Tuesday, January 18, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutइस बार आयोजित नहीं होगा कार्तिक पूर्णिमा मेला

इस बार आयोजित नहीं होगा कार्तिक पूर्णिमा मेला

- Advertisement -

जनवाणी संवाददाता |

हस्तिनापुर: हिंदू धर्म की आस्था का प्रतीक प्रतिवर्ष कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर मखदूमपुर गंगा घाट पर आयोजित होने वाला गंगा मेला इस बार बेमौसम आई बाढ़ की भेंट चढ़ गया। सोमवार को जिला पंचायत अध्यक्ष ने जिला पंचायत अधिकारियों व जिला पंचायत सदस्यों के साथ मेला स्थल का निरीक्षण कर गंगा घाट की स्थिति को देखा और लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए मेला स्थगित करने की बात कही।

बता दें कि गत 19 अक्टूबर को खादर में आई बाढ़ से जहां किसानों को प्रभावित किया है। वहीं, मखदूमपुर गंगा घाट पर जिला पंचायत द्वारा लाखों रुपये के बजट से आयोजित होने वाले मेले के आयोजन पर भी पानी फेर दिया है। कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर गंगा की रेती में लगने वाले पांच दिवसीय मेले का आयोजन जिला पंचायत द्वारा कराया जाता है।

जिसे देखते हुए जिला पंचायत अयक्ष गौरव चौधरी ने सोमवार को अधिकारियों के साथ मखदूमपुर गंगा घाट पर पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया और ग्रामीणों से मेले के संबंध में विस्तार से चर्चा की। जिला पंचायत अध्यक्ष ने ग्रामीणों और जिला पंचायत अधिकारियों के साथ घंटों गंगा घाट का निरीक्षण किया, लेकिन गंगा के बढ़े जलस्तर और मेले के लिए उचित स्थान का चयन न होने के कारण लोगों की सुरक्षा को देखते हुए मेले को स्थगित करने की बात कही।

गंगा में आई बाढ़ के कारण गंगा के किनारे दूर-दूर तक दलदल फैली हुई है। वहीं, गंगा का कटान भी किनारों को लगातार तोड़ रहा है और पानी की अत्यधिक गहराई है। जिसे देखते हुए मेला का आयोजन संभव नहीं है।

जिला पंचायत अयक्ष गौरव चौधरी ने बताया कि जिला पंचायत द्वारा मखदूमपुर के गंगा घाट पर कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर मेले का आयोजन कराया जाता है। जिसमें कई जिलों के लाखों श्रद्धालु शामिल होते हैं। जिनकी सभी सुविधाएं जिला पंचायत द्वारा कराई जाती हैं। दीपावली से लगभग दो सप्ताह बाद मेले का आयोजन होता है।

जिसे देखते हुए सोमवार को गंगा घाटों पर जिला पंचायत के इंजीनियरों द्वारा निरीक्षण किया गया, परंतु कहीं पर भी मेला आयोजित होने के लिए उचित स्थान नजर नहीं आया। इसलिए इस बार मेले का आयोजन स्थगित रहेगा। यहां जिला पंचायत सदस्य योगेश समेत तमाम लोग मौजूद रहे।

भीषण बाढ़ की भेंट चढ़ा गंगा मेला

कोरोना महामारी के चलते गत वर्ष भी गंगा मेले का आयोजन नहीं हो सका। कोरोना वैश्विक महामारी कम हुई तो श्रद्धालुओं को इस बार गंगा मेले के आयोजित होने की उम्मीद थी, लेकिन चार सप्ताह पूर्व आई बेमौसम बाढ़ ने लाखों श्रद्धालुओं की इस उम्मीद पर भी पानी फेर दिया।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments