Thursday, April 25, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutअब हाड़ कंपाने वाली ठंड के लिए हो जाओ तैयार

अब हाड़ कंपाने वाली ठंड के लिए हो जाओ तैयार

- Advertisement -
  • दिसंबर माह में बढ़ेगी और भी अधिक ठंड
  • पहाड़ों पर हो रही बर्फबारी का असर मैदानी इलाकों में दिखाई देने लगा
  • फिर से बढ़ने लगा महानगर में प्रदूषण का प्रकोप

जनवाणी संवाददाता |

मोदीपुरम: दिसंबर के महीने में ठंड का प्रकोप लगातार बढ़ रहा है। ठंड के बढ़ने से लोगों ने गर्म कपड़ों का सहारा लेना शुरु कर दिया है। हालांकि अभी तक ठंड का अत्यधिक प्रकोप देखने को नही मिल रहा था, लेकिन पहाड़ों पर हुई बर्फबारी के कारण मैदानी इलाकों में ठंड का एहसास बढ़ गया है। मौसम विशेषज्ञों की माने तो उनकी राय है कि आने वाले दिनों में ठंड का प्रकोप बढ़ेगा और लोगों को बढ़ती सर्दी परेशान करेगी।

उधर, प्रदूषण का प्रकोप फिर से बढ़ने लगा है। दो दिन प्रदूषण में कमी रही, लेकिन फिर से प्रदूषण का प्रकोप बढ़ गया है। बढ़ता प्रदूषण लोगों के लिए परेशानी खड़ी करने लगा है। खासकर अस्थमा और दमा के रोगियों को यह बढ़ता प्रदूषण अधिक परेशान करेगा। इसलिए इस प्रदूषण में बचाव करना बेहद जरूरी एवं अहम है।

नवंबर के महीने में हर वर्ष अच्छी खासी सर्दी पड़ती थी, लेकिन इस बार सर्दी का एहसास इस माह में कम रहा है। दिसंबर क ी शुरुआत में भी सर्दी कम रही, लेकिन अब धीरे-धीरे सर्दी का एहसास बढ़ने लगा है। इस महीने में सर्दी का प्रकोप अत्यधिक बढ़ने की संभावना व्यक्त की जा रही है। सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि एवं प्रौद्योगिक विवि के मौसम वैज्ञानिक डा. यूपी शाही का कहना है कि सर्दी का एहसास बढ़ेगा।

08 12

पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने के कारण मौसम में इजाफा होगा। जिसके चलते लोगों की परेशानी भ्ी बढ़ेगी। राजकीय मौसम वैधशाला पर सोमवार को दिन का अधिकतम तापमान 23.8 डिग्री एवं न्यूनतम तापमान 6.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। अधिकतम आर्द्रता 92 एवं न्यूनतम आर्द्रता 48 प्रतिशत दर्ज की गई।

फिर बढ़ा प्रदूषण का प्रकोप

मेरठ में एक बार फिर से प्रदूषण का प्रकोप बढ़ा है। इसके बढ़ने से लोगों को परेशानी होगी। अस्थमा और दमा के रोगियों को सांस लेने में दिक्कते होगी। मेरठ में प्रदूषण 281, बागपत में 246, मुजफ्फरनगर में 318, गाजियाबाद में 256, जयभीमनगर में 282, गंगानगर में 271 और पल्लवपुरम में 291 दर्ज किया गया है।

ठंड में बसों के सुरक्षित संचालन को एडवाजरी जारी

मेरठ: लखनऊ मुख्यालय से प्रबंध निदेशक की ओर से वीडियो कांफें्रसिंग के माध्यम से जारी की गई एडवाजरी के दौरान कम आय देने वाली रात्रिकालीन सेवाएं बन्द या न्यूनतम करने को कहा गया। एडवाजरी में कहा गया कि रात्रिकालीन सेवाओं को रिशिड्यूल करते हुए सिंगल क्रू पर दिन में संचालित कराया जाए। सहायक क्षेत्रीय प्रबन्धक स्वयं बस का रेफलेक्टिव टेप, बैक लाइट, वाइपर, इंडिकेटर, चालक का ब्रेथ टेस्ट आदि से संतुष्ट होकर ही बस को मार्ग पर भेजें। सोहराब गेट, भैंसाली, गढ़, बड़ौत बस स्टेशनों पर चालक, परिचालक के रुकने के लिए रेस्ट रूम और यात्रियों के रुकने की पर्याप्त व्यवस्था हो।

तथा जिला प्रशासन से मिलकर अलाव, रैन बसेरा आदि की व्यवस्था करा ली जाए। एसएम लोकेश राजपूत ने बताया कि क्षेत्रीय स्तर पर कंट्रोल बनाया जाएगा, जिसमें रात्रि आठ बजे से सुबह आठ बजे तक प्रत्येक बस स्टेशन से उनके इलाके में कोहरे की स्थिति नोट कराई जाएगी। कोहरा पड़ने की दशा में मार्ग की सभी बसों को अनिवार्य रूप से बस स्टेशन पर डिटेन किया जाएगा, तथा बस स्टेशन पर रोके जाने वाली बसों का पूर्ण विवरण प्रत्येक घंटे कंट्रोल रूम में नोट कराया जाना अनिवार्य होगा। बस स्टेशनों पर रात्रि में भी साफ-सफाई पर्याप्त रोशनी की व्यवस्था हो। जिससे बस स्टेशन पर डिटेन हुई बसों के यात्रियों को कोई असुविधा न हो।

खासकर महिला शौचालय पर विशेष ध्यान दिया जाए। मुख्यालय ने निर्देश जारी किए कि क्षेत्र में उपलब्ध समस्त ब्रेथ एनालाइजर कार्यरत रहें तथा प्रवर्तन कार्मिकों के जरिये चालकों का ब्रेथ टेस्ट अनिवार्य रूप से किया जाए। तथा कोहरे की स्थिति ब्रेक डाउन, दुर्घटना की जानकारी तत्काल पास के डिपो के सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक एवं क्षेत्रीय प्रबंधक को अवश्य दी जाए। समस्त बसों का 31 बिन्दुओं पर सर्वे कराते हुए कमियों को तत्काल ठीक कराया जाए। बसों के सर्वे की सूचना 20 दिसंबर तक प्रत्येक दशा में मुख्यालय को उपलब्ध करा दी जाए। मार्ग डायवर्जन की सूचना पूछताछ कार्मिक की ओर से दी जाए।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments