Sunday, July 25, 2021
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutट्रांसफार्मर में लगी आग, प्लास्टिक गोदाम में लाखों का नुकसान

ट्रांसफार्मर में लगी आग, प्लास्टिक गोदाम में लाखों का नुकसान

- Advertisement -
  • दमकल की चार गाड़ियों ने पाया काबू, कई मोहल्लों की बिजली हुई गुल

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: बागपत रोड पर मंगलवार को एक ट्रांसफार्मर पर लोड बढ़ने से शॉर्ट सर्किट हो गया। जिससे ट्रांसफार्मर धू-धूकर जलने लगा। ट्रांसफार्मर की लपटों से वहीं पास में बने एक प्लास्टिक के गोदाम में आग लग गई। आग का विकराल रूप देख बागपत रोड पर जाम की स्थिति बन गई।

आसपास के लोगों ने दमकल विभाग को आग की सूचना दी। जिसके बाद मौके पर पहुंची दमकल की चार गाड़ियों ने आग पर काबू पाया। वहीं आग से गोदाम में रखा लाखों रुपये का माल जल गया। ट्रांसफार्मर में आग से आसपास के कई मोहल्लों की बिजली गुल हो गई। जिस कारण लोगों को इस भीषण गर्मी में परेशानी का सामना करना पड़ा।

बागपत रोड स्थित मलियाना ओवरब्रिज के पास के सड़क किनारे एक बिजली का ट्रांसफार्मर रखा हुआ है। वहीं उसके पास में एक प्लास्टिक का गोदाम है। भीषण गर्मी चलते अधिकांश घरों में इस वक्त कूलर व एसी का इस्तेमाल हो रहा है। जिस कारण मंगलवार दोपहर को लोड बढ़ने के कारण ट्रांसफार्मर में शॉर्ट सर्किट हो गया और वह धू-धूकर जलने लगा।

ट्रांसफार्मर से उठी लपटों से वहीं पास के प्लास्टिक गोदाम में आग लग गई। जिस कारण आसपास में अफरा-तफरी का माहौल बन गया और बागपत रोड पर जाम की स्थिति बन गई। आग की सूचना मिलते ही मलियाना चौकी पुलिस मौके पर पहुंची और दमकल विभाग को आग की सूचना दी।

जिसके बाद दमकल विभाग की एक-एक कर चार गाड़ियां मौके पर पहुंची और किसी तरह आग पर काबू पाया। आग से गोदाम में रखा लाखों रुपये का प्लास्टिक जलकर राख हो गया और ट्रांसफार्मर में आग लगने से आसपास की आधा दर्जन से ज्यादा कॉलोनियों की बिजली गुल हो गई। जिस कारण लोगों को इस भीषण गर्मी में परेशानी का सामना करना पड़ा।

इनवर्टर ने भी दिया जवाब

बागपत रोड पर ट्रांसफार्मर में आग लगने से कई मोहल्लों की बिजली गुल हो गई। जिस कारण लोगों ने अपने घरों में लगे इनवर्टर का इस्तेमाल किया, लेकिन कुछ ही घंटों में इनवर्टरों ने भी जवाब दे दिया। जिस कारण लोगों को भीषण गर्मी के कारण परेशानी का सामना करना पड़ा। हालात ऐसे थे कि लोगों को गलियों में बैठकर दिन गुजारना पड़ा। हालांकि ट्रांसफार्मर में आग लगने के बाद बिजली निगम ने भी लोगों की परेशानी को देखते हुए उसकी जगह पर दूसरा ट्रांसफार्मर रखवा दिया। जिसके बाद रात में बिजली सुचारू हो सकी।

18 घंटे में 24 से ज्यादा कट

विद्युत निगम भले ही उपभोक्ताओं को बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए बड़े-बड़े दावां करता हो लेकिन गर्मी का स्तर बढ़ते ही बिजली व्यवस्था बदहाल हो चुकी है। हालात यह है कि पिछले 18 घंटे की बात की जाए तो 24 से ज्यादा कट लग चुके हैं। जिससे उपभोक्ताओं को अनेकों परेशानियों का सामना करना पड़ रहा।

जबकि उत्तर प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने छह माह पहले ही निगम को निर्देश देते हुए कहा था कि गर्मी से पहले ही ट्रिपिंग व्यवस्था को सुधार लिया जाए। दरअसल नौचंदी बिजलीघर से संबंधित कल्याण नगर में सोमवार रात नौ बजे से लेकर मंगलवार दोपहर तीन बजे तक अनेकों कट लगे। उपभोक्ताओं की माने तो हर 10 मिनट लाइट आने के पश्चात आंधे घंटे तक लाइट नहीं आयी।

इसी प्रकार की समस्या शहर भर के अन्य इलाकों में भी मंगलवार को देखने को मिली। गर्मी की तपन एवं बिजली के के कट से बच्चों से लेकर बड़ों तक को परेशानी का सामना करना पड़ा। इतना हीं नहीं उपभोक्ताओं की माने तो इस अवधि में बिजली के उपकरण भी खराब हो गए। पिछले एक माह में बिजली में फाल्ट की समस्या अधिक देखी जा रही है। जिससे शहर से लेकर गांव तक में बिजली आपूर्ति बाधित रहती है।

लाइनमैन को बुखार व्यवस्था धड़ाम

वैक्सीन लगवाने के पश्चात अधिकतर लोगों पर वैक्सीन का असर देखने को मिल रहा है। जिसमें किसी को बुखार तो किसी को दर्द की समस्या देखने को मिल रही है। वैक्सीन लगने के पश्चात लाइनमैन को अगर बुखार आ जाएं तो अन्य कर्मचारी संबंधित फीडर की व्यवस्था को नहीं संभाल पा रहे हैं। जिसकी वानगी नौचंदी बिजली घर में देखने को मिली। नौचंदी बिजलीघर के एक कर्मचारी को वैक्सीन लगवाने के पश्चात बुखार आ गया।

जिस कारण वह नौचंदी विद्युत उपकेन्द्र पर नहीं पहुंच पाया। मंगलवार को विद्युत केन्द्र पर एक फीडर में कोई दिक्कत आ गई। जिसकों सही करने के लिए पहले जेइई एवं अन्य कर्मचारियों ने कोशिश की जब बात नहीं बनी तो तब अन्य विद्युत केन्द्र से लाइनमैन को बुलाकर फीडर को सही कराने की कोशिश की।

पूरी रात फीडर पूर्ण रुप से संचालित नहीं हो पाया। क्षेत्रवासियों को अनेकों दिक्कतों का सामना करना पड़ा। अन्य विद्युत केन्द्रों पर भी देखने को मिल रही है। दरअसल शहर भर में फाल्ट की समस्या देखने को मिल रही है। जिसको ठीक करने में कर्मचारी एवं अधिकारी लगे रहते हैं। कर्मचारी की तबीयत खराब हो जाएं तो अन्य कर्मचारियों को घंटों तक का समय लग रहा है।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments