Sunday, July 21, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerut55 लाख की लागत से बने पुल में बरती अनियमितताएं

55 लाख की लागत से बने पुल में बरती अनियमितताएं

- Advertisement -
  • हस्तिनापुर-चांदपुर सीमा को जोड़ने वाले पुल का दौरा और हो छोटे पुलों का निर्माण
  • विद्युत विभाग बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में बढ़ा-चढ़ाकर भेज रहा बिल

जनवाणी संवाददाता |

हस्तिनापुर: शनिवार को बाढ़ प्रभावित ग्रामीणों के समस्याओं के निवारण के लिए तारापुर स्थित जूनियर हाईस्कूल में डीएम की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई। बैठक में डीएम ने ग्रामीणों से सीधे संवाद कर समस्यों के जल्द से जल्द निवारण का आश्वासन दिया। ग्रामीणों द्वारा बूढ़ी गंगा सोती पर 55 लाख रुपये की लागत से बनाए जा रहे पुल के निर्माण में बरती जा रही अनियमितताओं, टूटी सड़कों की मरम्मत कराने, तटबंध को जल्द से जल्द दुरुस्त कराए जाने के दिशा निर्देश आलाधिकारियों को दिये।

डेढ़ महीने से बाढ़ की विभीषिका झेल रहे ग्रामीणों के लिए शनिवार को डीएम दीपक मीणा ने सीधे संवाद के तहत बैठक आयोजित कर ग्रामीणों की समस्याऐं सुनी। सीधे संवाद के तहत आयोजित बैठक में ग्रामीणों ने हाल ही में मालीपुर रठौढ़ा सीमा को जोड़ने के लिए बूढ़ी गंगा नदी पर 55 लाख की लागत से बनाये गये पुल में अनियमिताएं बरते जाने का आरोप लगाते हुए जांच की मांग की।

27 13

किसान नेता जज सिंह ने ग्रामीणों को आने वाले समय में बाढ़ से बचाने के लिए नदी के दोनों और तटबंध बनवाए जाने, विद्युत विभाग द्वारा बढ़ाकर भेजे जा रहे बिलों को सही कराकर जाने, बाढ़ प्रभावित गांवों में नष्ट हुई फसलों का आकलन कर किसानों को जल्द से जल्द मुआवजा दिलाये जाने आदि सहित कई मांग रखी।

वहीं कई अन्य ग्रामीणों ने विद्युत, पेयजल, टीकाकरण, साफ-सफाई और नियमित रूप से पशुओं का चेकअप और टीकाकरण किये जाने की मांग की। जिस पर डीएम ने संबधित विभाग के अधिकारियों को ग्रामीणों को होने वाली समस्याओं को जल्द से जल्द निराकरण किये जाने के दिशा निर्देश दिये।

एसएसपी रोहित सिंह सजवाण, सीएमओ अखिलेश मोहन, एडीएम (एफआर) सूर्यकांत त्रिपाठी, बीएसए आशा चौधरी, डीपीआरओ रेणु श्रीवास्तव, एसडीएम अखिलेश यादव व लोक निर्माण विभाग, कृषि विभाग, खाद्य एवं आपूर्ति विभाग, समाज कल्याण आदि विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।

पीएचसी में अव्यवस्थाओं का बोलबाला, डीएम ने लगाई फटकार

शनिवार को तारापुर स्थित जूनियर हाईस्कूल परिसर में आयोजित संवाद कार्यक्रम में ग्रामीणों को सबसे अधिक शिकायत स्वास्थ्य विभाग कर्मचारियों से नजर आई। कार्यक्रम के दौरान तारापुर और आसपास के ग्रामीणों ने तारापुर स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में गंदगी व अनियमितताओं के बारे में की। ग्रामीणों का कहना था कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर समय दवाओं इलाज तो दूर की बात है, चिकित्सक भी नहीं मिलते।

स्वास्थ्य केंद्र के खुलने का कोई समय ही नहीं है। कई बार तो कई कई दिनों तक चिकित्सक केंद्र से गायब हो जाते हैं। ग्रामीणों के शिकायत के पर संवाद कार्यक्रम के बाद डीएम दीपक मीणा ने स्वास्थ्य केंद्र का निरीक्षण किया तो हकीकत देख दंग रह गये। अस्पताल के जरूरी दस्तावेज में गड़बड़ियों का बोलबाला था। परिसर से साथ रास्ते पर भी गंदगी की भरमार थी।

26 16

जिसके बाद जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की जमकर क्लास लगाई। प्रभारी राहुल वर्मा को 15 दिन के अंदर तमाम व्यवस्थाओं को दुरुस्त करने और सीएमओ अखिलेश मोहन को भी समय-समय पर ग्रामीण क्षेत्र के स्वास्थ्य केंद्रों की जांच कर आख्या प्रस्तुत करने के निर्देश दिए।

आईजी ने किया सरूरपुर थाने का निरीक्षण

सरूरपुर: शनिवार को आईजी नचिकेता झा और एसपी देहात में थाना सरूरपुर का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने थाने के रखरखाव और रिकॉर्ड का बारीक से निरीक्षण किया। जहां उन्होंने साफ सफाई को लेकर नाराजगी जाहिर की तो वहीं रिकॉर्ड कर रख रखाव को लेकर संतोष जाहिर किया। इस दौरान थाना दिवस पर विनोद समस्या सुनी लेकिन मजेदार बात यह रही कि थाना समाधान दिवस पर कोई फरियादी ही नहीं पहुंचा।

25 17

इसके चलते नवागत थाना प्रभारी देव रावत सिंह के पहले दिन ही फरियादियों का टोटा रहा। खुद आईजी नचिकेता झा घंटे थाना दिवस में बैठकर बैरंग वापस लौट गए। आईजी नचिकेता झा थाने का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने बेरी कर्मचारी, दफ्तर, कंप्यूटर रूम, हवालात, महिला बैरक आदि का भी निरीक्षण किया। इस दौरान आईजी नचिकेता झा और एसपी देहात कमलेश बहादुर व सीओ शिव प्रताप सिंह थानाध्यक्ष देव रावत सिंह मौजूद रहे।

बहसूमा थाने पर डीएम-एसएसपी ने सुनी समस्याएं

बहसूमा: शनिवार को जनपद के सभी थानों पर समाधान दिवस का आयोजन किया गया। डीएम दीपक मीणा व एसएसपी रोहित सिंह सजवाण ने बहसूमा थाने पर लोगों की समस्याएं सुनी। हालांकि बहसूमा थाने में दोनों अधिकारियों के सामने कोई शिकायत नहीं आई। काफी देर तक दोनों अधिकारी थाने पर बैठे रहे। डीएम, एसएसपी ने समाधान दिवस पर लोगों की आने वाली शिकायतों का रजिस्टर देखा। वहीं, स्टाफ से कहा कि वह अपनी ड्यूटी पर ध्यान दें। यदि कोई भी व्यक्ति थाने पर शिकायत लेकर आता है। तो उसकी शिकायत दर्ज कर तुरंत कार्रवाई हो।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments