Friday, July 26, 2024
- Advertisement -
HomeDelhi NCRएनसीआर में धर्मांतरण का बड़ा खेल, डॉक्टर-इंजीनियर चला रहे थे गिरोह

एनसीआर में धर्मांतरण का बड़ा खेल, डॉक्टर-इंजीनियर चला रहे थे गिरोह

- Advertisement -

नमस्कार, दैनिक जनवाणी डॉटकॉम वेबसाइट पर आपका हार्दिक स्वागत और अभिनंदन है। दिल्ली एनसीआर के सटा जिला गाजियाबाद में धर्मांतरण कराने वाला एक बहुत बड़ा गिरोह काफी दिनों से सक्रिय रहा। इस गिरोह के तार कई जगहों से जुड़े हुए हैं। फिलहाल गाजियाबाद पुलिस ने इस गिरोह का पर्दाफाश करते हुए आरोपियों की गिरफ्तारी भी की है। यह गिरोह कहां तक फैला हुआ था? कितने युवक इस जाल में फंसे थे? इस पर पुलिस की तफ्तीश जारी है। गिरोह को पुलिस को विदेशी फंडिंग की भी संभावना दिख रही है।

आइए जानते हैं इस गिरोह की पूरी तफ्तीश रिपोर्ट:

जिला गाजियाबाद के खोड़ा थानाक्षेत्र की पुलिस ने धर्म परिवर्तन कराने वाले एक ऐसे गिरोह का पर्दाफाश किया जिसे डॉक्टर और इंजीनियर चला रहे थे। यह गिरोह खोड़ा निवासी युवती नीरू बिष्ट समेत दिल्ली-एनसीआर में छह लोगों का धर्म परिवर्तन करा चुके हैं। धर्म परिवर्तन के इस खेल का खुलासा तब हुआ जब नीरू को परिजनों ने हिजाब पहनते और घर में नमाज पढ़ते देखा।

उनकी शिकायत पर पुलिस ने गिरोह का पता लगाकर मास्टरमाइंड डाॅक्टर अब्दुल्ला अहमद और उसके सहयोगी इंजीनियर मुसीर और कॉल सेंटर के कर्मचारी राहिल को शनिवार को गिरफ्तार कर लिया। राहिल और अब्दुल्ला का भी धर्म परिवर्तन हुआ है। राहिल पहले राहुल अग्रवाल और अब्दुल्ला सौरभ खुराना था।

ट्रांस हिंडन के डीसीपी विवेक यादव ने बताया कि गिरोह ने दिल्ली के पांच और गाजियाबाद के खोड़ा की युवती नीरू का धर्म परिवर्तन करा चुके हैं। अब्दुल्ला ने दिल्ली के अजय राठौर, अमृत सिंह और कपिल आनंद व मुसीर ने दिल्ली के ही अजय का धर्म परिवर्तन कराया। मुसीर ट्यूटर भी है। अजय उससे गणित का ट्यूशन पढ़ता था।

मुसीर ने ही संगम विहार दिल्ली के निवासी राहुल अग्रवाल का धर्म परिवर्तन कराकर उसे राहिल नाम दिया। उसके गिरोह में जुड़कर राहिल ने नीरू से ऑनलाइन निकाह कर उसका धर्म परिवर्तन कराया। राहिल नोएडा के सेक्टर – 58 स्थित काल सेंटर आई एनरजाइजर में काम करता है। नीरू भी इसी सेंटर में काम करती थी।

राहिल की 13 हिंदू लड़कियों से मिली चैटिंग

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, राहिल उर्फ राहुल अग्रवाल के मोबाइल में करीब 13 हिंदू लड़कियों से चैटिंग पाई गई है। इसमें तीन लड़कियां ऐसी हैं, जिनसे इस्लाम कबूल करने को लेकर बातचीत हो रही है। एक लड़की राहिल के ऑफिस में ही जॉब करती है। पुलिस अब इन सभी लड़कियों और उनकी फैमिली से संपर्क कर रही है। पुलिस को शक है कि राहिल इन हिंदू लड़कियों का धर्मांतरण कराने की कोशिश में था। संभवत: ऑफिस की दूसरी लड़की का धर्मांतरण आखिरी चरण में था। वह भी लगभग रेडिक्लाइज हो चुकी थी। पुलिस ने बताया कि करीब 650 पेज की चैटिंग इस गिरोह की मिली है। उसे पढ़ा जा रहा है। आरोपियों ने कुछ चैटिंग डिलीट भी की हैं, उसे साइबर सेल के जरिए रिकवर भी कराया जा रहा है।

जेल भेजे गए तीनों आरोपी 

मोहम्मद राहिल उर्फ राहुल अग्रवाल: उम्र 22 वर्ष है। साउथ दिल्ली में संगम विहार का रहने वाला है। नोएडा की सेक्टर-58 स्थित एनजाइजर कंपनी में जॉब करता है।

मोहम्मद मुसीर: उम्र 30 साल है। साउथ दिल्ली में संगम विहार का रहने वाला है और उसी इलाके में एक कोचिंग सेंटर चलाता है।

अब्दुल्ला अहमद उर्फ सौरभ खुराना: उम्र 33 साल है। हरियाणा राज्य में पलवल का रहने वाला है। फिलहाल देवबंद के मदरसे से मौलवी की पढ़ाई कर रहा है।

देवबंद से पढ़ाई कर रहा अब्दुल्ला

गिरफ्तार लोगों में आर न्यू कालोनी, पलवल का निवासी अब्दुल्ला देवबंद के मदरसे से आलिम की पढ़ाई कर रहा है। वह अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से 2014 में बीडीएस कर चुका है। 2014 में ही वह अपना धर्म बदलकर सौरभ से अब्दुल्ला बना। संगम विहार दिल्ली का निवासी मुसीर सिविल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा ले चुका है। फिलहाल बीटेक की पढ़ाई कर रहा है।

अलीगढ़ और देवबंद से भी जुड़े तार

पुलिस का कहना है कि इस गिरोह के तार अलीगढ़ और देवबंद से भी जुड़े हैं। आरोपियों के मोबाइल से दोनों जगह के मौलानाओं के वीडियो मिले हैं। धर्म परिवर्तन के लिए इन वीडियो का इस्तेमाल किया गया। विवादास्पद धर्मगुरु जाकिर नाइक के वीडियो भी मिले हैं।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
3
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments