Sunday, February 25, 2024
HomeUttar Pradesh NewsMeerutएलिवेटेड सेक्शन: 60 फीसदी से ज्यादा काम पूरा

एलिवेटेड सेक्शन: 60 फीसदी से ज्यादा काम पूरा

- Advertisement -
  • रैपिड की रफ्तार: वायाडक्ट निर्माण में तेजी, अब तक 10 तारिणी स्थापित

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: रैपिड और मेट्रो का मेरठ में काम जोर शोर से जारी है। मंगलवार को यहां 10वीं तारिणी (लॉन्चिंग गैंट्रÑी) स्थापित कर दी गई। एनसीआरटीसी अधिकारियों के अनुसार शीघ्र ही 2 तारिणी और स्थापित कर दी जाएंगी। मेरठ में मेरठ साउथ स्टेशन से मोदीपुरम तक कॉरिडोर की कुल लम्बाई 23 किमी है जिसमें से 18 किमी का हिस्सा एलिवेटेड है और बाकी का अंडर ग्राउंड।

एनसीआरटीसी अधिकारियों के अनुसार मेरठ में जो 18 किमी का एलिवेटेड हिस्सा है उसमें से 11 किमी में वायाडक्ट निर्माण पूर्ण हो चुका है जबकि बाकी के सात किमी के हिस्से में वायाडक्ट का निर्माण तेजी से किया जा रहा है। एनसीआरटीसी का दावा है कि रैपिड निर्माण पूरा होने के बाद मेरठ में परिवहन व्यवस्था विश्वस्तरीय हो जाएगी। रैपिड अधिकारियों के अनुसार एनसीआरटीसी वायाडक्ट निर्माण में प्री-कास्ट सेगमेंट्स का प्रयोग कर रही है।

24 11

इन्हे तारिणी की मदद से लॉन्च करके वायाडक्ट का निर्माण किया जा रहा है। वायाडक्ट निर्माण के लिए 34 मीटर की दूरी पर पिलर्स बनाए गए हैं और 34 मीटर से अधिक की दूरी वाली जगहों पर वायाडक्ट निर्माण के लिए स्पेश स्टील स्पैन स्थापित किए गए हैं।

मेरठ में 4 रैपिड और 13 मेट्रो स्टेशन

मेरठ में रैपिड के कुल चार स्टेशन (मेरठ साउथ, शताब्दीनगर, बेगमपुल और मोदीपुरम) और मेट्रो के कुल 13 स्टेशन बनाए गए हैं। एनसीआरटीसी अधिकारियों के अनुसार यह सभी स्टेशन शीघ्र ही अपना पूर्ण आकार लेने वाले हैं। मेट्रो स्टेशनों में रैपिड वाले चारों स्टेशन तो शामिल होंगे ही, इसके अलावा परतापुर, रिठानी, ब्रह्मपुरी, मेरठ सेंट्रल, भैंसाली, एमईएस कॉलोनी, डौरली, मेरठ नॉर्थ और मोदीपुरम डिपो मेट्रो के स्टेशन होंगे।

चार स्टेशन तैयार सिर्फ फिनिशिंग बाकी

एनसीआरटीसी अधिकारियों के अनुसार मेरठ साउथ, परतापुर, रिठानी और शताब्दी नगर स्टेशनों पर सिविल निर्माण कार्य बिल्कुल अन्तिम दौर में हैं और यहां इसके साथ साथ फिनिशिंग कार्य भी किया जा रहा है। इसके अलावा एलिवेटेड स्टेशनों में प्री-फेब्रिक टेड छत निर्माण का कार्य भी शुरु कर दिया गया है।

25 10

इसके अलावा मेरठ के सभी अंडर ग्राउंड स्टेशनों का निर्माण कार्य भी अपने अन्तिम चरण में है और यहां ट्रैक बिछाने का काम भी शुरु कर दिया गया है। मेरठ के तीनों अंडरग्राउड स्टेशनों को आपस में जोड़ने के लिए टनल का निर्माण कार्य पहले ही पूर्ण कर लिया गया है।

कर्तव्य पथ पर रैपिड की धमक

मेरठ: गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान कर्तव्य पथ पर उत्तर प्रदेश की झांकी में शामिल देश की पहली सेमी हाईस्पीड रैपिड ट्रेन की झलक पाकर दर्शक ऐसे मंत्र मुग्ध हुए की प्रदेश की झांकी को दूसरा पुरस्कार दिलवा दिया। मंगलवार को आयोजित एक समारोह में केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट ने उत्तर प्रदेश के सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के निदेशक को प्रशस्ति पत्र और स्मृति चिन्ह भेंट किया।

26 7

उत्तर प्रदेश की झांकी को सनातन परंपरा के साथ-साथ आधुनिक रैपिड रेल के साथ दर्शाया गया था। देश भर से आए दर्शकों ने रैपिड रेल को बेहद पसंद किया था। इसके साथ-साथ विकसित भारत समृद्ध विरासत थीम पर उत्तर प्रदेश की झांकी में ब्रह्मोस मिसाइल, आत्मनिर्भर भारत की झलक पेश करती देश की पहली रैपिड ट्रेन और सनातनी परंपरा को दशार्या गया था।

देश के 75वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर कर्तव्य पथ पर निकली झांकियों में 16 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के साथ-साथ 9 मंत्रालयों की अलग-अलग झांकियां भी शामिल की गई थी। यूपी की जिस झांकी को पीपल चॉइस के आधार पर दूसरा पुरस्कार मिला है उसमें रैपिड रेल को मुख्य रूप से दर्शाया गया था।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments