Wednesday, February 21, 2024
HomeUttar Pradesh NewsMeerutनकली नेवी कमांडर एसटीएफ के शिकंजे में

नकली नेवी कमांडर एसटीएफ के शिकंजे में

- Advertisement -
  • नौकरी के नाम पर लाखों कमाए, आर्मी इंटेलीजेंस की सूचना पर हुई कार्रवाई

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: उधमपुर से आर्मी इंटेलीजेंस की एक सूचना पर एसटीएफ मेरठ ने नोएडा से एक नकली नेवी कमांडर अतुल माथुर को पकड़ा है, जो ग्रामीण क्षेत्र के युवक और युवतियों को सेना में नौकरी दिलाने के नाम पर लाखों रुपये ऐंठ रहा था। आरोपी के पास से तमाम कागजात, सेना की वर्दियां आदि बरामद हुई है। एएसपी एसटीएफ ब्रजेश कुमार सिंह ने बताया कि भारतीय रक्षा मंत्रालय व भारतीय सेना में सरकारी पद नियुक्ति के लिए फर्जी तरीके से धन उगाही करने वाले संगठित गिरोहों के सम्बन्ध में सूचनाएं प्राप्त हो रही थी।

15 2

अभिसूचना संकलन/मिलिट्री इंटेलीजेन्स (उधमपुर जम्मू-कश्मीर) द्वारा गोपनीय सूचना के माध्यम से पता चला कि 28 फरवरी को भारतीय रक्षा मंत्रालय व भारतीय सेना में सरकारी नौकरी के नाम पर फर्जी तरीके से धन उगाही करने वाले संगठित गिरोह के सरगना सेक्टर-120 आम्रपाली जोडियॉक अपार्टमेंट नोएडा थाना सेक्टर-113 कमिश्नरेट गौतमबुद्धनगर अपनी गाड़ी से आने वाला है। इस सूचना पर निरीक्षक यतीन्द्र शर्मा, रामनरेश सिंह, बृजराज सिंह, अरविन्द सिंह, बलदेव सिंह द्वारा अभियुक्त को गिरफ्तार कर लिया गया।

एएसपी ने बताया कि गिरफ्तार अभियुक्त सरगना अतुल माथुर (फर्जी लेप्टीनेंट कमांडर) ने पूछताछ में बताया कि बेरोजगार युवकों को सेना में भर्ती कराने के नाम पर प्रत्येक युवक से 10-20 लाख रुपये लिये जाते हैं। साथ ही उनसे उनके शैक्षिक, जाति, निवास प्रमाण-पत्रों आदि कि मूल कॉपी रख ली जाती है। इन युवकों को सनी कुमार जोकि मेरा भाई है व बृजकिशोर निवासी नंगला अस्थर, थाना सहावरगेट, जनपद कासगंज, विपिन कुमार निवासी राया मथुरा अमित वाष्णेय पुत्र अशोक कुमार निवासी डिवाई बुलंदशहर हम अपने सम्पकों के माध्यम से फर्जी भर्ती प्रक्रिया के लिए अजय उर्फ अनिल कुमार निवासी मेरठ,

16 2

जोकि भारतीय रक्षा मंत्रालय में मिनिस्टीरियल स्टाफ है, जो अभ्यर्थियों के फार्म में कूटरचना करके एवं भारतीय रक्षा मंत्रालय का गेट पास बनवाता है और उन्हें अभ्यर्थियों को देकर भ्रम में डालता है कि आपकी ज्वाइनिंग विभिन्न पदों पर सही तरीके से हो रही है। हमारे पास आये हुए ग्रामीण युवक-युवतियों को मेरे द्वारा खुद को लेप्टीनेंट कमांडर, इंडियन नेवी के पद पर प्रदर्शित कर युवकों को भरोसे में लेकर उनकी फर्जी भर्ती प्रक्रिया की जाती है। भर्ती प्रक्रिया से प्राप्त धन हम लोग आपस में बांट लेते हैं।

सेना की वर्दी, कागजात बरामद

फर्जी सैन्य अधिकारी के पास से एसटीएफ को इंडियन आर्मी, इंडियन नेवी के अफसरों की यूनिफार्म, स्टांप, पैड, नेम प्लेट, कैंटीन कार्ड, आर्मी कैरी बैग, कार, मोबाइल, चेकबुक, आधार कार्ड, आईकार्ड, एटीएम, आईडी कार्ड सहित अन्य चीजें बरामद हुई हैं। अतुल की निशानदेही पर एसटीएफ और पुलिस गैंग के दूसरे लोगों को पकड़ने के लिए दबिश दे रही है। इनके खिलाफ नोएडा सेक्टर 113 थाने में मुकदमा भी कराया गया है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments