Tuesday, January 18, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsBaghpatडौला के देव मेडिकल स्टोर पर नहीं मिला दवाईयों का लाइसेंस

डौला के देव मेडिकल स्टोर पर नहीं मिला दवाईयों का लाइसेंस

- Advertisement -
  • स्टोर पर दो दवाई संदिग्ध मिली, औषधि निरीक्षक ने छापा मारकर मेडिकल स्टोर पर सील लगायी
  • संदिग्ध दवाईयों के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा प्रयोगशाला, रिपोर्ट आने के बाद की जाएगी कार्रवाई

जनवाणी संवाददाता |

बागपत: डौला गांव के देव मेडिकल स्टोर पर किसी भी दवाई का लाइसेंस तक नहीं मिला और वहां दो दवाई संदिग्ध मिली। औषधि निरीक्षक ने वहां से दोनों दवाईयों का सैंपल लेकर जांच के लिए प्रयोगशाला में भेज दिया और पचास हजार रुपये की दवाई जब्त कर मेडिकल स्टोर पर सील लगा दी। साथ ही कहा कि रिपोर्ट आने के बाद स्टोर संचालक के खिलाफ आगे की कार्रवाई की जाएगी। छापेमारी से अन्य स्टोर संचालक ताला डालकर फरार हो गए।

आयुक्त खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन एवं जिलाधिकारी राजकमल यादव के निर्देश पर की मेडिकल स्टोर्स पर औषधियों की मानकों के अनुरूप पर्याप्त उपलब्धता एवं गुणवत्ता की जांच एवं प्राप्त शिकायत के बाद औषधि निरीक्षक वैभव बब्बर थाना सिंघावली अहीर पुलिस के साथ डौला गांव के देव मेडिकल स्टोर पर जांच करने के लिए पहुंचे। देव मेडिकल स्टोर पर बिजेंद्र पुत्र बाबू सिंह द्वारा मेडिकल स्टोर का संचालन किया जाता पाया गया।

बिजेंद्र द्वारा मेडिकल स्टोर में भंडारित औषधियों का औषधि लाइसेंस नहीं दिखाया गया ना ही किसी औषधि का क्रय विक्रय बिल मौके पर प्रस्तुत किया। मौके पर ही मेडिकल स्टोर से दो संदिग्ध औषधियों के नमूने संग्रहित किए गए, जिन्हें जांच के लिए विश्लेषण प्रयोगशाला भेजा जा रहा है। बताया कि मेडिकल स्टोर से तकरीबन पचास हजार रुपए की औषधियों को जब्त किया गया और कार्रवाई से आसपास के मेडिकल स्टोर शटर बन्द कर भाग गए।

औषधि निरीक्षक वैभव बब्बर ने जानकारी देते हुए बताया कि नमूनों को जांच के लिए प्रयोगशाला भेजा जा रहा है जिनकी रिपोर्ट आने पर एवं विवेचना करने पर आग्रिम कार्यवाही औषधि एवं प्रसाधन अधिनियम 1940 की धारा 18/27 के अन्तर्गत माननीय न्यायालय मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट बागपत में वाद दाखिल कराया जाएगा, जिसमें 10 लाख रुपए तक का अर्थ दंड और उम्र कैद तक की सजा का प्रावधान है।

औषधि निरीक्षक द्वारा बताया कि मेडिकल स्टोर पर दावा क्रय का क्या स्रोत है उसकी भी पूछताछ की जा रही है। कुछ मेडिकल स्टोर के नाम सामने आए है जिनकी क्रय विक्रय अभिलेखों की जांच की जाएगी, जिसमें अनियमित्ता पाए जाने पर संबंधित मेडिकल स्टोर पर भी औषधि अधिनियम के अंतर्गत कार्यवाही की जाएगी।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments