Wednesday, May 29, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutकिस पार्टी से कितनी महिला पार्षद जीतकर निगम पहुंची

किस पार्टी से कितनी महिला पार्षद जीतकर निगम पहुंची

- Advertisement -
  • मेयर पद तो छोड़िए 90 वार्डों में से एक भी वार्ड में पार्षद पद पर जीत दर्ज नहीं करा पाई आप

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: नगर निगम में 90 वार्डों के चुनाव में किस पार्टी से कितनी महिलाएं जीतकर पार्षद विजयी हुई और निगम के नए बोर्ड में शामिल हुई। सबसे बड़ी बात आम आदमी पार्टी के लिये यह रही कि मेयर पद पर महिला प्रत्याशी होने के बावजूद वह खुद तो बेहतर प्रदर्शन कर नहीं पाई बल्कि एक भी वार्ड में पार्षद पद पर जीत दर्ज नहीं करा सकी।

जबकि यदि महिला पार्षदों को लिया जाये तो 90 में 34 पार्षद विजयी होकर नए बोर्ड में शामिल होंगी। गृहकर हाफ-जलकर माफ का नारा देने वाली आम आदमी पार्टी मेयर पद तो छोड़िए एक भी पार्षद जीताकर पार्टी के लिये खाता तक नहीं खोल सकी। जबकि यदि महिला प्रत्याशियों को देखा जाये तो तीन महिला पार्षद विजयी होकर निगम के बोर्ड में शामिल होंगे।

नगर निगम के चुनाव में इस बार भाजपा ने 90 वार्डों वाले निगम बोर्ड में 42 पार्षद पद जीतकर प्रथम स्थान पर रही। वहीं यदि महिला पार्षदों को देखा जाये तो महिला पार्षद पद पर भी भाजपा प्रथम स्थान पर रही। सभी मुख्य पार्टियों के द्वारा जो महिला पार्षदों को चुनाव मैदान में उतारा गया था। उनमें से कई महिला पार्षद जीतकर निगम नए बोर्ड में शामिल हो गई।

16 14

जबकि आप द्वारा मेयर पद पर महिला प्रत्याशी ऋचा सिंह को चुनाव मैदान में उतारा गया था और पार्षद पद पर भी वार्डों में अपने प्रत्याशी उतारे थे, लेकिन वह भी मेयर प्रत्याशी की तरह बेहतर प्रदर्शन नहीं कर सके। जिसके चलते पार्टी एक भी पार्षद पद पर जीत दर्ज नहीं करा सकी। जबकि सभी पार्टियां खाता खोलने में कामयाब रही।

जिसमें भाजपा महिला पार्षदों को देखा जाये तो 11 महिला पार्षद चुनाव में विजयी हुई। जबकि सपा 8 महिला पार्षद पदों पर जीतकर दूसरे स्थान पर रही और एआईएमआईएम ने 5 पदों पर जीत दर्ज कर तीसरे स्थान पर रही। आजाद समाज पार्टी काशीराम ने 2, लोकदल ने 1 कांग्रेस ने 1, बसपा ने 1 महिला पार्षद सीट पर जीत दर्ज की।

जबकि 4 महिला पार्षद जीतकर निगम के नए बोर्ड में शामिल हुई। जबकि आप एक भी वार्ड में चुनाव जीतकर खाता तक नहीं खोल पाई। आप पार्टी के द्वारा मेयर पद पर जलकर माफ-गृहकर हाफ का नारा देने के बावजूद जमानत तक नहीं बचा सकी।

जबकि पार्षद पद पर देखा जाये तो निर्दलीय प्रत्याशियों से भी निराशाजनक परिणाम रहा। सभी पार्टी से पुरुष पार्षदों को भी छोड़ दिया जाये तो महिला पार्षद के पद पर भी सभी पार्टियां खाता खोलने में कामयाब रही, जबकि आप का न तो पुरुष व न ही महिला सीट पर चुनाव जीतकर पार्टी के लिए नगर निगम में खाता नहीं खोल सकी।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments