Monday, July 22, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutबाइक-कैंटर की भिड़ंत में बाइक सवार दो युवकों की मौत

बाइक-कैंटर की भिड़ंत में बाइक सवार दो युवकों की मौत

- Advertisement -
  • चालक कैंटर लेकर मौके से हुआ फरार, एक युवक की हालत गंभीर, हायर सेंटर किया रेफर

जनवाणी संवाददाता |

मवाना: नगर की मिल रोड स्थित कैंटर-बाइक की भिड़ंत में बाइक सवार दो युवकों की मौत हो गई। जबकि बाइक सवार एक अन्य युवक गंभीर रूप से घायल हो गया। सूचना पर पहुंची थाना पुलिस ने दोनों युवकों के शवों को कब्जे में लेकर पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी भेज दिया है। जबकि गंभीर रूप से घायल युवक को उपचार के लिए चिकित्सा के यहां भर्ती कराया गया है। जहां उसकी हालत गंभीर होने के चलते हायर सेंटर रेफर कर दिया गया है।

मीरपुर थाना क्षेत्र के पुट्टी इब्राहिमपुर निवासी 21 वर्ष लक्ष्य पुत्र संजीव, देवबंद थाना क्षेत्र के गांव गंगासपुर निवासी 21 वर्षीय अभिनव पुत्र रविंद्र और गोलू बाइक संख्या यूपी-12एस-7681 से परीक्षितगढ़ से लौट रहा था। युवक जब मवाना-परीक्षितगढ़ रोड स्थित शुगर मिल पुलिया के समीप पहुंचे तो मवाना से परीक्षितगढ़ जा रहे कैंटर से टक्कर हो गई। जिसमें बाइक सवार युवक गंभीर रूप से घायल हो गए।

राहगीरों ने आनन-फानन में थाना पुलिस को सूचना दी। घायलों को उपचार के लिए निजी चिकित्सक के पास भर्ती कराया। जहां चिकित्सकों ने लक्ष्य पुत्र संजीव और अभिनव पुत्र रविंद्र को मृत घोषित कर दिया। जबकि गंभीर रूप से घायल गोलू को उपचार के लिए हायर सेंटर रेफर कर दिया। थाना पुलिस ने दोनों युवकों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

कैंटर चालक मौके से हुआ फरार

घटना के बाद कैंटर चालक कैंटर लेकर मौके से फरार हो गया। पुलिस ने इलाके की सीसीटीवी फुटेज खंगालनी शुरू कर दी है, ताकि आरोपी चालक को जल्द से जल्द पकड़ा जा सके। हादसे में जान गंवाने वाले युवकों के परिवारों को सूचित कर दिया गया है, जिससे उनके घरों में कोहराम मच गया है।

कैंट बोर्ड के संविदा सफाईकर्मी ने की आत्महत्या

मेरठ: कैंट बोर्ड के एक संविदा के सफाई कर्मचारी ने गांव कासमपुर में आवास पर पंखे से लटककर आत्महत्या कर ली। परिजनों का कहना है कि तीन माह से मानदेय न मिलने से तंग आकर ही उसने आत्महत्या की। उन्होंने छावनी परिषद के अधिकारियों द्वारा सुध न लेने पर गुस्से का इजहार किया। कासमपुर निवासी 23 वर्षीय विवेक पुत्र सुदेश ने गुरुवार की रात घर के एक कमरे में छत के पंखे में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। विवेक के चाचा राकेश ने बताया कि रात करीब नौ बजे मां पूनम ने विवेक को आवाज लगाई तो कमरे से कोई जवाब नहीं आया। उन्होंने कमरे में जाकर देखा तो उसका शव छत के पंखे से बंधे एक फंदे में लटका था। परिवार में कोहराम मच गया। मिनटों में आस-पड़ोस के लोग मौके पर दौड़े। उन्होंने विवेक के शव को फंदे से निकाला।

राकेश ने बताया कि उसका पिता का पूर्व में ही स्वर्गवास हो चुका। विवेक कैंट बोर्ड में संविदा का सफाईकर्मी था। तीन माह से उसे मानदेय नहीं मिला था। वह मानसिक रूप से बहुत परेशान था। विवेक के परिवार में मां पूनम के अलावा उसकी बहन सोनाली 22 वर्ष, भाई राघव 11 वर्ष तथा एक बहन वैष्णवी को उसकी बुआ ने गोद ले रखा है। विवेक ही परिवार का खर्च उठाता था। मानदेय न मिलने से वह बहुत आहत था। इसी वजह से उसने आत्महत्या की। परिजनों ने पुलिस को सूचना नहीं दी और गांव के ही शमशान में उसका अंतिम संस्कार कर दिया। विवेक के परिजनों का आरोप है कि उन्होंने कैंट बोर्ड में विवेक के आत्महत्या करने की सूचना दी थी, लेकिन किसी अधिकारी ने सुध नहीं ली। उन्होंने विवेक के परिवार के एक सदस्य को कैंट बोर्ड में नौकरी देने और 20 लाख रुपये की परिजनों को आर्थिक मदद देने की मांग की।

व्यक्ति की संदिग्ध मौत हार्टअटैक या फिर हत्या

मेरठ: लिसाड़ीगेट के इस्लामाबाद में पावरलूम चलाने वाले एक व्यक्ति की संदिग्ध हालात में मौत हो गयी। परिजन हार्टअटैक बता रहे हैं। जबकि इलाके में चर्चा है कि उसकी हत्या की गयी है। इसके पीछे शारिक गैंग के एक शूटर का नाम लिया जा रहा है, जो कुछ दिन पहले ही जेल से छूटकर आया है। दानिश पुत्र इश्तियाक निवासी प्रीतम वाली गली इस्लामाबाद पावर लूम चलता था। शुक्रवार तड़के करीब चार बजे पावरलूम कारखाने में दानिश पाया गया। सूचना मिलने के बाद परिवार के लोग पहुंचे। उसे युग हॉस्पिटल में लेकर पहुंचे, जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। बताया गया है कि दानिश नशे का आदी था। ओवरडोज लेने के चलते हार्टअटैक से उसकी मौत हो गई। दरअसल, थाना पुलिस को सलमान गैंग द्वारा युवक की हत्या की सूचना मिली थी। सूचना मिलने के बाद पुलिस कर्मियों में हड़कंप मच गया। पुलिस मौके पर पहुंची तो युवक की हार्टअटैक से मौत होना बताकर परिवार वालों ने पोस्टमार्टम करने से इंकार कर दिया।

बिजली मैकेनिक ने खुद को गोली से उड़ाया

दौराला: क्षेत्र के एक गांव में शुक्रवार को बिजली मैकेनिक ने कमरे में जाकर खुद को गोली मार ली। गोली की आवाज सुनकर परिजन मौके पर पहुंचे और लहूलुहान हालत में घायल को मोदीपुरम के निजी अस्पताल में भर्ती कराया। देर शाम उपचार के दौरान घायल ने दम तोड़ दिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने घटना की जानकारी ली। थाना क्षेत्र के गांव भराला निवासी शिवकुमार (40) पुत्र कमल सिंह मोदीपुरम में एक बिजली की दुकान पर कार्य करता था।

शुक्रवार को वह काम पर नहीं गया और गांव में ही घूमता रहा। शुक्रवार दोपहर शिवकुमार घर लौटा और कमरे में चला गया। उसके कमरे में जाने के बाद पीछे से पत्नी नीटू पानी लेकर पहुंची। कमरे के पास पहुंचते ही नीटू को कमरे से गोली चलने की आवाज आई। गोली की आवाज सुनकर अन्य परिजन भी शिवकुमार के कमरे की और दौड़े। शिवकुमार फर्श पर लहूलुहान हालत में पड़ा था। शिवकुमार को लहूलुहान हालत में देख परिजनों के होश उड़ गए। आनन-फानन में परिजन उसे लेकर मोदीपुरम स्थित एसडीएस अस्पताल पहुंचे। अस्पताल की सूचना पर दौराला पुलिस मौके पर पहुंची और परिजनों से जानकारी ली।

देर शाम शिवकुमार ने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। पुलिस शिवकुमार की आत्महत्या करने के कारणों व तमंचा कहां से आया इसको लेकर परिजनों से पूछताछ करने में जुट गई है। शिवकुमार की मौत की जानकारी मिलने पर पत्नी नीटू, मां जयपाली व बच्चों का रो-रोकर बुरा हाल है। शिवकुमार के तीन बेटी व एक छह माह का बेटा है। वहीं, पड़ोसी मामले की जानकारी मिलते ही परिजनों को सांत्वना देने पहुंचे। एसएसआई अमित कुमार ने बताया कि मृतक के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। आत्महत्या के कारणों को जानने में पुलिस जुट गई है। फिलहाल, परिजनों की ओर से कोई लिखित शिकायत नहीं दी गई है।

संदिग्ध हालात में फांसी पर लटकी मिली युवती

मुंडाली: थाना क्षेत्र के गांव रछौती में एक युवती संदिग्ध परिस्थितियों में अपने ही घर छत के पंखे से फांसी पर लटकी मिली। मुंडाली का रछौती निवासी हसीन गाढ़ा किराए पर ईको चलाता है। शुक्रवार तड़के वह ईको लेकर बाहर चला गया। जबकि पत्नी शबनम पशुओं को चारा करने घेर में जा पहुंची। कुछ देर बाद शबनम लौटी तो बेटी उम्मेसदफ (18) उसको नजर नहीं आई। उसने बेटी को आवाज लगाते हुए कमरे में जाकर देखा तो वह चुनरी के सहारे छत के पंखे से फांसी पर लटकी हुई थी। ये भयावह दृश्य देख शबनम के पैरों तले जमीन खिसक गई। मौके पर पहुंचे ग्रामीणों ने युवती के पिता और पुलिस को सूचना दी। पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और शव को फंदे से उतारकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया।

ग्रामीणों ने बताया कि हसीन ने दो शादियां की थीं। पहली पत्नी के हसीन को दो बच्चे बड़ा बेटा रिहान और बेटी उम्मेसदफ थी। रिहान लगभग सात वर्ष से सऊदी अरब में नौकरी कर रहा है। जबकि उम्मेसदफ अपने पिता व सौतेली मां शबनम के साथ घर रह रही थी। शबनम को कोई संतान नहीं है। बताया कि रिहान पैसा बहन के खाते में भेजता था। इसको लेकर सौतेली मां और बेटी में कलह रहती थी। ग्रामीणों ने दबी जुबान से बताया कि युवती के चाल-चलन को लेकर भी पांच-छह दिन पूर्व घर में विवाद हुआ था। एसओ रविंद्र कुमार का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट से मौत का कारण स्पष्ट हो पाएगा। उसी आधार पर अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments