Monday, June 14, 2021
- Advertisement -
Homeसंवादतेल की खातिर तनाव

तेल की खातिर तनाव

- Advertisement -
0


बीती छह मई 2021 से जहां एक ओर ‘हमास’ नामक एक उग्रवादी फिलिस्तीनी समूह, ‘अल- अक्सा’ मस्जिद से जुड़े विवाद को लेकर इस्राइल पर मिसाइलें दाग रहा है, वहीं इस्राइल, फिलिस्तीनियों पर बड़े पैमाने पर हमले कर रहा है। इस टकराव में फिलिस्तीनी पक्ष को जानोमाल का अधिक नुकसान उठाना पड़ा है। फिलिस्तीन में 60 बच्चों सहित 200 से अधिक लोग मारे जा चुके हैं, जबकि इस्राइल में 10 लोगों, जिनमें एक बच्चा शामिल है, की मौत हुई है। इस्राइल ने उस इमारत को भी नष्ट कर दिया है जिसमें दुनिया भर के मीडिया हाउसों के दफ्तर थे। यह सब अत्यंत गंभीर और त्रासद है। इन घटनाओं के लिए जमाने से चले आ रहे ‘अल-अक्सा’ मस्जिद विवाद को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है, परंतु इस सन्दर्भ में दुनिया के तेल उत्पादक क्षेत्र के नजदीक ‘अमरीकी चौकी’ के रूप में इस्राइल के निर्माण और वहां की सत्ता ‘यहूदीवादियों’ के हाथों में सौंपा जाने के घटनाक्रम को समझा जाना जरूरी है।

दूसरे विश्वयुद्ध के बाद अमरीका और ब्रिटेन ने फिलिस्तीन की धरती पर इस्राइल का निर्माण इस बहाने से किया कि दुनिया भर में सताए गए यहूदियों को उनके अपने देश की जरुरत है। दरअसल, इस्राइल अधिवासी औपनिवेशवाद, सैनिक कब्जे और जमीन की चोरी का उदाहरण है। फिलिस्तीन एक लंबे समय से अलग देश रहा है। ऐसा नहीं है कि इस देश के नागरिक केवल मुसलमान हों। अरबी मुसलमानों के अलावा ईसाई और यहूदी भी फिलिस्तीन के नागरिक हैं। इस इलाके में यहूदियों का देश बनाने के पीछे तर्क यह दिया गया था कि यहूदी धर्म की जड़ें वहां हैं। जेरुसलेम (येरुशलम) तीनों ‘इब्राहीमी धर्मों’ -यहूदी, इस्लाम और ईसाई की श्रद्धा का केंद्र
रहा है।

‘यहूदीवादियों’ के नेतृत्व में यहूदियों का पहला वैश्विक जमावड़ा 1897 में जर्मनी में हुआ था। इसमें यहूदियों के लिए अलग देश की मांग की गई थी। इस मसले को समझने के लिए सबसे पहले हमें ‘यहूदीवाद’ (जायोनिज्म) और यहूदी धर्म (जूडाइज्म) के बीच के अंतर को समझना होगा। यहूदी एक धर्म है, जबकि ‘यहूदीवाद’ से आशय है, यहूदी धर्म के नाम पर राजनीति-इस्लाम और इस्लामिक कट्टरतावाद (जैसे तालिबान) या हिंदू धर्म और हिंदुत्व की तरह।

इस बैठक में यहूदियों के लिए एक अलग देश की मांग करने वाले प्रस्ताव का पूरी दुनिया के विभिन्न हिस्सों में रह रहे यहूदियों ने कड़ा विरोध किया था। उनका तर्क था कि इस तरह की मांग से उन्हें अन्य देशों में भेदभाव का सामना करना पड़ेगा और यहूदी व्यापारियों और पेशेवरों को नुकसान होगा। विश्वयुद्ध ने अलग यहूदी राज्य की मांग को मजबूती दी। इसका कारण था, जर्मनी में यहूदियों का कत्लेआम। परंतु इसके बाद भी जर्मनी के ही कई यहूदी इस मांग के विरोध में थे, क्योंकि उन्हें यह अहसास था कि एकल धार्मिक पहचान पर आधारित राज्य, अन्य पहचानों के प्रति उतना ही क्रूर और दमनकारी हो जायेगा जितना कि नाजीवादी जर्मनी था।

इस्राइल के निर्माण के लिए फिलिस्तीन का एक बड़ा भू-भाग उससे छीन लिया गया। नतीजे में लाखों फिलिस्तीनियों को अपना घर-बार छोड़ना पड़ा। इस नए देश को, विशेषकर अमरीका द्वारा हथियारों से लैस कर दिया गया। यह साफ था कि पश्चिमी साम्राज्यवादी शक्तियां, पश्चिम एशिया में सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण क्षेत्र में अपना एक अड्डा बनाना चाहतीं थीं। जब कच्चे तेल के संसाधनों को लेकर राजनीति शुरू हुई तब इन शक्तियों ने तर्क दिया कि तेल इतना कीमती है कि उसे अरबों के हाथों में नहीं छोड़ा जा सकता। अमरीका और ब्रिटेन ने इस्राइल को ताकतवर बनाने के लिए सब कुछ किया। यह महत्वपूर्ण है कि दुनिया भर में धनी यहूदी व्यापारी काफी प्रभावशाली हैं और सत्ता के केंद्रों पर उनका नियंत्रण है, विशेषकर अमरीका में।

इस्राइल ने 1967 में फिलिस्तीन के एक बड़े हिस्से पर कब्जा कर लिया। इस कारण लाखों फिलिस्तीनी आसपास के देशों में शरणार्थी के रूप में जीने के लिए मजबूर हो गए। इस्राइल की निर्दयता और उसके आक्रामक व्यवहार की ‘संयुक्त राष्ट्र संघ’ (यूएनओ) ने निंदा की। ‘यूएनओ’ द्वारा पारित अनेक प्रस्तावों में फिलिस्तीनियों के साथ न्याय की मांग करते हुए इस्राइल से उन इलाकों से पीछे हटने के लिए कहा गया जिन पर उसका अवैध कब्जा है, परन्तु इस्राइल ने इन प्रस्तावों की कोई परवाह नहीं की। अमरीका के पूर्ण समर्थन के कारण ही इस्राइल अन्तर्राष्ट्रीय और नैतिक मानदंडों का खुल्लम-खुल्ला उल्लंघन करता आया है।

इस पूरे मामले में धर्म की कोई भूमिका नहीं है। असली मुद्दा है, तेल के संसाधनों पर नियंत्रण और दुनिया के इस क्षेत्र पर सैन्य-राजनैतिक वर्चस्व। ‘यूएनओ’ की ‘सुरक्षा परिषद’ दोनों पक्षों से युद्ध-विराम की अपील करते हुए एक प्रस्ताव पारित करना चाहती थी, परन्तु अमरीका ने अपने ‘वीटो’ का प्रयोग करते हुए इस प्रस्ताव को पारित नहीं होने दिया। इस्राइल के रक्षामंत्री ने कहा कि यह युद्ध तब तक जारी रहेगा जब तक इस्राइल अपने लक्ष्य हासिल नहीं कर लेता।

इस समय पूरी दुनिया में इस्राइल के खिलाफ प्रदर्शन हो रहे हैं और यह मांग की जा रही है कि इस्राइल हमले बंद करे। ‘हमास’ द्वारा इस्राइल पर मिसाइलें दागने का कोई औचित्य नहीं है, परन्तु जबरदस्त दमन और प्रताड़ना के शिकार किसी भी समुदाय में अतिवादी समूहों का उभरना स्वाभाविक है। किसी समुदाय के साथ अत्यधिक अन्याय इस तरह के समूहों को बढ़ावा ही देता है।

भारत शुरुआत से ही फिलस्तीनियों का पक्ष लेता आ रहा है। महात्मा गांधी ने लिखा था, ‘यहूदियों के प्रति मेरी सहानुभूति, न्याय की जरुरत के प्रति मुझे अंधा नहीं बनाती। यहूदियों को अरबों पर थोपना गलत और अमानवीय है।’ अटल बिहारी वाजपेयी और सुषमा स्वराज भी फिलिस्तीन के साथ और उस देश की जमीन पर इस्राइल के कब्जे के खिलाफ थे।

हाल के कुछ वर्षों में देश में सांप्रदायिक राष्ट्रवाद के उदय के साथ, भारत सरकार इस्राइल की तरफ झुकी है और फिलिस्तीनियों के साथ न्याय की मांग को अपेक्षित महत्व नहीं दिया जा रहा है। दुनिया का यह क्षेत्र दशकों से ‘हॉटस्पॉट’ रहा है। अब समय आ गया है कि सभी वैश्विक ताकतें ‘यूएनओ’ के प्रस्तावों का पालन करें और यह सुनिश्चित करें कि फिलिस्तीनियों के साथ न्याय हो और उन्हें उनके अधिकार और उनकी भूमि वापस मिले। इसके साथ ही, हम एक देश के रूप में इस्राइल के उदय को भी नजरअंदाज नहीं कर सकते।

अब तो यही किया जा सकता है कि ‘यूएनओ’ दोनों देशों के बीच सीमा का निर्धारण करे और दोनों इस सीमा का सम्मान करें। फिलिस्तीनियों के मानवाधिकारों का घोर उल्लंघन, शांतिपूर्ण दुनिया के निर्माण के पक्षधरों के लिए चिंता का विषय है। अमरीकी साम्राज्यवादियों को तेल के संसाधनों पर कब्जा करने की अपनी लिप्सा को नियंत्रित करना चाहिए और मध्यपूर्व के सभी निवासियों के लिए न्याय की बात सोचनी चाहिए।


What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments