्यादा खराब है। इस वजह से लोकल पंचायतें, यहां से सोना लेकर भागने वाले अपराधियों को कुछ पैसे लेकर संरक्षण देते हैं। उन लोकल पंचायतों की गुंडागर्दी के विरुद्ध वहां की पुलिस भी कार्यवाही नहीं कर पाती।

हमारे व्यापार को बचाना तभी संभव है जब पश्चिमी बंगाल में कानून व्यवस्था सभी स्थानों पर अच्छी हो। सभा के अंत में अध्यक्ष प्रदीप अग्रवाल ने सभी का धन्यवाद किया। सभा में मनोज गर्ग, संदीप अग्रवाल, दीपक जौहरी, अमित अग्रवाल, टाइगर बंगाली, सोमेन बाबू, नाजिरुद्दीन, देवाशीष, मनोज मंडल, दिलावर हुसैन, अब्दुल हाफिज मलिक, संजय कोटाल, मलाई, एवं लगभग 50 से अधिक मेरठ बंगाली स्वर्णकार वेलफेयर एसोसिएशन के सदस्य उपस्थित रहे।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments