Home Uttar Pradesh News Meerut मासूम छाती से चिपका रहा, मां दुनिया छोड़ गई

मासूम छाती से चिपका रहा, मां दुनिया छोड़ गई

0
मासूम छाती से चिपका रहा, मां दुनिया छोड़ गई
  • आंखों के सामने अम्मी के कत्ल ने रिश्ते को दागदार बना दिया
  • खून से लथपथ मासूम को पता नहीं कि अब उसे ममता भरी गोद नसीब नहीं होगी

ज्ञान प्रकाश |

मेरठ: सच में अगर आप इस हृदयविदारक दृश्य को देख लेते तो आपकी रुह कांप जाती। यह किसी फिल्म की पटकथा पर आधारित दृश्य नहीं था बल्कि रिश्तों को कलंकित करते हुए एक कातिल के निर्दयी कारनामे को दिया गया अंजाम था।

ब्रह्मपुरी के सिटी कालोनी में रिश्ते में मामा कहलाने वाले युवक ने जब अपनी प्रेमिका की गला काटकर हत्या की उस वक्त उसका ढाई साल का बच्चा उसकी छाती से लिपटा हुआ बेखौफ सो रहा था। खून से तरबतर मासूम को अहसास भी नहीं था जिस मां की छाती से लगाकर उसने दूध पिया और बड़ा हो रहा उसी मां की खून से लथपथ छाती का खून उसके होंठों पर चिपक गया था।

सिटी कालोनी में रहने आबाद को उसकी दूसरी पत्नी जाबैदा ने हमेशा अंधेरे में रखा। उसके घर में आने वाला समीर उसका प्रेमी था जिसे वो अपना भाई कहकर परिचय कराती थी। आबाद के चारों बच्चे सानिया, जावेद, सना और साजिद मामू कहकर बुलाते थे।

सोमवार की रात इन चारों बच्चों के लिये कत्ल की रात बनकर आई। जिस मामू ने रात को कोल्ड ड्रिंक और चाऊमीन खिलाई थी उसी मामू ने इनके सिर से ममता की छांव हमेशा के लिये गायब कर दी। अपने साथ सो रहे आबाद की गला काटकर हत्या करने के बाद वो दूसरे कमरे में आया जहां जावेदा अपने बच्चों के साथ सो रही थी। ढाई साल का बच्चा साजिद मां की छाती से चिपक कर सो रहा था।

तभी समीर छुरा लेकर आया और जैसे ही उसने पहला बार गर्दन पर किया तभी तेजी से चिल्लाई। उसकी चीख सुनकर उसकी नौ साल की बेटी सानिया जाग गई। छुरे के दो वार ने जावेदा की सांसों को तोड़ दिया। मासूम साजिद मां की छाती से चिपका रहा और मां का खून उसके शरीर से लिपट गया मानो खून का रिश्ता आखिरी सांस तक निभाने का वादा मां पूरा करके चली गई।

बड़ी बेटी सानिया को काटो तो खून नहीं। उसने चिल्लाकर कहा मामू मम्मी को क्यों मार रहे हो। हत्यारोपी समीर ने बस यही कहा तुम चुप रहो नहीं तो तुमको भी मम्मी के पास भेज दूंगा। सानिया ने देखा उसका मामू दीवार फांद कर फरार हो गया। जब वो दूसरे कमरे में पापा को बताने गई तो वहां पापा की खून से सनी लाश देखकर उसकी चीख निकल गई और रात ढाई बजे के करीब नन्हीं-सी सानिया घर के बाहर आई चिल्लाकर पड़ोसियों को जगाया। एसपी सिटी विनीत भटनागर का कहना है कि मां की छाती से चिपके साजिद को देखकर वहां मौजूद पुलिसकर्मियों की आंखों में आंसू आ गए।

जिसने भी देखा वो खुद को संभाल नहीं पाया। बच्चे का शरीर भी खून लगने के कारण मार्मिक हो गया था। किसी तरह बच्चे को अलग करके साफ करके सुलाया गया। बाकी बच्चे गहरी नींद में सो रहे थे। देखते देखते पूरा परिवार एक अनैतिक रिश्तों की भेंट चढ़ गया और चारों बच्चों की जिंदगी को अंधकार में धकेल गया। सानिया की आंखों में उस वक्त आंसू नहीं थे क्योंकि उसे गहरा सदमा लगा था, लेकिन उसने पुलिस अधिकारियों को एक समझदार बच्चे की तरह जानकारी दी और बस यही कहा कि अब हम लोग अम्मी और पापा के बिना कैसे रहेंगे।

अवैध संबंधों को लेकर दंपति की निर्मम हत्या

रिश्तों को तार-तार करते हुए भाई बनकर घर आने वाले एक युवक ने प्रेमिका और उसके पति की छुरे से गला रेतकर निर्मम हत्या कर दी और फरार हो गया। घटना की चश्मदीद गवाह नौ साल की बेटी ने अपनी आंखों से मां-बाप का कत्ल देखा और मदद के लिये गुहार लगाई। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया है। इस घटना से ब्रह्मपुरी थाना क्षेत्र के सिटी गार्डन कालोनी में दहशत फैल गई है।

सिटी गॉर्डन में आबाद अपनी पत्नी जाबेदा और बच्चों के साथ रहता था। उसके घर में कंकरखेड़ा निवासी समीर का काफी आना जाना रहता था। आबाद की पत्नी जाबेदा इस युवक को अपना भाईजान बताती थी। सोमवार रात समीर कोल्ड ड्रिंक और चाऊमीन लेकर आया था। घर में आबाद ने इसके साथ कोल्ड ड्रिंक पी थी। समीर ने जाबेदा से कहा था कि आज की रात वो यहीं पर रुकेगा और सुबह घर चला जाएगा। आबाद और समीर एक कमरे में सो गए और जाबेदा बच्चों को लेकर दूसरे कमरे में सो गई।

एसपी सिटी विनीत भटनागर ने बताया कि रात ढाई बजे के करीब समीर उठा और जानवर काटने वाले छुरे से आबाद पर हमला बोल दिया। आबाद की चीख सुनकर जाबेदा उठी और आबाद को बचाने का प्रयास करने लगी। इस बीच समीर ने छुरे से आबाद के गले पर घातक वार कर दिया। जिससे आबाद बुरी तरह से लहूलुहान होकर गिर पड़ा और उसकी मौत हो गई। पति को बचाने आई जाबेदा ने बचाओ-बचाओ का शोर मचाना शुरू किया तो समीर ने जाबेदा का गला भी रेत दिया।

पुलिस के मुताबिक घटना के समय घर में नौ साल की बेटी सानिया थी। सानिया ने ही बताया की मेरी मम्मी समीर को रिश्ते का भाई बताती थी। कुछ समय पहले ही कंकरखेड़ा के रहने वाले समीर के घर पर आना-जाना शुरू हुआ था। सानिया ने पुलिस को बताया कि पहले अब्बू का गला काटा, मैं शोर सुनकर पहुंची तो मुझे लात मारी और फिर पटककर मारा। आबाद खून से लथपथ फर्श जा गिरा। उसके बाद समीर ने अम्मी जावेदा का कत्ल कर दिया।

पुलिस के मुताबिक ब्रह्मपुरी थाना क्षेत्र के सिटी गॉर्डन निवासी आबाद (40) मुर्गी सप्लाई करने का काम करता था। आबाद की पहली पत्नी नसीम की छह साल पहले मौत हो चुकी है। पहली पत्नी से सात बच्चे हैं, जो अलग रहते हैं। छह साल पहले ही आबाद ने आसाम निवासी जावेदा से दूसरी शादी कर ली। जावेदा की भी दूसरी शादी है। जो अपनी तीन साल की बेटी सानिया को साथ लेकर आई। आबाद के दूसरी पत्नी जावेदा से तीन बच्चे हैं।

घटना के समय रात में सानिया (9), जावेद (5), सना (4) और 3 साल का बच्चा साजिद भी घर में था। आबाद व पत्नी जावेदा की हत्या के मामले में आबाद के भाई ने ब्रह्मपुरी थाने में समीर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। 9 साल की बेटी सानिया ने कहा की रात मे मम्मी के जोर-जोर से चिल्लाने की आवाज आ रही थी, मैंने सोचा कि मम्मी व पापा की लड़ाई हो रही होगी। मम्मी चिल्ला रही थी कि बचा लो, बचा लो। सानिया ने बताया कि जैसे ही दूसरे कमरे में पहुंची तो अंकल समीर मम्मी का गला काट रहा था, शरीर पर खून ही खून था।

इतने में ही मम्मी नीचे गिर गई, फिर वह नहीं बोली। सानिया ने बताया की मैं पापा के पास पहुंची तो वहां खून ही खून था, पापा भी नहीं बोले। पापा का भी गला कटा हुआ था। इतने में समीर हाथ में बड़ा-सा छुरा लेकर भाग निकला। अंकल ने मेरे पेट पर भी लात मारी थी। किसी तरह मैं बाहर निकली और शोर मचाया कि मेरी मम्मी-पापा को समीर अंकल ने मार दिया है। आबाद व पत्नी जावेदा की हत्या की सूचना मिलते ही सुबह घर के बाहर भीड़ लग गई। पास में रहने वाले कई लोगों ने बताया की जब आबाद घर पर नहीं रहता था, तो समीर आता जाता था। समीर के आबाद की पत्नी जावेदा से अवैध संबंध थे।

घर और पड़ोस में जावेदा यही बताती थी की समीर मेरा रिश्ते का भाई है। पुलिस भी यही मानकर चल रही है समीर ने प्रेमिका और प्रेमिका के पति की हत्या की है। दोहरे हत्याकांड की सूचना पर एसएसपी प्रभाकर चौधरी, एसपी सिटी विनीत भटनागर और आईपीएस अधिकारी विवेक भी पहुंचे और बच्चों के अलावा पड़ोसियों से भी बात की। एसपी सिटी ने बताया की कई बिंदुओं पर जांच की जा रही है। शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिए गए हैं। हत्यारोपी को पकड़ने के लिये सरूरपुर थाना क्षेत्र के गांव गोटका में टीम भेजी गई है।

बेटी के 164 के बयान

एसएसपी ने डबल मर्डर की चश्मदीद गवाह सानिया को सुरक्षा देते हुए 164 के बयान कराने को कहे हैं। सानिया बुरी तरह से दहशत में है। सुबह जब पुलिस मौके पर पहुंची तब सानिया के चेहरे पर दहशत साफ दिख रही थी। उसने जब पुलिस को कत्ल की कहानी सुनाई तो रोंगटे खड़े हो गए। सानिया का कहना था कि अब्बू को मार देने के बाद जब मम्मी को छुरे से मार रहे थे। तब मम्मी चिल्ला रही थी, लेकिन समीर अंकल गालियां दे
रहे थे।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0

Leave a Reply