Sunday, February 28, 2021
Advertisment Booking
Home Uttar Pradesh News Meerut ट्रैफिक पुलिस की लक्ष्मण रेखा का वाहन चालक कर रहे उल्लंघन

ट्रैफिक पुलिस की लक्ष्मण रेखा का वाहन चालक कर रहे उल्लंघन

- Advertisement -
0
  • सड़क किनारे बनी सफेद पट्टी पर खड़ी गाड़िया बन रही जाम का कारण
  • सफेद पट्टी के अंदर गाड़ी खड़ी करने पर 200 से 500 रुपये के जुर्माने का है प्रावधान

विनोद फोगाट |

मेरठ: शहर की यातायात व्यवस्था पहले की तरह पुराने रूप में आ गई है। वाहनों चालकों का रवैया ऐसा हो चुका है कि सड़क किनारे बनाई गई ट्रैफिक पुलिस की लक्ष्मण रेखा पर ही अपने वाहन खड़े करने लगे हैं। जिस कारण शहर के मुख्य मार्ग संकरे होते जा रहे हैं और आए दिन जाम की स्थिति बन रही है।

हालांकि ट्रैफिक पुलिस ने इस लक्ष्मण रेखा का उल्लंघन करने पर 200 से 500 रुपये का जुर्माना वसूलने का भी प्रावधान बनाया हुआ है, लेकिन इसके बावजूद वाहन चालक ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने से बाज नहीं आ रहे हैं।

ट्रैफिक पुलिस ने शहर के सभी मुख्य बाजारों और मार्गों पर सड़क किनारे सफेद पट्टी बनवा रखी है। ताकि शहर के बाजारों में आने वाले चालक अपने वाहनों को सफेद पट्टी के बाहर ही खड़ा करें। इसके साथ सफेद पट्टी के अंदर वाहन खड़ा करने पर 200 से 500 रुपये का जुर्माना वसूला जाने का भी प्रावधान रखा है, लेकिन वाहन चालकों की आदत में शुमार अपने वाहनों को पहले की तरह ही सफेद पट्टी के अंदर ही अपने वाहनों को खड़ा कर देते हैं।

हालांकि ऐसे वाहनों को जब्त करने के लिए ट्रैफिक पुलिस ने शहर में चार क्रेन भी लगा रखी है और प्रतिदिन 20 से 25 वाहनों को जब्त भी कर रही है। इसके बावजूद वाहन चालक अपनी आदतों से बाज नहीं आ रहे हैं। जबकि सड़क किनारे वाहन खड़ा करने से प्रतिदिन शहर के बाजारों और मुख्य मार्गों पर जाम की स्थिति बनी रहती है। यही नहीं दुकानदार भी अपने वाहनों को दुकान के आगे लगा देते हैं।

जिस कारण दुकान पर आने वाले ग्राहक उस वाहन के आगे अपना वाहन खड़ा कर देते हैं, जिससे शहर के मुख्य बाजार संकरे होते जा रहे हैं। ऐसे में मुख्य मार्गों पर जाम की स्थिति बनना लाजिमी हो गया है। वैसे ट्रैफिक पुलिस ने दुकानदारों के लिए अपने वाहनों को खड़ा करने के लिए मल्टीप्लेक्स पार्किंग की योजना कई बार बनाई है, लेकिन वह अभी तक सिरे नहीं चढ़ सकी है। जिस कारण शहर की यातायात व्यवस्था दशकों से वैसी ही बनी हुई है। जबकि प्रत्येक वर्ष वाहनों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है।

इस संबंध में टीआई दीनदयाल दीक्षित का कहना है कि सड़क किनारे बनीं सफेद पट्टी के अंदर वाहन खड़ा करना नो पार्किंग में आता है। ऐसे वाहनों चालकों पर विभाग की ओर से जुर्माना लगाने का प्रावधान रखा हुआ है। इसके बावजूद जो वाहन चालक नियमों का उल्लंघन कर रहा है, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाती है और यह कार्रवाई जारी रहेगी। शहर की यातायात व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं ताकि आमजन को किसी तरह की परेशानी न हो।

ई-रिक्शा और आॅटो के लिए नहीं पुख्ता इंतजाम

शहर में इस वक्त ई-रिक्शा और आॅटों की संख्या में इजाफा होता जा रहा है, लेकिन इनके खड़ा करने के लिए शहर में किसी भी चौराहे पर पुख्ता इंतजाम नहीं किए गए है। जिस कारण ई-रिक्शा और आॅटो चालक सवारी बैठाने व उतारने के लिए कहीं पर भी खड़े हो जाते है।

ऐसे में उनके पीछे वाहनों की लंबी कतार लग जाती है। हालांकि ई-रिक्शा व आॅटो स्टैंड के लिए कई बार योजना बनाई जा चुकी है, लेकिन वह भी सिरे से नहीं चढ़ पा रही है। ऐसे में यदि ट्रैफिक इन वाहनों पर अंकुश लगाए तो कुछ हद तक आमजन को जाम से छुटकारा मिल सकता है।

प्रत्येक चौराहे पर तैनात रहती है ट्रैफिक पुलिस, फिर भी जाम

यातायात व्यवस्था बनाने के लिए शहर के प्रत्येक चौराहे पर ट्रैफिक पुलिस के जवान तैनात रहते हैं। इसके बावजूद सभी चौराहों पर यातायात व्यवस्था बेपटरी रहती है। हालात ऐसे बने हुए हैं कि शहर के चौराहों को पैदल पार करना मुश्किल ही नहीं बल्कि जान जोखिम में डालना है। ट्रैफिक पुलिस के तैनात रहने के बावजूद वाहन चालक किसी भी ओर से अपने वाहन को घुसा देते हैं, जिस कारण चौराहों पर जाम की स्थिति बन जाती है।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments