Monday, June 17, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutशहीदों की वीरगाथा भूल योग्य नहीं: धनखड़

शहीदों की वीरगाथा भूल योग्य नहीं: धनखड़

- Advertisement -
  • उपराष्ट्रपति, राज्यपाल और मुख्यमंत्री ने धनसिंह कोतवाल की प्रतिमा पर किया माल्यार्पण
  • पीटीसी में उपराष्ट्रपति ने शहीद धनसिंह कोतवाल प्रतिमा का किया अनावरण

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: सीसीएसयू में आयुर्वेद महासम्मेलन के बाद भारत उपराष्ट्रपति, राज्यपाल व मुख्यमंत्री का काफिला पुलिस प्रशिक्षण केन्द्र में शहीद धन सिंह गुर्जर कोतवाल की प्रतिमा का अनावरण कार्यक्रम में पहुंचा। उपराष्ट्रपति के द्वारा पीटीसी प्रांगण में शहीद धन सिंह गुर्जर कोतवाल प्रतिमा का अनावरण कर माल्यार्पण किया गया। उसके बाद स्वतंत्रता सेनानी की लगी चित्रप्रदर्शनी क ा भी भावपूर्ण अवलोकन किया।

आयुर्वेद महासम्मेलन के बाद भारत उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ व उनकी पत्नी सुदेश धनखड़, उत्तर प्रदेश राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का काफिला दो बजे के आसपास पुलिस प्रशिक्षण केन्द्र पहुंचा। काफिले के पीटीसी में पहुंचते ही अपर महानिदेशक पुलिस प्रशिक्षण अंजू गुप्ता ने आगवानी करते हुए उनका स्वागत किया। काफिले के आगे-आगे स्वागत में पुलिसकर्मियों के घुड़सवार चल रहे थे। वहीं पुलिसकर्मी बैंडबाजों से उनका स्वागत अभिनंदन कर रहे थे।

16 11

इसके बाद भारत के उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शहीद धनसिंह गुर्जर कोतवाल की प्रतिमा का अपने हाथों से अनावरण कर माल्यार्पण कि या। महानिदेशक पुलिस प्रशिक्षण अनिल अग्रवाल ने सभी क ा स्वागत परिचय कराते हुए धनसिंह कोतवाल के जीवन के चित्रण पर प्रकाश डाला। उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने कहा कि आज को ये जो स्वाधीनता सेनानी का कार्र्यक्रम है ये बदलते भारत की तस्वीर है। आपके उत्तर प्रदेश में बड़ा बदलाव आया है।

पिछले छह वर्ष में ऐसा बदलाव आया है जो सोचा नहीं जा सकता। मैंने ऐसी प्रतिमा का अनावरण किया है। जिसने 1857 के संग्राम में कितनी बड़ी भूमिका निभाई। वहीं, शहीदों की वीरगाथा भूल योग्य नहीं है। धनसिंह कोतवाल ने ऐसा काम किया कि उन्होंने कोतवाली में बंद उन 800 भारतीयों को रिहा कर दिया। जिन्हें अंग्रेजों ने उनकी कोतवाली में बंद करवा दिया था। आज भारत की गिनती पांच आर्थिक महाशक्तियों में गिनी जाती है। आने वाले समय में भारत वर्ल्ड में तीसरी शक्ति बनकर उभरेगा। आज पूरा विश्व भारत का दबाव मान रहा है।

उन्होंने कहा कि मुझे हर्ष है कि कोतवाल के नाम से इस प्रशिक्षण केन्द्र में करोड़ा रुपये खर्च करने की योजना बनी है। आने वाले समय में इस पंडाल की जरुरत नहीं है बड़ा आडिटोरियम बनने वाला है। मुख्यमंत्री ने उपराष्टÑपति की पत्नी सुदेश धनखड़ को स्मृति चिन्ह प्रदान कर सम्मानित किया। वहीं ऊर्जा राज्य मंत्री सोमेन्द्र तोमर ने धनसिंह कोतवाल गुर्जर का तैलचित्र उपराष्टÑपति, मुख्यमंत्री, राज्यपाल को भेंट किया।

15 13

महानिदेशक पुलिस प्रशिक्षण अनिल अग्रवाल ने राज्यपाल को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। वहीं अपर पुलिस महानिदेशक पुलिस प्रशिक्षण अंजू गुप्ता ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। कार्यक्रम में सांसद राजेन्द्र अग्रवाल, राज्य सभा सांसद लक्ष्मीकांत, राज्यसभा सांसद विजय पाल तोमर, ऊर्जा राज्य मंत्री सोमेन्द्र तोमर, मंत्री दिनेश खटीक, मोहित बेनीवाल, अश्विनी त्यागी आदि मंचासीन रहे।

20-25 एएनएम ने पुलिस अफसरों के छुड़ाये पसीने

पीटीएस गेट पर सीएम के काफिले से चंद मिनटों पहले ही बीस पच्चीस की संख्या में एएनएम अपनी समस्याओं के निदान के लिए सीएम से मिलने पहुंच गई। गेट पर एएनएम के पहुंचने और सीएम से मिलने की जिद के बाद मौके पर खड़े पुलिस अफसरों में खलबली मच गई। सीएम और उपराष्टÑपति सहित गर्वनर का काफिला पीटीएस गेट पर पहुृंचने वाला ही था कि आईजी और एडीजी को डयूटी पर तैनात एक सीओ ने जानकारी दी कि गेट नंबर 1 पर बीस पच्चीस की संख्या में एएनएम सीएम से मिलकर शिकायत करने वाली हैं।

यह देख एसएसपी और आईजी व एडीजी के पसीने छूट गए। उन्होंने तत्काल एसपी देहात अनिरुद्ध कुमार को बुलाया और गेट नंबर 1 पर डटी सभी एएनएम को वहां से हटाने के लिए कहा। वहीं एसएसपी और एसपी देहात ने गेट पर आई सभी एएनएम को वहां से हटाकर गेट नंबर 2 पर ले जाया गया। जब तक सीएम कार्यक्रम समापन के बाद निकल नहीं गए। तब तक सभी को पुलिस ने अपनी कस्टडी में रखते हुए पीटीएस से दूर रखा।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments