Saturday, May 21, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -spot_img
HomeUttar Pradesh NewsMeerutसुबह हुई बारिश, फिर छाया घना कोहरा

सुबह हुई बारिश, फिर छाया घना कोहरा

- Advertisement -
  • बूंदाबांदी से दलहन-तिलहन की फसल पर मंडराया खतरा, किसानों की पेशानी पर बल

जनवाणी संवाददाता |

मोदीपुरम: उत्तर प्रदेश में ठंड लगातार असर दिखा रहा है। प्रदेश में लगातार गिरता तापमान आम लोगों के लिए मुश्किलों को बढ़ाने वाला साबित हो रहा है। दिन में भी कोहरे के भीतर से निकलती धूप लोगों को गरमाहट का अहसास नहीं करा रही है। दिन का तापमान कम होने के कारण लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। पिछले चार दिनों से घने कोहरे और गलन से जनजीवन प्रभावित हुआ है। लोग घरों में ही दुबके हैं। जरूरी कार्यों के लिए लोग बाहर निकल रहे हैं। सुबह कोहरे ने वाहनों की रफ्तार को कम किया। जनपद में दिनोंदिन सर्दी अपना सितम ढहा रही है। पहाड़ी क्षेत्रों में हो रही बर्फबारी के कारण जिले का तापमान में गिरावट आ रही है। गुरुवार को शीतलहर व आसमान में छाए कोहरे ने लोगों को कंपकंपाए रखा। लोगों को गर्म वस्त्र और अलाव भी सर्दी से निजात नहीं दिला सके। वे दिनभर ठिठुरते रहे। वहीं, घने कोहरे की वजह से वाहन चालकों को परेशानी उठानी पड़ी।

पहाड़ी क्षेत्रों में हो रही बर्फबारी और मैदान में चल रही शीतलहर के कारण जनपद का मौसम ठंडा हो गया है। शीतलहर चलने और आसमान में कोहरा छाने से लोग ठंड में कंपकंपाते रहे। लगातार सातवें दिन सूर्यदेव के दर्शन नहीं हुए। सुबह के समय कोहरे के साथ ओस की बूंदे टपकती रही, जिससे सड़कें भी गीली हो गई। सुबह ज्यादा कोहरा छाए रहने से वाहन चालकों को परेशानी उठानी पड़ी। दुर्घटनाओं से बचने के लिए उन्हें फाग लाइट जलानी पड़ी और रफ्तार पर ब्रेक लगाने पड़े। वहीं, शाम होते ही सर्दी ने फिर से अपना सितम दिखाना शुरू कर दिया है।

लोगों ने ठंड से बचने के लिए अलाव जला लिए है। ठंड के चलते बाजार में भी ग्राहकों की भीड़भाड़ कम हो गई है। ठंड अधिक होने से लोग बिना कारण घरों से बाहर भी कम निकल रहे हैं। सुबह के समय टहलने वाले लोगों की संख्या में कमी हो गई। चिकित्सक भी लोगों को ठंड से बचाव की सलाह दे रहे हैं। नगर निगम की ओर से जगह-जगह अलाव जलाए जा रहे हैं।

बफीर्ली हवाओं के असर से जिले के तापमान में एक बार फिर बदलाव आ गया है। ठिठुरन भरी ठंड बढ़ गई है। पूरा जिला शीतलहर और कोहरे की चपेट में है। पिछले सात दिन से लगातार घना कोहरा छा रहा है और सुबह से सर्द हवाएं चल रही हैं। जिससे जिले के न्यूनतम तापमान में गिरावट आ गई है और मौसम के इस बदलाव से इंसानों के साथ ही मवेशियों के स्वास्थ्य पर भी विपरीत प्रभाव पड़ रहा है।

गुरुवार तड़के बारिश हुई और इसके बाद घना कोहरा छाया। गुरुवार सुबह मौसम ने करवट बदली और झमाझम बारिश हुई। बारिश के बाद घना कोहरा छाया। हाइवे पर शून्य दृष्टयता रही। वाहनों को लाइट जलाकर चलना पड़ा। शीतलहर से सर्दी का सितम ओर बढ़ गया। दिनभर आसमान में बादल छाए रहे। ठंड बढ़ने से लोग अलाव सेंकते नजर आए। बाजारों में चहल पहल कम दिखाई दी।

शाम ढलते ही लोग घरों में कैद हो गए। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि शुक्रवार को भी कोहरा छाए रहने के आसार है। मौसम कार्यालय पर अधिकतम तापमान 15.6 डिग्री सेल्सियस व न्यूनतम तापमान 7.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। अधिकतम आर्द्रता 97 न्यूनतम आर्द्रता 83 प्रतिशत दर्ज की गई। बारिश 2.2 मिमी दर्ज की गई।

सूर्यदेव के नहीं हुए दर्शन

लगातार सातवें दिन सूर्यदेव के दर्शन के लिए नागरिक तरस गए। वहीं, धूप न निकलने से स्थानीय लोग परेशान हैं, लेकिन पर्यटकों को यहां का मौसम खूब भा रहा है। बफीर्ली हवाओं से लोग जुकाम, खांसी से पीड़ित हो रहे हैं और लोगों की दिनचर्या प्रभावित हो गई है। नगर नगर क्षेत्र में अलाव जलने से लोगों को ठंड से परेशानी का सामना करना पड़ता है। मौसम को जिस तरह से मिजाज बना हुआ है आने वाले कुछ और दिन लोगों को राहत मिलने की उम्मीद कम है और दलहन-तिलहन की फसल पर खतरा मंडरा गया है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
3
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -
spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments