Saturday, April 13, 2024
HomeUttar Pradesh NewsMeerutविधायक संगीत सोम के प्रतिनिधि पर जेई ने लगाया मारपीट का आरोप

विधायक संगीत सोम के प्रतिनिधि पर जेई ने लगाया मारपीट का आरोप

- Advertisement -
  • कैंप कार्यालय बुलाकर मारपीट करने और पैसे मांगने का आरोप
  • जेई ने विधायक प्रतिनिधि के खिलाफ दी तहरीर

जनवाणी संवाददाता |

सरधना: सरधना में विधायक संगीत सोम के प्रतिनिधि पर विद्युत जेई ने मारपीट का आरोप लगाया है। जेई का आरोप है कि विधायक प्रतिनिधि ने कैंप कार्यालय में बुलाकर बन्द कमरे में उसके साथ मारपीट की। इतना ही नहीं उससे 50 हजार रुपये भी मांगे। वह किसी तरह कार्यालय से जान बचाकर भागा। जेई ने विधायक प्रतिनिधि के खिलाफ सरधना कोतवाली में तहरीर दी है। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।

सरधना के छुर गांव के बिजलीघर पर तैनात जेई विवेक मल्ल ने थाने में दी तहरीर में लिखा है कि मंगलवार को वह सरूरपुर में विभागीय काम करा रहा था। तभी विधायक संगीत सोम के प्रतिनिधि शेखर सोम का फोन आया। उसने बोला कि विधायक बुला रहे हैं। सूचना पर वह विधायक के तहसील रोड स्थित कैंप कार्यालय पहुंच गया।

आरोप है कि शेखर जेई को एक कमरे में ले गया। वहां उसने कमरा बंद कर दिया इसके बाद गली-गलौज करते हुए मारपीट की। साथ ही गला दबाकर जान से मारने की कोशिश की। कहा कि बिजली चोरी के झूठे मुकदमे लिखाकर बहुत पैसे कमा रहा है। आरोप है कि शेखर ने जेई से 50 हजार रुपये की मांग की और कुछ लोगों पर दर्ज बिजली चोरी के मुकदमें वापस लेने को कहा।

मना करने पर उसको थप्पड़ लगाए। वह किसी तरह वहां से निकलने में कामयाब रहा। इसके बाद जेई ने उच्चाधिकारियों को मामले से अवगत कराया और सरधना कोतवाली में जाकर विधायक प्रतिनिधि के खिलाफ तहरीर देते हुए कार्रवाई की मांग की। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है। इस संबंध में इंस्पेक्टर बिजेश कुमार सिंह का कहना है कि जेई विवेक मल्ल ने विधायक प्रतिनिधि के खिलाफ तहरीर दी है।

जांच कराई जा रही है। उधर, विधायक प्रतिनिधि शेखर सोम का कहना है कि पिठलोकर गांव के दो लोगों के खिलाफ जेई ने गलत तरीके से बिजली चोरी के मुकदमे दर्ज करा रखे हैं। उसके सिलसिले में जेई को बुलाया था। मारपीट या पैसे मांगने का आरोप गलत है।

गंगानगर में 11वीं के छात्र को डंडों से पीटा, गंभीर

क्षेत्र में दुकान से सामान लेकर घर लौटते समय कक्षा 11वीं के छात्र को डंडों से पीटा गया। बेरहमी से पिटाई करने के बाद हमलावर उसे बीच सड़क पर छोड़कर चले गए। आसपास के लोगों ने छात्र के स्वजन को सूचना दी। जिसके बाद छात्र को गंभीर हाल में अस्पताल में भर्ती कराया गया।

पुलिस सीसीटीवी फुटेज देखकर हमलावरों की पहचान में जुट गई। गंगानगर के राजेंद्रपुरम में रहने वाला आरव चौधरी कक्षा 11वीं का छात्र है। सोमवार को आरव घरेलू सामान की खरीदारी करने आया था। लौटते समय दुकान के समीप ही कुछ युवकों ने आरव को पकड़ लिया।

जान से मारने की धमकी देते हुए डंडों से पिटाई शुरू कर दी। शोर मचाने के बाद भी हमलावर आरव की पिटाई करते रहे। जब वह पिटाई से बेहोश हो गया, तब जाकर हमलावर उसे सड़क पर छोड़कर फरार हो गए। इसके बाद आसपास के लोगों की भीड़ जमा हो गई।

तत्काल घायल को अस्पताल में भर्ती कराया गया। बताया गया है कि उसके शरीर की हड्डी टूटी हुई है। आरव के परिजनों ने थाने में तहरीर दी। इंस्पेक्टर ऋषिपाल सिंह ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज के आधार पर हमलावरों की पहचान की जा रही है। माना जा रहा है कि हमलावर आसपास के ही रहने वाले हैं।

आत्महत्या के लिये उकसाने वाले को 10 साल की कैद

न्यायालय अपर जिला जज कोर्ट संख्या-17 मेरठ विजय कुमार द्वितीय ने आत्महत्या के एक मामले में आरोपी शादाब पुत्र सुलेमान निवासी लावड़ को एक लड़की को आत्महत्या करने के लिए मजबूर करने का दोषी पाते हुए 10 साल के कठोर कारावास व अंकन एक लाख रुपये के जुर्माने से दंडित किया है।

सरकारी वकील मुकेश मित्तल ने बताया कि वादी मुकदमा वीरु गुप्ता ने एक जनवरी 2018 को थाना इंचौली में रिपोर्ट दर्ज कराई कि उसकी बेटी की शादी आठ मार्च 2018 को खिर्वा गांव निवासी सौरभ राजवंशी के साथ तय हुई थी। चूंकि वादी मुकदमा अपाहिज है, इसलिए उसने कामकाज के लिए गांव निवासी आरोपी को साथ काम पर रख लिया था। आरोपी काम करने के बाद वादी की लड़की के आपत्तिजनक फोटो खींच लेता था और उन फोटो को दिखाकर लड़की से अवैध संबंध बनाने को कहता था।

जिसका लड़की ने विरोध किया। इसके बाद आरोपी ने वादी की लड़की के फोटो उसके होने वाले पति सौरभ को भेज दिए। जिस वजह से उसका रिश्ता टूट गया और इससे क्षुब्ध होकर वादी की लड़की ने आत्महत्या कर ली। न्यायालय में आरोपी ने कहा कि उसे इस मुकदमे में झूठा फंसाया जा रहा है। सरकारी वकील ने कड़ा विरोध किया और वादी सहित कुल आठ गवाह पेश किए। न्यायालय ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद व पत्रावली पर उपलब्ध साक्ष्यों को देखते हुए आरोपी को दोषी पाते हुए 10 साल के कठोर कारावास व एक लाख रुपये के जुर्माने से दंडित किया है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments