Sunday, February 25, 2024
HomeUttar Pradesh NewsMeerutबैंक हॉलिडे और सर्वर डाउन ग्राहकों के लिए बने मुसीबत

बैंक हॉलिडे और सर्वर डाउन ग्राहकों के लिए बने मुसीबत

- Advertisement -
  • आज से हजरत मो. अली जन्म दिवस, गणतंत्र दिवस
  • शनिवार और रविवार तक लगातार चार दिन बंद रहेंगे सभी बैंक

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: बैंक हॉलिडे के साथ-साथ आए दिन सर्वर डाउन बात कर कार्य बाधित किए जाने से बैंक ग्राहकों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है गुरुवार से रविवार तक लगातार चार दिन बैंक बंद रहने वाले हैं इसके अलावा वर्ष 2024 में 52 रविवार को छोड़ दिया जाए तो 41 अन्य बैंक अवकाश घोषित किए गए हैं। वर्ष 2023 कि अगर बात की जाए तो इसमें उत्तर प्रदेश राज्य की ओर से 47 छुट्टियां दी गई थी।

जिसमें तीन अवकाश जनवरी 5 अवकाश फरवरी तीन अवकाश मार्च चार अवकाश अप्रैल चार अवकाश में तीन अवकाश जॉन 3 अवकाश जुलाई कर अवकाश अगस्त 4 अवकाश सितंबर 5 अवकाश अक्टूबर 7 अवकाश नवंबर और तीन अवकाश दिसंबर माह में रखे गए हैं। 47 अवकाश में वर्ष 2023 में पढ़ने वाले 53 रविवार को भी शामिल किया जाए तो सीधे-सीधे 100 दिन बैंकों में कोई काम का नहीं हो सका है।

चालू वर्ष में भी 52 रविवार और 41 राष्ट्रीय अवकाश राज्य विशेष त्योहार व अन्य प्रकार के अवकाश को मिलाकर 93 दिवस पर बैंकों में कोई कामकाज होने वाला नहीं है। अभी गुरुवार से ही अगर बात की जाए तो हजरत मोहम्मद अली जन्मदिवस शुक्रवार को गणतंत्र दिवस शनिवार को चौथा शनिवार और उसके अगले दिन रविवार का अवकाश होने के कारण लगातार चार दिन तक बैंकों में कोई कामकाज होने वाला नहीं है। इसके अलावा बैंकों के स्तर से सर्वर डाउन जैसी शिकायतें मिल जाना आम बात है।

बैंक सेवाओं की स्थिति यह हो चली है कि राज्य सरकार के स्तर से घोषित अवकाशों के अलावा सर्वर डाउन बढ़कर अक्सर कार्य बाधित कर दिया जाता है। यह स्थिति तब है, जबकि बैंकों के लिए दो-दो इंटरनेट सेवाएं लेने का प्रावधान लागू किया जा चुका है। बीएसएनएल की लीज के अलावा किसी भी निजी कंपनी की लीज लेकर बैंक का कार्य बाधित न होने के स्पष्ट निर्देश हैं। यह दो-दो लीज सेवाएं इसीलिए लागू की गई हैं, ताकि एक सेवा में कोई व्यवधान आने की स्थिति में दूसरी सेवा को सुचारू रूप से चलकर बैंक ग्राहकों को सुविधाएं दी जा सकें।

इसके बावजूद बैंक ग्राहकों को अपने कामकाज करने के लिए बैंकों में लंबी-लंबी लाइनों में खड़े रहना पड़ता है। रूटीन के छोटे-छोटे काम करने के लिए भी उन्हें घंटे तक इंतजार करना पड़ता है। मेरठ जनपद के राष्ट्रीयकृत और निजी 452 बैंकों में अपने कामकाज के लिए आने जाने वाले बैंक ग्राहकों के अनुसार महानगर और ग्रामीण क्षेत्र के बैंकों की स्थिति यह देखने को मिलती है कि बैंक कर्मी आपस में बातचीत करने में ज्यादा मशहूर रहते हैं।

उनसे अगर काम के लिए कहा जाता है तो वह इंटरनेट के सिग्नल न आने के कारण सर्वर डाउन होने जैसी बातें कहकर उन्हें इंतजार करने के लिए विवश कर देते हैं। इसके अलावा बार-बार कंप्यूटर को रीस्टार्ट करने की समस्या का आज तक बैंक अधिकारी कोई समाधान नहीं कर सके हैं। आईडीएम सुशील कुमार मजूमदार का कहना है कि बैंकों में सर्वर डाउन होना एक तकनीकी विषय है। हालांकि अब इसमें बहुत कमी आ चुकी है। इस समस्या के समाधान के लिए अधिकांश बैंकों की ओर एक तकनीकी टीम हर समय मॉनिटरिंग करती रहती है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments