Thursday, October 21, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUttar Pradesh NewsMeerutमेरठ-करनाल हाइवे चौड़ीकरण शुरू

मेरठ-करनाल हाइवे चौड़ीकरण शुरू

- Advertisement -
  • भूनि और बपारसी के बीच हुआ कार्य आरंभ, पांच किलोमीटर तक ट्रैफिक किया गया वन-वे

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: मेरठ-करनाल हाइवे चौड़ीकरण का काम शुरू कर दिया है। यह कार्य भूनि व बपारसी के बीच में चालू कर दिया है। हाइवे को वन-वे करते हुए निर्माण किया जा रहा है। करीब तीन किलोमीटर के दायरे में फिलहाल काम चल रहा है। पुलिया का चौड़ीकरण किया जा रहा है। किसानों के खेतों पर जेसीबी मशीन लगाकर चौड़ीकरण का काम किया जा रहा है।

मिट्टी की खुदाई चल रही है। बपारसी के पास ठेकेदार ने केन्द्र बनाते हुए, वहीं से तमाम गतिविधियां संचालित की जा रही है। दरअसल, मेरठ से लेकर करनाल बॉर्डर तक हाइवे चौड़ीकरण का टेंडर पहले ही हो चुका है। सड़क के दोनों और चौड़ीकरण किया जाएगा। एनएचएआई इस कार्य को अपनी देखरेख में करा रही है। क्योंकि इससे पहले मेरठ-करनाल हाइवे राज्य सरकार ने बनाया था।

वर्तमान में मेरठ-करनाल हाइवे एनएचएआई के पास चला गया है। बपारसी से लेकर मेरठ तक एक पार्ट में काम चलेगा तथा दूसरा पार्ट बपारसी से फुगाना तक काम चलेगा। तीसरे पार्ट में फुगाना से करनाल बॉर्डर तक काम चलेगा। इस तरह से हाइवे चौड़ीकरण का काम किया जाएगा। चौड़ीकरण पूर्ण होने के बाद लोगों को बड़ी राहत मिलेगी। क्योंकि जो दुर्घटना कम चौड़ाई होने के कारण हो रही थी उन पर अंकुश लगेगा।

फिर नानू गंगनहर पुल का निर्माण भी एनएचएआई ने आरंभ कर दिया है। इसमें तो वक्त लगेगा, लेकिन चौड़ीकरण जल्द किया जा सकता है। फिलहाल भूनि-बपारसी के बीच जो चौड़ीकरण काम चालू हुआ है, उससे वन वे करीब पांच किलोमीटर की दूरी तक किया गया है। क्योंकि चौड़ीकरण से सड़क दुर्घटना हो सकती है। इसी वजह से टैÑफिक को वन-वे किया गया है।

इसी तरह से जल्द ही मेरठ की तरफ से भी काम चालू करने की बात एनएचएआई के अधिकारियों ने कहीं है। एक साथ कई स्थानों पर चौड़ीकरण का काम किया जाएगा। हालांकि नानू व दबथुवा ऐसे गांव है जो रोड पर है,लेकिन वहां चौड़ीकरण करने के लिए जगह नहीं है। यहां पर दिक्कत आ सकती है।

अब एनएचएआई के अधिकारी यहां पर फ्लाईओवर बनाने की बात कर रहे थे, लेकिन अभी इसका कोई खुलासा एनएचएआई ने नहीं किया गया है कि यहां पर फ्लाईओवर बनेगा या फिर बाइपास। बाइपास यदि बनाया जाना होता तो जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया अभी तक आरंभ की जा सकती थी। इस दिशा में कोई कदम प्रशासन ने नहीं उठाये हैं। इसलिए जमीन अधिग्रहण नहीं है तो फिर फ्लाई ओवर ही विकल्प है। फिलहाल हाइवे चौड़ीकरण काम आरंभ हो गया है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments