Saturday, June 15, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutआयुर्वेद विश्व की प्राचीनतम चिकित्सा विज्ञान: आनंदीबेन पटेल

आयुर्वेद विश्व की प्राचीनतम चिकित्सा विज्ञान: आनंदीबेन पटेल

- Advertisement -
  • भारत आयुर्वेद का उद्गम स्थल, ये पश्चिमी यूपी के लिए गर्व की बात

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कहा कि आयुर्वेद महासम्मेलन में तमाम विशेषज्ञ पहुंचे हैं, ये आयुर्वेद के लिए बड़ी भागीदारी होगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में ये महासम्मेलन आयुर्वेद के लिए दिशा तय करने वाला होगा। आयुर्वेद और योग को ऋषि-मुनियों ने विकसित किये।

राज्यपाल आनंदी बेन पटेल शनिवार को चौधरी चरण सिंह सुभाष चन्द्र बोस प्रेक्षागृह में आयोजित आयुर्वेद के तीन दिवसीय कार्यक्रम के प्रथम दिन संबोधन कर रही थी। उन्होंने कहा कि आयुर्वेद विश्व का प्राचीनतम चिकित्सा विज्ञान हैं। भारत आयुर्वेद का उद्गम स्थल हैं। ये पश्चिमी यूपी के लिए गर्व की बात हैं कि यहां पर आयुर्वेद का महासम्मेलन के लिए मेरठ का चयन किया गया।

आयुर्वेदिक उपचार में मन, शरीर और आत्मा के बीच संतुलन बनाये रखने के लिए समग्र स्वास्थ्य प्रबंधन पर ध्यान केन्द्रित किया जाता हैं। आयुर्वेद के प्राचीनता गं्रथ हैं तथा 18 00 वर्षों से आयुर्वेद स्वास्थ्य जीवन का मार्ग दिखा रहा हैं। आयुर्वेद ग्रंथों का पुन: मूल्यांकन करना आधुनिक परिवेश में बहुत आवश्यक हैं। आयुर्वेद को नई संभावनाओं के रूप में देखा जा रहा हैं तथा लोगों का विश्वास भी आयुर्वेद की तरफ बढ़ रहा हैं तथा पाश्चात्य चिकित्सा से रुझान हटकर आयुर्वेद की तरफ बढ़ रहा हैं, ये अच्छे संकेत हैं।

कोरोना काल में भी आयुर्वेद की महत्त्ता बढ़ी हैं और समझा भी हैं। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने राष्टÑपिता महात्मा गांधी का जिक्र करते हुए कहा कि शरीर उपचार के साधन हमारी प्रकृति में ही मौजूद हैं। वास्तव में हिमालय जड़ी-बुटियों से भरा पड़ा हैं, जिसके उपयोग से ही यजुर्वेद में भी उल्लेख हैं। आयुर्वेद से कई समस्याओं का समाधान निकल सकता हैं। केन्द्र और राज्य सरकार आयुर्वेद परंपरागत चिकित्सा के लिए प्रतिबद्ध हैं। शैक्षिक संस्थाएं भी आयुर्वेद को बढ़ावा देने के लिए खुल रही हैं।

11 11

आयुर्वेदिक हॉस्पिटल भी खुल रहे हैं। प्रयास होना चाहिए कि आयुष पद्धति पर काम होना चाहिए। सम्पूर्ण चिकित्सा सुविधा आम आदमी तक पहुंचनी चाहिए। कहा कि तीन दिवसीय आयुर्वेद पर्व विख्यात चिकित्सक अपना ध्यान क्षेत्रीय चिकित्सकों और जनता के बीच अपने अनुभव साझा करेंगे। इसका जनता को लाभ मिलेगा। ये महासम्मेलन आयुर्वेद विश्व स्थापना के लिए उपयोगी साबित होगा।

स्टेट आफ आर्ट पीटीएस की क्षमता बढ़ाकर 1600 हुई

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि स्टेट आॅफ आर्ट के रूप में पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय को विकसित कर 300 से इसकी क्षमता को बढ़ाकर 1600 किया है। जहां पुलिस कांस्टेबल ही नहीं सब इंस्पेक्टर, इंस्पेक्टर रैंक के अधिकारियों की ट्रेनिंग के कार्यक्रमों को संचालित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि बड़े ही हर्ष की बात है कि उत्तर प्रदेश ने आज कानून व्यवस्था के माध्यम से उत्तर प्रदेश की छवि को बदला है।

आज उत्तर प्रदेश में पुलिस द्वारा बेहतर कानून व्यवस्था के माध्यम से सभी दुविधाओं को दूर किया है और प्रदेश को निवेश की बेहतर गणतव्य की भूमिका के रूप में स्थापित किया है। प्रदेश में पिछले छह वर्षों में पुलिस की ट्रेनिंग क्षमता को लगभग तीन गुणा बढ़ाया गया है। एक लाख 64 हजार से भी अधिक पुलिस कार्मिकों की भर्ती एवं उनके प्रशिक्षण के कार्यक्रमों को आगे बढ़ाया

तथा अपराध की प्रवृत्ति के अनुरूप कानून बनाने व उसी प्रकार आधुनिक संयंत्र पुलिस फोर्स को उपलब्ध कराकर प्रशिक्षित करने का कार्य किया गया है। आज साइबर क्राइम के थाने हर जनपद में स्थापित हो रहे हैं तथा एफएसएल की लैब भी हर जगह स्थापित हो रही है, लखनऊ में पुलिस एवं फोरेंसिक साइंटिस्ट इंस्टीट्यूट की स्थापना का कार्य भी युद्ध स्तर पर चल रहा है तथा पुलिस की क्षमता विस्तार को बढ़ाने का कार्य भी राज्य सरकार द्वारा किया जा रहा है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments