Friday, June 14, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutगांधी आश्रम: रावत के खिलाफ चार्जशीट तैयार

गांधी आश्रम: रावत के खिलाफ चार्जशीट तैयार

- Advertisement -
  • रंग लाई ‘जनवाणी’ की मुहिम, सरकारी दस्तावेज और आॅफिस की चॉबी जमा कराने के दिये आदेश

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: जनवाणी की मुहिम एक बार फिर से रंग लाई है। गांधी आश्रम की सम्पत्ति का विवाद सुलझ नहीं रहा। दुर्भाग्यपूर्ण बात ये है कि इसमें ठोस कार्रवाई किसी भी स्तर से अब तक नहीं हो पाई है। यही वजह है कि भू-माफिया सक्रिय हैं। निवर्तमान मंत्री पृथ्वी सिंह रावत पर शिकंजा अब कसा जा रहा हैं। उनके खिलाफ चार्जशीट लगाई जा रही हैं।

13 27

रावत से मंडलीय निदेशक/प्रशासन ने सरकारी दस्तावेज, आॅफिस की चॉबी और अन्य सामान जमा कराने के लिए कहा है। प्रशासक की इस कार्रवाई से अब हड़कंप मच गया हैं। क्योंकि एफआईआर होने के बाद भी निर्वतामन मंत्री पृथ्वी सिंह रावत के खिलाफ कोई कार्रवाई अभी नहीं हुई थी, जिसके चलते गांधी आश्रम में तमाम गतिविधियों ये ग्रुप संचालित कर रहा हैं।

11 29

संस्था के प्रशासक ने चार्जशीट देने के लिए कहा गया है। मंडलीय निदेशक मेरठ को क्षेत्रीय श्री गांधी आश्रम गढ़ रोड मेरठ का प्रशासक नियुक्त किया गया था। इसके बाद 11 अप्रैल 2023 को आश्रम के समस्त कार्यकर्ताओं के साथ मीटिंग भी की गई थी। तब नितेश धवन मंडलीय निदेशक के स्थानांतरण के बाद मंडलीय कार्यालय मेरठ में निदेशक व प्रशासक के पद पर कार्य किया गया था।

12 27

मंडलीय निदेशक को अब पत्र लिखकर कहा गया है कि क्षेत्रीय श्री गांधी आश्रम गढ़ रोड मेरठ के मंत्री से संबंधित जो भी सूची सरकारी दस्तावेज, कागजात, आॅफिस चॉबी एवं अन्य जो भी आपके पास है, उन्हें निदेशक/प्रशासक के चार्ज में अविलंब जमा कराने के लिए कहा गया हैं। साथ ही जमा नहीं कराने की दशा में यह भी चेतावनी दी है कि यदि समय से आप सरकारी दस्तावेज जमा नहीं कराते है तो आप स्वयं जिम्मेदार होंगे।

यदि इस आदेश का पालन नहीं किया जाता है तो संस्था के निवर्तमान मंत्री पृथ्वी सिंह रावत पर नियमानुसार कार्रवाई करने की चेतावनी भी दी गई है। दरअसल, पृथ्वी सिंह रावत क्षेत्रीय श्री गांधी आश्रम के मंत्री पद पर रहे हैं। उनके खिलाफ हजरतगंज कोतवाली लखनऊ में भी मुकदमा भी दर्ज है। अन्य 10 लोगों के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज हैं। कई जांच भी उनके खिलाफ चल रही है।

14 25

इन तमाम मामलों को लेकर निवर्तमान मंत्री पृथ्वी सिंह रावत पर निदेशक/प्रशासक ने शिकंजा कस दिया है। अब तक कोई कार्रवाई पृथ्वी सिंह रावत के खिलाफ नहीं हुई है, जिसके चलते तमाम गतिविधियों को पृथ्वी सिंह रावत गांधी आश्रम में संचालित कर रहे हैं। गांधी आश्रम की करोड़ों की संपत्ति को बेचने का आरोप भी निवर्तमान मंत्री पृथ्वी सिंह रावत पर लगा था। उन्होंने ही कुछ लोगों को डीड कर दी थी, जिसके बाद गांधी आश्रम की ऐतिहासिक बिल्डिंग को तोड़कर क्षति पहुंचाई गई थी।

इससे संबंधित मामला लखनऊ हजरतगंज कोतवाली में दर्ज हुआ था। अब प्रशासनिक स्तर से भी जांच चल रही थी, लेकिन मंडलीय कार्यालय के निदेशक की तरफ से अब पृथ्वी सिंह रावत ने वर्तमान मंत्री को कह दिया गया है कि अविलंब तमाम दस्तावेज, कागज, आॅफिस की चॉबी एवं अन्य जो भी उनके पास आॅन रिकॉर्ड दस्तावेज है। उनको निदेशक आॅफिस में उपलब्ध कराएं। अन्यथा कार्रवाई के लिए तैयार हैं।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
3
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments