Monday, June 17, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutआसमान छू रहे खाद्य पदार्थों के दाम

आसमान छू रहे खाद्य पदार्थों के दाम

- Advertisement -
  • रिफाइंडर तेल के टीन पर 700 रुपये की हुई वृद्धि
  • पहले 2000 और अब मिल रहा 2700 रुपये का

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: पिछले कुछ दिनों में ही महंगाई आसमान छू रही है। खाद्य पदार्थों के दाम लगातार बढ़ रहे हैं। जिससे आम आदमी का घर चलाना मुश्किल हो गया है। खाद्य तेलों में काफी बढ़ोतरी देखने को मिली है। जिसमें रिफाइंड की ही बात की जाये तो पिछले 10 दिन में ही रिफाइंड के 15 लीटर के टीन पर 700 रुपये की वृद्धि हुई है। पहले जो टीन दो हजार रुपये का था। वह अब 2700 रुपये का मिल रहा है। इसके अलावा आटा, मैदा, जीरा समेत अन्य खाद्य पदार्थों पर भी दाम बढ़े हैं।

रूस और यूके्रन के बीच चल रहे युद्ध का असर कहीं पड़ा हो या न पड़ा हो, लेकिन इसका असर खाद्य पदार्थों पर जरूर पड़ रहा है। यहां पेट्रोल डीजल के दामों में भी वृद्धि की बात कही जा रही है कि जल्द ही इनके दामों में बढ़ोतरी होगी। जिसके चलते महंगाई अभी से बढ़नी शुरू हो गई है। वैली बाजार से लेकर सदर दाल मंडी तक एक ही आवाज सुनाई पड़ रही है कि पेट्रोल-डीजल की महंगाई से माल ढुलाई बढ़ गई है।

अब इसका असर तो सामान पर ही पड़ेगा। युद्ध के चलते त्योहारी सीजन से पहले ही बाजार में खाद्य तेलों के दाम आसमान छू रहे हैं। सरसों के तेल से लेकर वनस्पति घी, रिफाइंड आॅयल और सूरजमुखी तेल के दाम में 15 से 20 रुपये लीटर तक का इजाफा हो गया है। बाजार के व्यापारियों का कहना है कि होली का त्योहार नजदीक है। वहीं, रूस और यूक्रेन के बीच तनाव के चलते सूरजमुखी, रिफाइंड और सरसों का तेल समेत आटा, मैदा और जीरा आदि पर भी असर देखने को मिला है।

सदर तेल मंडी के व्यापारियों का कहना है कि सूरजमुखी तेल का सबसे बड़ा एक्सपोर्ट यूक्रेन है। भारत में यूक्रेन से 75 प्रतिशत सूरजमुखी तेल आता है। जबकि रशिया से 15 प्रतिशत तेल आता है। भारत में खुद की खाद्य तेल में भागीदारी करीब 45 प्रतिशत है। इस कारण से तेल के दाम तेजी से बढ़ना शुरू हो गये हैं।

रिफाइंड के टीन पर बढ़े दाम

माधवपुरम स्थित गुप्ता स्टोर के संचालक नितिन गुप्ता ने बताया कि पिछले 10 दिन की बात की जाये तो जब युद्ध शुरू हुआ तो रिफाइंड का टीन 2000 रुपये का था, जो अब 2700 रुपये तक का हो चुका है। इसके अलाव जीरे पर भी 20 से 30 रुपये, देसी घी पर 30-40 रुपये आटे पर भी दाम बढेÞ हैं। इन बढ़ते दामों का असर लोगों की रसोई पर भी पड़ना तय है। इसे आप यूक्रेन-रूस के बीच युद्ध का असर कह सकते हैं, लेकिन आम आदमी की रसोई दिनोदिन महंगी होती जा रही है। रसोई के सबसे करीबी सामान की कीमत आसमान छू रही है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
4
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments