Friday, January 27, 2023
- Advertisement -
- Advertisement -
Homeसंवादसंस्कारघर हमारा सुरक्षा कवच

घर हमारा सुरक्षा कवच

- Advertisement -


प्रयत्न यही करना चाहिए कि अपने घर को घर बनाया जाए उसे ईंट-पत्थरों का मकान न बनने दिया जाए। यदि वह घर केवल मकान या बिल्डिंग ही बनकर रह जाएगा, तो वहां रहने वाले सभी सदस्यों की संवेदनाएं मृतप्राय हो जाएंगी। वहां प्राय: झगड़े होते रहते हैं। कोई किसी की बात नहीं सुनता। सभी मनमानी करते रहते हैं। यह किसी घर के लिए कभी अच्छी स्थिति नहीं हो सकती।

हमारा घर हमारे लिए सुरक्षा कवच होता है। यहां आकर हम दिनभर की थकान से मुक्त होकर तरोताजा हो जाते हैं। घर में पलक पाँवड़े बिछाए हमारे अपने दिन-रात हमारी प्रतीक्षा में बैठे रहते हैं। उन्हें हमारी चिन्ता रहती है। इसलिए वे हमारी खोज-खबर रखना चाहते हैं। अपनों का साथ हर मनुष्य के लिए सदा ही बहुत सुखदायक होता है। वे लोग बहुत दुर्भाग्यशाली होते हैं जिन्हें कोई भी नहीं पूछता। कोई भी उनकी प्रतीक्षा में बैठा नहीं होता। वे तरसते हैं कि कोई उनका हाल-चाल पूछे, उनकी देखभाल करे, उनसे जब गलती हो जाए तब उन्हें जी भर कर डाँटे-फटकारे। उनके प्रति अपनेपन का भाव रखे।

यह सब अपना-अपना भाग्य होता है कि किसी की सभी इच्छाएं स्वत: ही पूर्ण हो जाती हैं और कोई आजन्म तरसता ही रह जाता है कि कोई तो होता जो उसका अपना कहलाता।

इनके विपरीत कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जिनकी परवाह करने वाले होते है और वे उससे परेशान होकर चिड़ जाते हैं। उन्हें ऐसा लगता है कि मानो उनकी आजादी पर प्रहार हो रहा है और इससे उनकी जिन्दगी नरक बनती जा रही है। वे किसी के प्यार व अपनेपन का सम्मान करना ही नहीं जानते। पता नहीं किस अहंकार के नशे में रहते हैं। फिर धीरे-धीरे उनके रूखे-रूखे व्यवहार तथा दिन-प्रतिदिन की खिचखिच से तंग आकर परिवारी जन उनकी परवाह करना छोड़ देते हैं।

एक समय ऐसा भी आता है जब वे परेशानियों में डूबे होते हैं और उन्हें किसी सहारे अथवा कन्धे की आवश्यकता होती है तब वह उपलब्ध नहीं होता। उस समय उन्हें अहसास होता है कि जीवन में कितनी बड़ी भूल कर दी है उन्होंने। उस समय बस पश्चाताप करना ही शेष बचता है।

प्रयत्न यही करना चाहिए कि अपने घर को घर बनाया जाए उसे र्इंट-पत्थरों का मकान न बनने दिया जाए। यदि वह घर केवल मकान या बिल्डिंग ही बनकर रह जाएगा, तो वहां रहने वाले सभी सदस्यों की संवेदनाएं मृतप्राय हो जाएंगी। वहां प्राय: झगड़े होते रहते हैं। कोई किसी की बात नहीं सुनता। सभी मनमानी करते रहते हैं। यह किसी घर के लिए कभी अच्छी स्थिति नहीं हो सकती।

समय रहते यदि मनुष्य चेत जाए, तो वह बहुत-सी समस्याओं से छुटकारा पाने में समर्थ हो सकता है। अपनों के विषय में सोचना, उनकी चिन्ता करना, किसी भी तरह से उनके मौलिक अधिकारों का हनन करना नहीं कहलाता। इसे दूसरी तरह से मानना चाहिए। पूरा शहर बसे पर कोई यह सोचने का कष्ट नहीं करता कि हम कैसे हैं? हम स्वस्थ हैं या नहीं, हम भूखे सो रहे हैं या पेटभर खाना खा लिया है। कोई अपना होगा तो हमारी परेशानी में दस बार आकर हमें पूछेगा। हमारी परेशानियों को बाँटने की कोशिश करेगा ताकि हम कष्ट से मुक्ति पा सकें।

सभी सुधी मित्र मेरी इस बात से सहमत होंगे कि घर में रहने वालों में सदा परस्पर प्यार होना चाहिए, एक-दूसरे की सुख-दुख में परवाह करने वाले होने चाहिए। घर के सभी सदस्य आपसी सामञ्जस्य से रहें। छोटे बड़ों का सम्मान करें और छतनार वृक्ष की भांति बड़ों की छत्रछाया छोटों को मिलती रहे। बिना हील हुज्जत के एक-दूसरे की बातों को समझें और मान लें। ऐसा ही घर स्वर्ग के समान सुन्दर व सुखदायी होता है जिसकी शीतल छाया अपने पास से गुजरने वालों को भी ठंडक देती है।

ऐसे परिवार के लोग सबकी प्रशंसा का पात्र बनते हैं। वहां यदि किसी कारणवश सुविधाओं की कमी हो, तो भी किसी को कानोंकान भनक तक नहीं लगती। सुख हो या दुख हर परिस्थिति में वे सभी एकसमान रहकर समय के गुजर जाने की प्रतीक्षा करते हैं। ईश्वर से प्रार्थना है कि ऐसा घर-परिवार रूपी सुरक्षा कवच सभी को दे जिसमें रहते हुए हर मनुष्य सुख, शांति व समृद्धि का उपभोग करे।

                                                                                                                चन्द्र प्रभा सूद


What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments