Tuesday, June 18, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutटीपीनगर में ट्रांसफर स्टेशन बनने के विरोध में उतरा व्यापार संघ

टीपीनगर में ट्रांसफर स्टेशन बनने के विरोध में उतरा व्यापार संघ

- Advertisement -
  • जमीन से अतिक्रमण हटाने पहुंची निगम की टीम का किया जमकर विरोध
  • ढलावघर के कार्य में रुकावट को श्रीराम शिशु मंदिर के बच्चे भी बुलाए गए

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: शहर में सफाई की हालत में सुधार को नगर निगम प्रयासरत है, मगर व्यापार संघ उसके स्वच्छता मिशन को पलीता लगा रहा है। टीपीनगर और आसपास के क्षेत्र में स्वच्छता के बेहतर इंतजाम के लिए बनाए जा रहे ट्रांसफर सेंटर (कूड़ा कलेक्शन) का व्यापारी वर्ग ने विरोध शुरु कर दिया है। शनिवार को कार्य प्रारंभ होने से पहले ही विरोध करके व्यापारियों ने निगम की टीम को मौके से भगा दिया।

इतना ही नहीं ढलावघर बनने के कार्य को रुकवाने के लिए श्रीराम शिशु मंदिर के छात्रों को मौके पर बुलाकर जमकर विरोध कराया गया, जिसके बाद वहां से टीम को बैरंग ही लौटना पड़ा। टीपीनगर मुख्य मार्ग पर नगर निगम का अपनी जमीन पर ट्रांसफर स्टेशन बनाना प्रस्तावित है। शनिवार को निगम की टीम सहायक अभियंता राजपाल सिंह यादव और प्रवर्तन दल के सेवानिवृत्त लेफ्टिनेंट शक्ति सिंह मलिक के नेतृत्व में उक्त भूमि से अवैध कब्जा हटाने के लिए मौके पर पहुंची थी।

निगम टीम की अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई को देखकर व्यापारियों ने मौके पर ही इसका जमकर विरोध करना शुरू कर दिया। निगम की कार्रवाई को रुकवाने के लिए मौके पर व्यापार संघ के नेता अपने समर्थकों के साथ पहुंच गए। इतना ही नहीं अवैध खोखे और दुकानों को हटाए जाने के विरोध में श्रीराम शिशु मंदिर से छात्रों को बुलाकर धरने पर बैठा दिया गया ताकि निगम की टीम व्यापारियों द्वारा सरकारी जमीन पर किया गया अवैध कब्जा न हटा सके।

पैमाइश की भनक लगते ही उमड़े व्यापारी नेता

शनिवार को सरकारी जमीन से नगर निगम ने सहायक अभियंता राजपाल यादव और प्रवर्तन दल के सेवानिवृत्त लेफ्टिनेंट शक्ति सिंह मलिक के नेतृत्व में अवैध कब्जा हटाने का अभियान शुरु किया। टीपीनगर में ढलावघर की पैमाइश के दौरान भनक लगते ही व्यापार संघ के नवीन गुप्ता, कुलदीप मुखिया, अजय गुप्ता, भाजपा नेता कमलदत्त शर्मा के नेतृत्व में व्यापारियों ने इकट्ठे होकर निगम की कार्रवाई का विरोध प्रारंभ कर दिया।

कहा कि इस जमीन पर ढलाव घर नहीं बनने देंगे। उनकी दलील है कि ढलावघर बन जाने के बाद सड़क पटरी पर न केवल गरीबों का वर्षों से चला आ रहा कारोबार प्रभावित होगा बल्कि पास ही मौजूद स्कूलों के बच्चों के स्वास्थ्य पर भी दुष्प्रभाव पड़ेगा। व्यापार संघ के पदाधिकारियों ने निगम टीम के सामने ही स्कूली बच्चों की फौज को खड़ा कर नारेबाजी शुरू कर दी।

सहायक अभियंता राजपाल यादव ने लोगों को समझाने का प्रयास किया और नगरायुक्त मनीष बंसल से बातचीत करने की बात कही, मगर व्यापारी नहीं माने और काफी देर तक टीम के साथ नोकझोंक होती रही। फोर्स की उपलब्धता न होने की वजह से विरोध होने पर कुछ देर बाद ही टीम बैरंग लौट गई।

स्वच्छता सर्वेक्षण रैंकिंग में सुधार कमर कस रहा निगम

बता दें कि, शहर की स्वच्छता सर्वेक्षण रैंकिंग में सुधार के लिए नगर निगम ने कमर कसी है। इसी के दृष्टिगत शहर में कई प्रमुख बिंदुओं पर कार्य किया जा रहा है। इनमें प्रतिबंधित प्लास्टिक पर प्रतिबंध, शहर के मुख्य मार्गों पर सुलभ शौचालय तथा ढलावघर का निर्माण कार्य कराना प्रस्तावित है। स्वच्छता के मद्देनजर ही नगर निगम द्वारा क्षेत्र के कूड़ा कलेक्शन के लिए टीपीनगर मुख्य मार्ग पर ढलावघर बनना है।

टीपीनगर मुख्य मार्ग पर दशकों से लोहे के खोखे तथा झोपड़ियां डालकर कुछ लोगों के संरक्षण में अवैध ढाबे तथा दूसरी दुकानें खोली हुई है। निगम इसी अवैध कब्जे को हटाकर ट्रांसफश्र सेंटर का निर्माण कार्य करना चाहता है, मगर व्यापार संघ इस सरकारी कार्य में बाधा बनकर खड़ा हो रहा है। टीपीनगर में कूड़ा कलेक्शन सेंटर बनने के खिलाफ व्यापारियों के बिगुल बजाने से अन्य जगहों पर निगम को परेशानी उठानी पड़ सकती है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
3
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments