Monday, June 14, 2021
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutकोरोना मुक्त गांवों की संख्या बढ़ायें, प्रधानमंत्री ने किया डीएम से संवाद

कोरोना मुक्त गांवों की संख्या बढ़ायें, प्रधानमंत्री ने किया डीएम से संवाद

- Advertisement -
0
  • वैक्सीनेशन कलेंडर बनाकर करें व्यापक प्रचार प्रसार

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: प्रधानमंत्री भारत सरकार नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से देश के विभिन्न राज्यों के जिलाधिकारियों से कोरोना महामारी नियंत्रण के संबंध में उनके द्वारा किये गये प्रयासो के बारे में जानकारी ली।

उन्होंने कोरोना मुक्त ग्रामों की संख्या बढ़ाने व वैक्सीनेशन कलेंडर बनाकर उसका व्यापक प्रचार-प्रसार कराने के लिए कहा। इस दौरान उन्होंने कहा कि कोरोना वैश्विक महामारी से लड़ाई में निरंतर चेंज, निरंतर अपगे्रडेशन व निरंतर इनोवेशन बहुत जरूरी है। अगर कहीं वैक्सीन वेस्टेज है तो उसको रोका जाये।

जिलाधिकारी कोरोना वैश्विक महामारी नियंत्रण के संबंध में अपने अनुभव, प्रयास को साझा करते हुये जिले में डिस्ट्रिक्ट गजेटियर बनाये।

प्रधानमंत्री ने जिलाधिकारियों से कहा कि आपने संसाधनों का बेहतर उपयोग कर इस लहर का मुकाबला किया। आप लोगों ने अपने जिले में होने वाली छोटी से छोटी दिक्कतों को दूर किया। आप सभी के प्रयास सराहनीय है। नयी चुनौतियों के लिए हमें नये समाधान की आवश्यकता होती है, इसलिए हमें स्थानीय अनुभवों को साझा करते हुये देश के रूप में मिलकर कार्य करना है। प्र

धानमंत्री ने कहा कि ग्रामों में कोविड टेस्टिंग की सुविधा को अधिक से अधिक ग्रामवासियों तक पहुंचाये, ग्रामवासियों से बेहतर समन्वय व संवाद बनाये, आपके संवाद से उनकी आशंकाएं आत्मविश्वास में बदल जाती है। ग्राम-ग्राम में यही संदेश दें कि ग्रामों को कोविड से मुक्त रखना है। ग्रामों में सही बात समय पर पहुंचाने पर ग्रामवासी उसको तन्मयता से अपनाते हैं।

वैक्सीनेशन कलेंडर बनाकर उसका व्यापक प्रचार-प्रसार अलग-अलग मीडिया प्लेटफार्म के माध्यम से कराये। कोरोना महामारी से लड़ाई में निरंतर चेंज, निरंतर अपगे्रडेशन व निरंतर इनोवेशन बहुत जरूरी है। कोरोना नियंत्रण में डायनेमिक तरीके व डायनेमिक एप्रोच हो तथा यूनिक प्राब्लम का समाधान भी यूनिक हो। अगर कहीं वैक्सीन वेस्टेज है तो उसको रोका जाये।

उन्होने कहा कि टियर-2 और टियर-3 जिलों का अलग से मूल्यांकन करना चाहिए। वायरस के म्यूटेशन से बच्चो व युवाओ पर चिंता जताई जा रही है। हमें आगे के लिए और अधिक तैयार रहना होगा। सभी जिलो के अधिकारी कोरोना महामारी नियंत्रण के संबंध में अपने अनुभव, प्रयास को साझा करते हुये जिले में डिस्ट्रिक्ट गजेटियर के रूप में बनाये ताकि आने वाली पीढ़ियों को आपके अनुभव व प्रयासो का फायदा होगा।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments