Wednesday, January 19, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeINDIA NEWSओडिशा-आंध्र प्रदेश: चक्रवाती तूफान 'जवाद' को लेकर सतर्कता

ओडिशा-आंध्र प्रदेश: चक्रवाती तूफान ‘जवाद’ को लेकर सतर्कता

- Advertisement -

जनवाणी ब्यूरो |

नई दिल्ली: बंगाल की खाड़ी में बने तूफान ‘जवाद’ को लेकर आंध्र प्रदेश और ओडिशा में खास सतर्कता बरती जा रही है। चक्रवाती तूफान से बंगाल, ओडिशा, आंध्र प्रदेश समेत आसपास के कई राज्यों में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश का अनुमान है। निचले इलाकों को लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। इस चक्रवात को जवाद नाम सऊदी अरब ने दिया है।

आंध्र प्रदेश में जवाद को लेकर अलर्ट

चक्रवात जवाद के मद्देनजर आंध्र प्रदेश के तीन जिलों में 11 एनडीआरएफ, पांच एसडीआरएफ, 6 तटरक्षक बल, 10 समुद्री पुलिस दल तैनात किए गए हैं। विशाखापत्तनम, विजयनगरम और श्रीकाकुलम के निचले इलाकों से 54,008 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।

भारत मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि चक्रवाती तूफान जवाद बंगाल के पश्चिम-मध्य खाड़ी में विशाखापत्तनम से लगभग 230 किमी दक्षिण पूर्व, गोपालपुर से 340 किमी दक्षिण, पुरी से 410 किमी दक्षिण-दक्षिण पश्चिम और पारादीप से 490 किमी दक्षिण-दक्षिण पश्चिम में केंद्रित है।

ओडिशा-आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल में 46 टीमें तैनात

मौसम विभाग के महानिदेशक मृत्युंजय मोहापात्रा के मुताबिक ‘जवाद’ उत्तरी आंध्र प्रदेश पर बंगाल की खाड़ी के पश्चिम मध्य तट की ओर बढ़ रहा है। शनिवार सुबह तक यह आंध्र प्रदेश और ओडिशा के निकट पहुंचेगा और इसके बाद उत्तर-उत्तरपूर्व की ओर मुड़ता हुआ 5 दिसंबर को पुरी तट से टकराएगा।

मौसम विभाग ने जारी किया रेड अलर्ट 

मौसम विभाग ने आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम, विजियानगरम और विशाखापत्तनम के लिए रेड अलर्ट जारी किया है। इसके अलावा ओडिशा के गजापट्टी, गंजम, पुरी और जगतसिंहपुर जिलों के लिए भी रेड अलर्ट जारी किया है। चक्रवात के कारण पश्चिम बंगाल में शनिवार-रविवार और असम मेघालय व त्रिपुरा में रविवार-सोमवार को कुछ इलाकों में भारी बारिश का पूर्वानुमान है। मौसम विभाग ने मध्य एवं उत्तरी बंगाल की खाड़ी में रविवार तक मछुआरों को न जाने की सलाह दी है।

बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना हवा का गहरा अवदाब एक चक्रवाती तूफान ‘जवाद’ में तब्दील हो गया है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने यह जानकारी दी।आईएमडी के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने बताया कि चक्रवात  शनिवार को सुबह उत्तरी आंध्र प्रदेश और ओडिशा तट के पास टकराएगा। इसके बाद यह ओडिशा और निकटवर्ती आंध्र प्रदेश के तट के पास उत्तर-पूर्वोत्तर की ओर बढ़ेगा और पांच दिसंबर को दोपहर तक पुरी के आसपास के तट पर पहुंचेगा।

इस दौरान हवा की रफ्तार 80 से 100 किलोमीटर प्रति घंटा हो सकती है। NDRF ने जोखिम वाले इलाकों में जहां 46 टीमों को तैनात किया है चक्रवाती तूफान से बंगाल, ओडिशा, आंध्र प्रदेश समेत आसपास के कई राज्यों में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश का अनुमान है। निचले इलाकों को लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने का काम भी शुरू कर दिया गया है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments