Wednesday, February 28, 2024
HomeUttar Pradesh NewsMeerutडिंपल हत्याकांड: पुलिस के हाथ नहीं आया कातिल

डिंपल हत्याकांड: पुलिस के हाथ नहीं आया कातिल

- Advertisement -
  • परिजनों ने बेटी का ब्रजघाट पर किया अंतिम संस्कार

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: नौचंदी थाना क्षेत्र शास्त्री नगर एल ब्लॉक में पत्नी की हत्या कर फरार होने वाले आरोपी पति की तलाश में नौचंदी पुलिस पूरी तरह जुटी है। पुलिस ने उसके संभावित स्थानों पर दबिश दी। लेकिन वह हत्थे नहीं चढ़ पाया। परिजनों ने पोस्टमार्टम होने के बाद शव को ब्रजघाट पर लेकर जाकर अंतिम संस्कार कर दिया।

नौचंदी क्षेत्र एल ब्लॉक शास्त्री नगर में शुक्रवार को डिंपल अरोड़ा उम्र 36 वर्ष का शव खून में रक्तरंजित घर में मिला था। घर के बाहर का ताला लगा हुआ था। डिंपल की नन्द ने मोदीनगर निवासी बीना ने शास्त्री नगर उसके दो बच्चों को लेकर आई थी। बीना ने ही स्थानीय लोगों की मदद से घर के गेट का ताला तुड़वाकर दरवाजा खोला था। लेकिन अंदर डिंंपल का शव खून में लथपथ पड़ा देख सभी के होश फाख्ता हो गये थे।

14 3

मृतका के दोनों बेटों यश और हैप्पी ने ही पुलिस को बताया था कि पापा कमल अरोड़ा और मम्मी के बीच अक्सर लड़ाई झगड़ा रहता था। उन्होंने बताया कि उनके पिता ने उन्हें मोदीनगर में बुआ बीना के घर पर छोड़कर चले गये थे। शुक्रवार की रात मृतका के पिता सीताराम सलूजा निवासी ईस्ट बलदेव पार्क दिल्ली की ओर से दी गई तहरीर पर नौचंदी थाना पुलिस ने धारा 302 में हत्या का मुकदमा दर्ज किया है।

नौचंदी पुलिस का कहना है कि मृतका के ब्रेस्ट से ऊपर और बांये बाजू में धारदार हथियार से वार किये गये गहरे निशान हैं। वहीं सिर पर पीछे की ओर से ज्यादा खून स्राव हो रहा था। जिसके बाद यही प्रतीत होता है कि दोनों पति पत्नी के बीच मारपीट हुई। उसके बाद सिर नीचे जमीन पर गिरने से मौत हो गई। लेकिन अभी पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही सही जानकारी मिल पायेगी।

शनिवार को नौचंदी पुलिस ने आरोपी पति कमल अरोड़ा की गिरफ्तारी के लिए कई स्थानों पर दबिश दी। लेकिन वह पकड़ में नहीं आ पाया। पुलिस लगातार आरोपी कमल की गिरफ्तारी के प्रयास में जुटी है। मृतका डिंपल के पिता सीताराम और भाईयों ने मेडिकल से पोस्टमार्टम होने के बाद शव को अपने साथ ले गये। उन्होंने अपनी बेटी का ब्रजघाट ले जाकर अंतिम संस्कार कर दिया। उधर मृतका के दोनों बेटों को उनकी बुआ अपने साथ मोदीनगर ले गई।

मर्चेंट नेवी में नौकरी लगवाने के नाम पर लाखों रुपये ठगे

कंकरखेड़ा: मर्चेंट नेवी में नौकरी लगवाने के नाम पर 20 लाख रुपये की ठगी का मामला प्रकाश में आया हैं। शनिवार को पीड़ित ने थाने में तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की है। पुलिस जांच में जुटी गई है। सैनिक विहार निवासी लता सुधा ने पुलिस को दी तहरीर देते हुए बताया कि उनके पति का देहांत हो चुका है। बड़ा बेटा निशांत मलिक का दोस्त विशाल सिरोही निवासी सुरूरपुर का घर पर आना जाना था। विशाल ने निशांत की मर्चेंट नेवी में नौकरी लगवाने की बात कही।

उसके बाद विशाल ने अपने साथी आकाश राणा निवासी धनोरा बागपत से मुलाकात कराई। आकाश भी निशांत के घर जाने लगा। निशांत से आकाश राणा ने मर्चेंट नेवी में जान पहचान होने की वजह से नौकरी लगवाने को कहा। एक व्यक्ति की नौकरी लगवाने के नाम पर चार लाख रुपये मांगे। निशांत ने अपने रिश्तेदारी के युवक हिमांशु चौधरी निवासी गांव खटकी, विकास निवासी गांव टांडा सकौती, हिमांशु कुमार निवासी गांव किलोहड़ा भोजपुर गाजियाबाद और देव निवासी पतला गाजियाबाद की भी नौकरी लगवाने की बात विशाल व आकाश से कही।

निशांत समेत अन्य सभी ने युवकों ने आकाश व उसके भाई के खाते में आनलाइन 16 लाख 76 हजार 800 रुपये डाले, जबकि तीन लाख रुपये नगद दिए। उसके बाद नौकरी नहीं लगी। नौकरी न लगने पर पीड़ितों ने अपने रुपये वापस मांगे। जिस पर आरोपियों ने इंकार कर दिया। आरोप है कि कई बार वह आकाश के घर रुपये मांगने पहुंचे। जहां उनके साथ गाली गलौज कर भगा दिया। शनिवार को पीड़ित पक्ष भाकियू-अराजनैतिक के जिलाध्यक्ष आकाश सिरोही व अन्यों के साथ कंकरखेड़ा थाने पहुंचा और तहरीर दी। इंस्पेक्टर देवेश सिंह ने कहा कि जांच कर आरोपियों पर कार्रवाई होगी।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments