Sunday, May 26, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutहत्यारों ने तोड़ी दरिंदगी की सारी हदें

हत्यारों ने तोड़ी दरिंदगी की सारी हदें

- Advertisement -
  • पिता-पुत्र हत्याकांड: मां-बेटे और पौत्र को बंधक बनाया बाद में पिता-पुत्र की कर दी हत्या
  • मृतक की मां ने शामली पुलिस को किया कठघरे में खड़ा
  • घर में नहीं बचा कोई पुरुष, दादी-बहू और पौत्री का रो-रोकर बुरा हाल

जनवाणी संवाददाता |

कंकरखेड़ा: क्षेत्र के सैनिक कॉलोनी निवासी पिता पुत्र की शामली के कांधला थाना क्षेत्र में हत्या कर दी गई। इस हत्या में दरिंदगी की सारी हदें पार कर दी गई। घटना को अंजाम देने से पूर्व पिता-पुत्र और इनकी माता को बंधक बनाकर कमरे में बंद रखा गया। बाद में वृद्ध माता को भेज दिया और पिता पुत्र को गाड़ी में डालकर ले गए। हत्यारों ने पिता पुत्र पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाई थी।

इस घटना के बाद मृतक के परिवार और परिचितों में कोहराम मचा है। आखिर परिवार में कोई पुरुष नहीं बचा। देर शाम पोस्टमार्टम के बाद कंकरखेड़ा स्थित सैनिक कॉलोनी में दोनों शव पहुंचे कोहराम मच गया सभी की आंखें नम थी। दरअसल एक ही घर से दौड़ता उठकर श्मशान के लिए चली। दोनों शवों को शमशान ले जाया गया और अंतिम संस्कार कर दिया गया। मुखाग्नि मृतक भूपेंद्र के भतीजे शेखर न दी।

22 7

भूपेंद्र तालियान पुत्र विजेंद्र निवासी सैनिक कॉलोनी मूल रूप से सरधना क्षेत्र के छूर गांव के रहने वाले थे। भूपेंद्र के मामा के लड़के कपिल ने बताया कि भूपेंद्र अपने परिवार के साथ करीब 20 वर्ष से कंकरखेड़ा थाना क्षेत्र के सैनिक कॉलोनी में अपना मकान बनाकर रह रहे थे। भूपेंद्र परिवार को चलाने के लिए खेती का कार्य करते थे।

बताया गया उत्तर प्रदेश पुलिस में तैनात विक्रांत कुछ समय पूर्व सैनिक कॉलोनी में आकर रहता था। तभी से विक्रांत की भूपेंद्र तालियान से उठ बैठ हो गई थी। विक्रांत मूल रूप से शामली थाना क्षेत्र के मखमूलपुर गांव का रहने वाला है। भूपेंद्र की मां सुरेश ने बताया कि 3 दिन पूर्व विक्रांत कंकरखेड़ा सैनिक कॉलोनी में उनके आवास पर आया था, लेकिन भूपेंद्र घर पर नहीं था। दरअसल विक्रांत के भूपेंद्र पर डेढ़ लाख रुपए बताए गए है।

तब भूपेंद्र अपनी मां सुरेश को साथ लेकर 50 हजार रुपये विक्रांत को देने के लिए उसके घर गांव मखमूलपुर में पहुंच गया। सुरेश का कहना है कि विक्रांत ने कांधला थाना पुलिस से सेटिंग कर उन्हें वही बंधक बना लिया और उसके पोते अर्जुन को घर बुलाने को कहा।

23 8

अर्जुन की दादी सुरेश के आनाकानी करने पर विक्रांत ने भूपेंद्र की कनपटी पर सरकारी पिस्टल लगा दिया और जान से मारने की धमकी दी। तब सुरेश ने अपने पोते अर्जुन को विक्रांत के घर पर बुला लिया। बुधवार को करीब 10 से 11 बजे के आसपास अर्जुन अपने चार साथियों के साथ वहां पहुंच गया। सुरेश का कहना है कि उसे (सुरेश) और अर्जुन के साथियों को आरोपी ने भेज दिया।

जबकि अर्जुन और अर्जुन के पिता भूपेंद्र को उन्होंने जबरन वही बंधक बना लिया। इस दौरान सुरेश ने पुलिस को सूचना दी। तब विक्रांत और उसके आधा दर्जन साथी पिता-पुत्र भूपेंद्र व अर्जुन को गाड़ी में डालकर कहीं ले गए और गोलियों से भूनकर हत्या कर दी। गुरुवार देर शाम पिता पुत्र के सैनिक कॉलोनी में पहुंचे। तब क्षेत्र में सभी लोगों का रो रोकर बुरा हाल हो गया। करीब 4:45 बजे शामली से यहां पहुंचे थे। यहां से रिश्तेदारों और पड़ोसियों के साथ शव को श्मशान घाट ले जाया गया। जहां अंतिम संस्कार कर दिया गया। अब घर में वृद्ध महिला सुरेश बहू दुर्गेश और पुत्री शगुन परिवार में बचे हैं।

पुलिस की लापरवाही से हुई पिता पुत्र की हत्या

मृतक भूपेंद्र की मां सुरेश ने कांधला पुलिस को कठघरे में खड़ा किया है। भूपेंद्र की मां सुरेश का कहना है कि विक्रांत पुलिस में है और उसकी कांधला थाना पुलिस से सांठगांठ भी थी। जिस समय वह अपने बेटे भूपेंद्र के साथ 50 हजार रुपए लेकर वहां पहुंची थी।

तब विक्रांत घर पर नहीं था। कांधला थाने गया था। पुलिस से सेटिंग करने के बाद विक्रांत घर पहुंचा और मां बेटे को बंधक बना लिया। जब सुरेश अपने घर कंकरखेड़ा आने के लिए कहते तो घर नहीं आने दिया। उनकी बाइक को कब्जे में लेकर पड़ोसी के घर पर खड़ा कर दिया।

पौत्र को बुलाकर दादी को किया बंधन मुक्त

वृद्ध महिला सुरेश का कहना है कि पहले विक्रांत ने उसे और उसके पुत्र भूपेंद्र को अपने घर में बंधक बनाकर रखा। इसके बाद फोन करके पौत्र को वहां बुलवाया। इस दौरान विक्रांत ने सरकारी पिस्टल भूपेंद्र की कनपटी पर रखा और गोली मारने की धमकी दी थी।

जब अर्जुन अपने साथियों के साथ वहां पहुंचा तब दादी को बंधन मुक्त किया। बंधक मुक्त होने के बाद उसने 112 नंबर पर पुलिस को फोन किया था। सुरेश का कहना है कि विक्रांत के पास कांधला पुलिस ने फोन करके बता दिया कि वहां पुलिस पहुंचने वाली है। इसलिए वह अपने साथियों के साथ अर्जुन और उसके पिता को जबरन गाड़ी में डालकर कहीं ले गया।

कबड्डी का खिलाड़ी था अर्जुन तालियान

20 7

अर्जुन तालियान के दोस्त सागर ने बताया कि वह कबड्डी का अच्छा खिलाड़ी था। उसे उत्तर प्रदेश, राजस्थान और उत्तराखंड सहित कई राज्यों में कबड्डी प्रतियोगिता में भाग लिया और मेडल भी जीते हैं। सागर ने उसके द्वारा जीते हुए मेडल दिखाते हुए कहा कि यह घटना बहुत ही दर्दनाक हुई है।

पिता-पुत्र की हत्या से छुर में शोक का माहौल

शामली जिले में हुई पिता-पुत्र की हत्या के बाद छुर गांव में शोक का माहौल है। गुरुवार को भी छुर की सड़कों पर दिनभर सन्नाटा पसरा रहा। एक तरह से ग्रामीण दोहरे हत्याकांड के चलते सदमे में रहे। हालांकि मृतक परिवार समेत लंबे समय से कंकरखेड़ा में ही रह रहे थे।

गौरतलब है कि मूलरूप से सरधना के छुर गांव निवासी भूपेंद्र सिंह परिवार समेत कंकरखेड़ा के सैनिक विहार में रह रहा था। बीते बुधवार को भूपेंद्र व उसके पुत्र अर्जुन की शामली जिले में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। पिता-पुत्र की हत्या की सूचना छुर में पहुंची तो ग्रामीणों में शोक की लहर दौड़ गई।

19 7

सूचना मिलने के बाद काफी लोग शामिल चले गए। वहीं गुरुवार को भी दोहरे हत्याकांड के चलते छुर की सड़कों पर दिनभर सन्नाटा पसरा रहा। पिता पुत्र की हत्या से ग्रामीणों में शोक का माहौल बना हुआ है। हालांकि भूपेंद्र परिवार समेत करीब 15 वर्षों से कंकरखेड़ा के सैनिक विहार में रह रहा था।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
3
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments