Tuesday, January 18, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeINDIA NEWSलखनऊ: धरने पर अखिलेश यादव, जयंत चौधरी ने तोड़ी पुलिस बेरिकेडिंग

लखनऊ: धरने पर अखिलेश यादव, जयंत चौधरी ने तोड़ी पुलिस बेरिकेडिंग

- Advertisement -

गृहराज्य मंत्री और मुख्यमंत्री को इस्तीफा देना चाहिए: अखिलेश यादव

जनवाणी ब्यूरो |

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश पुलिस ने समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव को लखनऊ में नजरबंद कर दिया गया था, हालांकि अखिलेश अब घर से निकल चुके हैं और पुलिस के लोग उन्हें रोकने की कोशिश कर रहे हैं। अखिलेश यादव अपने घर से निकलने के बाद बाहर धरने पर बैठ गए हैं। अखिलेश का कहना है ये सरकार किसी की भी जान ले सकती है। गृहराज्य मंत्री और मुख्यमंत्री को इस्तीफा देना चाहिए। मृतकों के परिजनों को दो करोड़ का मुआवजा और सरकारी नौकरी मिलनी चाहिए।

हापुड़ में जयंत को न रोक पाई पुलिस

लखीमपुर जा रहे रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी के काफिले को पुलिस ने हापुड़ में छिजारसी टोल पर रोकने का प्रयास किया। इस दौरान उनके काफिले में शामिल कार्यकर्ताओं ने पुलिस के साथ धक्का-मुक्की करते हुए पीछे धकेल दिया। जिसके बाद जयंत चौधरी काफिले के साथ आगे रवाना हो गए।

इसके बाद जयंत चौधरी ने ब्रजघाट में पुलिस बेरिकेडिंग तोड़ दी। इसके बाद अगले सभी टोल पर एहतियात के तौर पर भारी पुलिस बल रात से ही तैनात कर दिया गया था। मुरादाबाद की ओर जाने वाली सभी गाड़ियों की चेकिंग की जा रही है। गाड़ियों के नाम पते दर्ज किए जा रहे हैं।

भाजपा सांसद वरुण गांधी ने सीएम से लिख आरोपियों के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कराने की मांग की

भाजपा सांसद वरूण गांधी एक बार फिर किसानों के समर्थन में खुल कर सामने आ गए हैं।वरुण ने लखीमपुर खीरी में आठ किसानों की हुई हत्या पर गंभीर शोक जताया है। उन्होंने कहा है कि एक दिन पहले ही देश ने महात्मा गांधी का जन्मदिन मनाया और उसके दूसरे ही दिन किसानों के साथ इस तरह की बर्बरता की गई।

इसे स्वीकार नहीं किया जा सकता। उन्होंने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर घटना की सीबीआई जांच कराने की मांग की है और कहा है कि पीड़ित परिवारों को एक-एक करोड़ रूपये की सहायता दी जाए।

शिवपाल भी नजरबंद

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव की नजर बंद कर दिए गए हैं। उन्होंने सभी जिला अध्यक्षों से जिला मुख्यालय पर धरना देने और जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपने का निर्देश दिया है।

लखीमपुर हिंसा केस: केंद्रीय गृहराज्य मंत्री के बेटे आशीष मिश्र के खिलाफ एफआईआर दर्ज

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में रविवार को हुई हिंसा के बाद केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी के बेटे आशीष मिश्र के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई गई है। आशीष मिश्र के खिलाफ हत्या और गैर इरादतन हत्या की धारा में मामला दर्ज किया गया है। मामले में आईजी रेंज लक्ष्मी सिंह ने बताया कि तहरीर के आधार पर नामजद आशीष मिश्र मोनू और 15-20 अज्ञात के खिलाफ दफा 147, 148, 149, 302, 130 बी, 304 ए के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

प्रियंका गांधी को रिहा करने को लेकर पुलिस से जुड़े कांग्रेस कार्यकर्ता, धक्का-मुक्की

लखीमपुर में हुई हिंसा की घटना में जा रही कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी को हरगांव इलाके से पकड़े जाने के बाद पीएसी की सेकेंड वाहिनी में लाकर रखा गया है। इसकी सूचना पाकर मौके पर पहुंचे कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने पहले गेट के बाहर धरने पर बैठ कर प्रदर्शन किया।

काफी देर तक धरने पर बैठे रहने के बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने अब हंगामा और प्रदर्शन शुरू कर दिया है। कार्यकर्ताओं ने जिस जगह पर प्रियंका गांधी को रखा गया है। आरोप है कि उसके बाहर लगे गेट को तोड़ने का प्रयास किया। बताते हैं कि पुलिस ने इसको लेकर विरोध जताया।

इसी को लेकर तूल पकड़ गया। कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने प्रियंका गांधी को रिहा करने को लेकर पुलिस से भिड़ गए। धक्का-मुक्की की। कार्यकर्ता पुलिस के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं। फिलहाल मामले को शांत करने का प्रयास किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री छत्तीसगढ़ व पंजाब के उपमुख्यमंत्री रंधावा को लखनऊ हवाईअड्डे पर आने की अनुमति नहीं

यूपी के अतिरिक्त मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने लखनऊ एयरपोर्ट से छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल और पंजाब के डिप्टी सीएम सुखजिंदर एस रंधावा को एयरपोर्ट पर उतरने की अनुमति नहीं देने को कहा है। बघेल और रंधावा ने आज लखीमपुर खीरी जाने की घोषणा की है, जहां संघर्ष में 8 लोगों की मौत हो गई है।

भारतीय किसान यूनियन करेगी गाजियाबाद कलेक्ट्रेट का घेराव

लखीमपुर की घटना को लेकर आक्रोशित भारतीय किसान यूनियन सुबह करीब 10:30 बजे गाजियाबाद कलेक्ट्रेट का घेराव करेगी। यूनियन के प्रदेश उपाध्यक्ष राजवीर सिंह ने बताया कि अलग-अलग जगह से किसान कलेक्ट्रेट पर पहुंचेंगे इसके बाद अग्रिम आदेश तक किसान कलेक्ट्रेट पर ही डटे रहेंगे।

गौतम बुद्ध नगर में कलेक्ट्रेट घेरेगी भारतीय किसान यूनियन

संयुक्त किसान मोर्चा के आवाहन पर लखीमपुर खीरी में धरना प्रदर्शन कर रहे किसानों की हत्या भाजपा के मंत्री द्वारा किए जाने को लेकर जनपद गौतम बुद्ध नगर में उपस्थित सभी पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं को संदेश है कि आज सुबह 10:00 बजे जिलाधिकारी कार्यालय कलेक्ट्रेट सूरजपुर गौतम बुद्ध नगर पर ज्यादा से ज्यादा संख्या में पहुंचकर आंदोलन को सफल बनाएं।-अनित कसाना, भाकियू, गौतम बुद्ध नगर

किसान और प्रशासन के बीच बैठक शुरू

लखीमपुर खीरी में रविवार को हुए बवाल के बाद भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत लखीमपुर खीरी पहुंच गए हैं। इसके साथ ही किसान नेताओं और प्रशासन के बीच सोमवार को बैठक शुरू हो गई है। बैठक में राकेश टिकैत समेत 12 लोग मौजूद हैं। सूत्रों के अनुसार, किसान नेताओं ने प्रशासन के सामने चार मांगें रखी हैं।

इस बैठक में लखीमपुर खीरी के जिला अधिकारी (डीएम) और पुलिस अधीक्षक (एसपी) भी शामिल हैं। किसानों ने बैठक में प्रशासन के सामने चार बड़ी मांगें रखी हैं। इनमें पहली मांग केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र को बर्खास्त किए जाने की मांग है। इसके अलावा दूसरी मांग अजय मिश्र के बेटे और मुख्य आरोपी आशीष मिश्र को गिरफ्तार करने की भी मांग है। किसान नेताओं ने प्रशासन से तीसरी मांग के रूप में मृतकों के परिजनों को एक-एक करोड़ रुपये का मुआवजा देने और मृतकों के परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की मांग की है। फिलहाल बातचीत जारी है।

लखीमपुर जा रहे भीम आर्मी चीफ चन्द्र शेखर आजाद टोल प्लाजा से गिरफ्तार

लखीमपुर में हुई घटना के बाद मचे बवाल के बीच अब राजनीति गरमा गई है। जहां एक ओर विपक्षी दल लखीमपुर जाकर माहौल को गर्माने का प्रयास कर रहे हैं, जबकि सरकार और उनकी मशीनरी विपक्षी दलों की मंशा को नाकाम करने की कोशिश में लगी हुई है। इसी कड़ी में लखीमपुर जा रहे भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद को पुलिस ने सीतापुर के खैराबाद टोल प्लाजा पर रोक लिया। इसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर सीतापुर की पुलिस लाइंस में बैठाया गया है।

लखीमपुर जा रहे संजय सिंह भी रोके गए

लखीमपुर जा रहे आम आदमी पार्टी की कोर कमेटी के सदस्य व राज्यसभा सांसद संजय सिंह को भी सीतापुर में पुलिस-प्रशासन ने हिरासत में ले लिया है। उन्हें लखीमपुर नहीं जाने दिया गया  हिरासत में लेने के बाद संजय सिंह को पुलिस लाइन में रखा गया है। इसके अलावा एसपी आरपी सिंह ने अटरिया से लेकर लखीमपुर के बॉर्डर पर पड़ने वाले लहरपुर कोतवाली पुलिस को अलर्ट कर दिया है। किसी भी विपक्षी दल को भी लखीमपुर जाने के लिए इजाजत नहीं दी गई है।

अखिलेश यादव लखनऊ में नजरबंद

उत्तर प्रदेश पुलिस ने समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव को लखनऊ में नजरबंद कर दिया है। अखिलेश यादव के आवास पर भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। आपको बता दें कि अखिलेश यादव ने रविवार को घटना के बाद एलान किया था कि वह सोमवार को लखीमपुर खीरी जाएंगे। अखिलेश यादव ने सभी वरिष्ठ नेताओं को सुबह पार्टी कार्यालय बुलाया था। लेकिन उससे पहले ही पुलिस ने अखिलेश यादव को हाउस अरेस्ट कर लिया।

लखीमपुर खीरी में हुई घटना अत्यंत दुःखद एवं दुर्भाग्यपूर्ण: सीएम

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि लखीमपुर खीरी में हुई घटना अत्यंत दुःखद एवं दुर्भाग्यपूर्ण है। मौके पर शासन द्वारा अपर मुख्य सचिव नियुक्ति, कार्मिक एवं कृषि, ए.डी.जी. कानून-व्यवस्था, आयुक्त लखनऊ तथा आई.जी. लखनऊ मौजूद हैं तथा स्थिति को नियंत्रण में रखते हुए घटना के कारणों की गहराई से जांच कर रहे हैं।

घटना में लिप्त जो भी जिम्मेदार होगा, सरकार उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगी। क्षेत्र के सभी लोगों से अपील है कि वे किसी के बहकावे में न आएं व मौके पर शान्ति-व्यवस्था कायम रखने में अपना योगदान दें। किसी प्रकार के निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले मौके पर हो रही जांच तथा कार्रवाई का इन्तजार करें।

प्रियंका गांधी को सीतापुर के हरगांव में पुलिस ने हिरासत में लिया

लखीमपुर खीरी में हुई घटना के बाद लखनऊ से निकलकर मौके पर जाने के लिए लुका-छुपी का खेल खेल रहीं प्रियंका गांधी के मंसूबों को पुलिस-प्रशासन ने नाकाम कर दिया। वह लखनऊ के रास्ते सिधौली तक पहुंची। इसके बाद पुलिस-प्रशासन को चकमा देकर दूसरे रास्तों की जरिए होते हुए निकल गईं, जबकि कमलापुर से लेकर लहरपुर तक जगह-जगह पर पुलिस ने जबरदस्त नाकेबंदी कर रखी थी।

टोल प्लाजा पर खुद डीएम विशाल भरद्वाज और एसपी आरपी सिंह पुलिस बल के साथ मौजूद थे, लेकिन आगे रोके जाने के डर से प्रियंका गांधी रूट बदलकर दूसरे रास्ते पर चल दीं। इसकी जानकारी मिलते ही सीतापुर पुलिस-प्रशासन के भी होश उड़ गए। वह उनकी लोकेशन को पता लगाने में जुट गए, लेकिन रात का समय होने की वजह से पुलिस को काफी परेशानी भी हुई।

आखिरकार सुबह करीब 4 बजे प्रियंका गांधी को हरगांव कस्बे में मौजूद सीओ सिटी पीयूष सिंह ने महिला पुलिस की मदद से रोक लिया। रोके जाने के दौरान कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सीओ सिटी को खूब खरी-खरी भी सुनाई। हालांकि काफी मशक्कत के बाद प्रियंका गांधी को हरगांव से लाकर पीएसी की द्वितीय वाहिनी पीएससी में रखा गया है।

प्रियंका गांधी के साथ दूसरी गाड़ी से जा रहे कांग्रेश के प्रदेश अध्यक्ष लल्लू को भी पुलिस ने रोक लिया है। प्रियंका गांधी के साथ हरियाणा के राज सभा सांसद भी थे। पुलिस-प्रशासन ने उन्हें भी रोक लिया है। सभी को पीएसी की वाहिनी में रखा गया है।

वहीं, इसकी सूचना मिलने के बाद कांग्रेस के कार्यकर्ता पीएसी पहुंच गए और जहां पर कांग्रेस महासचिव समेत अन्य कांग्रेस के नेताओं को रखा गया है। उसके बाहर कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने धरने पर बैठ कर प्रदर्शन शुरू कर दिया है। नारेबाजी कर रहे कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का कहना है कि पुलिस प्रशासन तानाशाही कर रहा है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments