Monday, March 1, 2021
Advertisment Booking
Home Uttar Pradesh News Meerut ओलंपिक कोटा के पीछे प्रियंका की 10 साल की मेहनत

ओलंपिक कोटा के पीछे प्रियंका की 10 साल की मेहनत

- Advertisement -
0
  • प्रियंका के माता-पिता और कोच गौरव त्यागी ने बताई संघर्ष की कहानी
  • फिलहाल बेंगलुरू में कैंप में शामिल हैं प्रियंका

जनवणी संवाददाता |

मेरठ: रांची में हुई नेशनल एथलेटिक प्रतियोगिता में पैदल चाल में स्वर्ण पदक के साथ नेशनल रिकॉर्ड अपने नाम कर मेरठ की एथलीट प्रियंका गोस्वामी ओलंपिक कोटा हासिल कर चुकी हैं। जिससे खेल जगत में हर्ष का माहौल है, लेकिन प्रियंका की इस उपलब्धि के पीछे करीब 10 वर्षों की उनकी मेहनत और संघर्ष छिपा हुआ है।

मुजफ्फरनगर से प्रियंका का परिवार काफी समय पहले ही मेरठ आ गया था। वॉक रेस से पहले प्रियंका ने जिम्नास्टिक में भी अपना हाथ आजमाया था। उनके पिता मदनपाल सिंह ने बताया कि स्कूली स्तर पर पहले प्रियंका ने जिम्नास्टिक के ट्रायल दिए। जिसके बाद गोरखपुर हॉस्टल भी कुछ समय वह रहीं, लेकिन बाद में उन्होंने जिम्नास्टिक को छोड़ एथलेटिक अपनाया।

मेरठ में वर्ष 2010 में पिता मदनपाल की नौकरी रोडवेज में लगी, लेकिन उच्चाधिकारियों की मिलीभगत के कारण उनको नौकरी गंवानी पड़ी। ऐसे में परिवार को मुसीबतों का भी सामना करना पड़ा, लेकिन इसके बावजूद अन्य काम करते हुए प्रियंका और उनके भाई कपिल को पिता ने पढ़ाने के साथ खेलों से भी जोड़ा।

वहीं, पटियाला स्नातक की पढ़ाई करते हुए प्रियंका ने एक समय का भोजन गुरुद्वारे में किया। उनकी माता अनीता गोस्वामी ने बातचीत में कहा कि प्रियंका ने हमारा नाम रौशन किया है। साथ ही आशा करते हैं कि बेटी ओलंपिक में भी पदक जीतकर लौटे।

प्रियंका ने पूरा किया सपना: गौरव त्यागी

प्रियंका के कोच गौरव त्यागी का कहना है कि प्रियंका के ओलंपिक कोटा हासिल करने से मेरा सपना साकार हो गया है। इसके पीछे प्रियंका की सालों की मेहनत है। उन्होंने कहा कि पैदल चाल इवेंट को ज्यादातर सही तरीके से नहीं देखा जाता है, लेकिन इसी इवेंट में प्रियंका ने न सिर्फ नेशनल रिकॉर्ड दर्ज किया बल्कि टोक्यो ओलंपिक का टिकट भी हासिल किया। हर कोच का यह सपना होता है, जोकि प्रियंका के जरिए पूरा हुआ है।

वर्ष 2011 में प्रियंका मेरे पास आई थी। जिसके बाद उन्हे वॉकिंग कराना शुरु किया और इसमें प्रियंका ने प्रदर्शन भी शानदार दिया। वहीं, नेशनल प्रतियोगिता में प्रियंका का लक्ष्य ओलंपिक क्वालीफाई से ज्यादा नेशनल रिकॉर्ड हासिल करना था। जिसके बाद उन्हें इसकी खुशी भी बहुत हुई। बताते चले कि फिलहाल प्रियंका बंगलुरु में चल रहे कैंप का हिस्सा है।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments