Saturday, June 22, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsSaharanpurप्राधिकरण की अंधेरगर्दी:

प्राधिकरण की अंधेरगर्दी:

- Advertisement -
  • पहले अभियंता कराते हैं अवैध निर्माण, फिर करते हैं सील
  • वीसी की सख्ती से कुछ जगहों पर हुई है सीलिंग की कार्रवाई
  • शहर में कई जगहों पर नक्शे के विपरीत हो रहा है अवैध निर्माण 

वरिष्ठ संवाददाता  |

सहारनपुर:  पूरे शहर में अवैध निर्माण की बाढ़ आ चुकी है। प्राधिकरण के उपाध्यक्ष आशीष कुमार हालांकि, कार्रवाई कर रहे हैं। लेकिन, वह सिर्फ नामचारे की है। दरअसल, अभियंता निर्माण पूरा होने तक कुछ नहीं बोलते और मुट्ठी गर्म कर लेते हैं। बाद में दिखावे के लिए सीलिंग की कार्रवाई की जाती है। ज्यादातर अवर अभियंता अफसरों को खासकर वीसी और सचिव को गुमराह करते रहते हैं।

सवाल है कि निर्माण शुरू ही क्यों होने दिया जाता है। उसे बीच में ही क्यों नहीं रोका जाता। प्राधिकरण के अधिकारी, अभियंता और बाबू किसलिए मोटी तनख्वाहें ले रहे हैं?

पूरे शहर में इन दिनों अवैध रूप से निर्माण हो रहे हैं। नक्शा आवासीय में है तो निर्माण कामर्शियल किया जा रहा है। कई जगहो पर अवैध रूप से कालोनियां काटी जा रही हैं। इधर, उपाध्यक्ष आशीष कुमार ने सख्त रवैया अपनाया है। उन्होंने कई निर्माण ध्वस्त करा दिए। कई जगहों पर सील की कार्रवाई की गई है।

इसी कड़ी में होली चौक, कायस्थान में अन्नू द्वारा भूतल पर स्वीकृत मानचित्र से अधिक एरिया में फ्रन्ट सैट व साईट सैटबैक कवर करते हुए 22 कालॅम का निर्माण कार्य किया गया। इसे प्राधिकरण ने फिलहाल सील कर दिया है। इसी तरह जोन छह के अन्तर्गत खलासी लाइन, निकट पुलिस चौकी, यहां भूतल पर पूर्व निर्मित दुकान को तोड़कर 06 कालॅम लगाकर फ्रन्ट सैटबैक आच्छादित करते हुए दुकान का निर्माण कार्य कराया जा रहा था।

इसे भी सील किया गया है। जोन-12 के अन्तर्गत नवाबगंज में अमन व नमन द्वारा वर्तमान में प्रथम तल पर कालॅम व चिनाई का कार्य करते हुए छत लेविल पर काम को अंजाम दिया जा रहा था। इसे भी सील किया गया है। सीलिंग की उक्त कार्रवाई अनिल कुमार मिश्रा (अधिशासी अभियन्ता), डीके शमार् (सहायक अभियन्ता), पीके गोयल(अवर अभियन्ता), शील कुमार जैन(अवर अभियन्ता), शमीम अखतर(अवर अभियन्ता) के सहयोग से की गई।

बता दें कि प्राधिकरण के अवर अभियंता ही अवैध निर्माण कार्य कराते हैं। यही लोग पहले सेटिंग करते हैं और फिर बात बिगड़ जाने पर सील की कार्रवाई करते हैं। फिर कंपाउडिंग के नाम पर नक्शा जमा कराते हैं और कुछ ले-दे कर मामले को रफा-दफा कर देते हैं। शहर में कई और जगहें हैं, जहां पर नक्शे को ताक पर रखकर अवैध निर्माण कराया जा रहा है।

जनता रोड पर दर्जनों जगहों पर अवैध रूप से प्लाटिंग हो रही है लेकिन, इस ओर किसी का ध्यान नहीं है। चारों ओर अंधेरगर्दी मची है। प्राधिकरण अपनी स्थापना से लेकर अब तक कोई उपलब्धि हासिल नहीं कर सका है।

अगर कुछ है तो वह बस यही अवैध निर्माण कार्य हैं। इन्हीं के बूते भ्रष्टाचार की गंगा बह रही हैं। हालांकि, ई्मानदार वीसी आशीष कुमार ने कड़ा रुख अपनाया है। ऐसे में इन अभियंताओं के पसीने छूटने लगे हैं।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments