Tuesday, June 25, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutमेरठ में मतदान केन्द्र घटे, बूथों की संख्या में वृद्धि

मेरठ में मतदान केन्द्र घटे, बूथों की संख्या में वृद्धि

- Advertisement -
  • संसदीय और विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के केन्द्रों के उपबंध के संबंध में डीएम ने जारी किए आदेश

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: जिलाधिकारी, जिला निर्वाचन अधिकारी दीपक मीणा ने लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा-25 के उपबंधों के अनुसरण में निर्वाचन आयोग के पूर्व अनुमोदन से संसदीय/विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के लिए लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र 11-बागपत समाविष्ट विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र 43-सिवालखास, लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र 03-मुजफ्फरनगर समाविष्ट विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र 44-सरधना, लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र 04-बिजनौर समाविष्ट विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र 45-हस्तिनापुर (अजा) तथा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र 10-मेरठ समाविष्ट विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र 46-किठौर, 47-मेरठ कैन्ट, 48-मेरठ व 49-मेरठ दक्षिण मतदान केन्द्रों का उपबंध किया गया है।

जिसके अनुसार जनपद में अब मतदेय स्थलों (बूथों) में 18 की वृद्धि के साथ इनकी संख्या 2758 हो गई है। जबकि मतदान केन्द्र 1171 में एक की कमी होने के साथ इनकी संख्या 1170 रह गई है। जिलाधिकारी, जिला निर्वाचन अधिकारी दीपक मीणा ने बताया कि जनपद में अवस्थित विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों 43-सिवालखास, 44-सरधना, 45-हस्तिनापुर (अजा), 46-किठौर, 47-मेरठ कैन्ट, 48-मेरठ शहर एवं 49-मेरठ दक्षिण में मतदेय स्थलों के सम्भाजन के उपरांत प्रस्तावित मतदेय स्थलों पर भारत निर्वाचन आयोग का अनुमोदन प्राप्त हो गया है।

07 25

आयोग के अनुमोदन उपरांत अंतिम रूप से प्रकाशित मतदेय स्थलों की सूची के अनुसार वर्तमान में जनपद में कुल 2758 मतदेय स्थल एवं 1170 मतदान केन्द्र हो गये हैं। उन्होंने बताया कि 43-सिवालखास में मतदेय स्थलों की संख्या 371, मतदान केन्द्रों की संख्या 182, 44-सरधना में मतदेय स्थलों की संख्या 373, मतदान केन्द्रों की संख्या 183, 45-हस्तिनापुर (अजा) में मतदेय स्थलों की संख्या 369, मतदान केन्द्रों की संख्या 190, 46-किठौर में मतदेय स्थलों की संख्या 395, मतदान केन्द्रों की संख्या 176, 47-मेरठ कैन्ट में मतदेय स्थलों की संख्या 439, मतदान केन्द्रों की संख्या 144, 48-मेरठ शहर में मतदेय स्थलों की संख्या 323, मतदान केन्द्रों की संख्या 129, 49-मेरठ दक्षिण में मतदेय स्थलों की संख्या 488, मतदान केन्द्रों की संख्या 166 हो गई है। जो सूची जारी की गई है, उसके अनुसार सरधना और हस्तिनापुर में 6-6 नए बूथ बढ़ाए गए हैं। मेरठ कैंट में चार और मेरठ दक्षिण में दो बूथों की संख्या बढ़ गई है।

वोटरों को हेल्पलाइन ऐप पर मिलेगी जानकारी

अपर जिलाधिकारी (प्रशासन) उप-जिला निर्वाचन अधिकारी अमित कुमार ने अवगत कराया कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार अर्हता एक जनवरी 2024 के आधार पर विधानसभा निर्वाचक नामावलियों का संक्षिप्त पुनरीक्षण-2024 अभियान में मतदाता सूची में नाम देखने की व्यवस्था के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से मतदाता सूची आलेख्य प्रकाशन 27 अक्टूबर से नौ दिसंबर 2023 के मध्य सभी मतदान केन्द्रों पर देखने के लिए उपलब्ध कराई जाएंगी। वेबसाइट पर भी मतदाता अपने से संबंधित विवरण की पुष्टि कर सकते हैं। वहीं, अपने मोबाइल में वोटर हेल्पलाइन ऐप डाउनलोड करके भी वोटर लिस्ट से संबंधित सेवाएं प्राप्त की जा सकती है।

अब पोलिंग पार्टिंयों को दिया जाएगा प्रशिक्षण

लोकसभा सामान्य निर्वाचन 2024 की तैयारी को लेकर अलग-अलग विषयों के लिए डिस्ट्रिक्ट लेवल मास्टर ट्रेनर्स को जनपदवार नामित करते हुए पांच दिवसीय प्रशिक्षण शनिवार को पूर्ण हो गया है। अब अगले चरण में जिलेवार पोलिंग पार्टियों को प्रशिक्षण देने का काम शुरू कराया जाएगा। सहायक जिला निर्वाचन अधिकारी वेदपाल सिंह ने अवगत कराया कि जिला पंचायत सभागार में पांच दिवसीय प्रशिक्षण 17 से 21 अक्टूबर तक दिया गया है। डिस्ट्रिक्ट लेवल मास्टर ट्रेनर्स की ओर से दिए जाने वाले इस पांच दिवसीय प्रशिक्षण में मेरठ समेत नौ जिलों के अधिकारियों ने प्रतिभाग किया। प्रशिक्षण लेने वाले यही अधिकारी अब अगले चरण में लोकसभा निर्वाचन-2024 के लिए अपने-अपने जिलों में पोलिंग पार्टियों को प्रशिक्षित करने का काम करेंगे।

प्रशिक्षण देने वाले अधिकारियों में एडीएम मेरठ अमित सिंह, एडीएम सहारनपुर अर्चना द्विवेदी, अतिरिक्त मजिस्ट्रेट बुलंदशहर देवेंद्र पाल सिंह, जिला प्रोबेशन अधिकारी गाजियाबाद मनोज कुमार पुष्कर, सहायक कोषाधिकारी गाजियाबाद कृष्ण कुमार, वित्त नियंत्रक राजकीय मेडिकल कॉलेज सहारनपुर सिद्धार्थ गौतम, जिला सूचना विज्ञान अधिकारी विजेंद्र सिंह, डीआईओएस सहारनपुर योगराज सिंह, हाथरस इंटर कॉलेज के प्रोफेसर विकास कौशिक, एसओसी बदायूं रामकिशोर शामिल रहे हैं। जबकि प्रशिक्षण प्राप्त करने वालों में संबंधित जिलों के एसडीएम एडीएम और विभिन्न विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी शामिल रहे हैं।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments