Saturday, June 22, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutपुलिसिया बैसाखी पर निगम

पुलिसिया बैसाखी पर निगम

- Advertisement -
  • भूमि के कब्जे से लेकर विवाद तक सुलझाने में महकमा नाकाम
  • चुनाव में लगी फोर्स के वापस लौटने का विभाग कर रहा इंतजार

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: शहर में अवैध कब्जों की जद में आई अपनी भूमि से लेकर दूसरे तमाम विवादों को सुलझाने में नगर निगम प्रशासन नाकाम दिखाई पड़ता है। विभाग की बेबसी का आलम यह है कि उसे पुलिसिया बैसाखी की जरुरत है। इस बैसाखी के बगैर किसी विवाद का निपटारा नहीं हो पा रहा है। जबकि तमाम संसाधन और व्यवस्था निगम के पास है, मगर उसके बावजूद भी विभाग जमीनों पर हो चुके अवैध कब्जों को हटा पाने में सफल नहीं हो पा रहा है।

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के चलते शहर का अधिकांश फोर्स चुनावी ड्यूटी में लगा रहा। जिसकी वजह से कई बार मांग करने के बाद भी नगर निगम को पुलिस विभाग से फोर्स उलब्ध नहीं हो सकी। जिसकी वजह से जमीनों के अवैध कब्जे हटाने और दूसरे विभागीय विवादों का निपटारा करने में महकमा बेबस दिखाई दिया। अब नगर निगम को दस तारीख में होने वाली मतगणना का इंतजार है ताकि चुनाव में लगी फोर्स वापस अपने मूल तैनाती प्वाइंट पर लौट आए।

फोर्स की कमी में अटके हैं ढलावघर

नगर निगम को फोर्स नहीं मिलने के कारण ही विभाग शहर में बनने वाले ढलावघरों का मामला नहीं सुलझा पा रहा है। जबकि यह स्वच्छता सर्वेक्षण के मद्देनजर महकमे के लिए महत्वपूर्ण है, मगर पुलिस की उपलब्धता नहीं हो पाने की वजह से विभाग विवाद को निपटाने का जोखिम नहीं ले पा रहा है। इतना ही नहीं कूड़ा कलेक्शन के लिए बनने वाले ट्रांसफर सेंटर का कार्य निगम की प्राथमिकता पर है। निजी कंपनी को दिया गया कूड़ा प्रबंधन का प्लान ढलावघर नहीं बन पाने से परवार नहीं चढ़ सकेगा। इतना ही नहीं 2022 के स्वच्छता में बेहतर रैंकिंग का सपना साकार नहीं हो सकेगा।

19 जगहों पर बनेगे कूड़ा ट्रांसफर सेंटर

महानगर में 19 स्थानों पर कूड़ा ट्रांसफर सेंटर बनने प्रस्तावित हैं। यह काम सभी जगहों पर विवाद होने के चलते रुका हुआ है। नगर निगम की टीम ने टीपीनगर, ईदगाह, नूरनगर समेत कुछ जगहों पर पैमाइश कराकर निर्माण कार्य प्रारंभ करने का प्रयास किया था, मगर टीम को लोगों के विरोध झेलना पड़ा और बैरंग ही टीम वापस लौटी। टीपीनगर में व्यापारियों ने निगम के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। फोर्स की मौजूदगी नहीं होने की वजह से काम व्यापार संघ के पदाधिकारियों का मौके पर मुकाबला नहीं कर सकी। अब महकमा निर्माण कार्य शुरू करने के लिए पुलिस फोर्स की उपलब्धता के इंतजार में है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments