Monday, June 17, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutकब सुधरेंगे शहर के हालात, किसी को नहीं सुध ?

कब सुधरेंगे शहर के हालात, किसी को नहीं सुध ?

- Advertisement -
  • सड़कों का बुरा हाल, दो फीट तक हुए गड्ढे, जनप्रतिनिधियों ने मूंद रखी हैं आंखे
  • जनसुनवाई पोर्टल पर मुख्यमंत्री तक की जा चुकी शिकायत, नहीं हुई सुनवाई

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: शहर के हालात किसी से छिपे नहीं हैं। एनसीआर में आने के बावजूद यहां विकास कार्य नहीं हो पा रहे हैं। शहर की सड़कों की हालत इस कदर खराब है कि यहां दो से तीन फीट तक गहरे गड्ढे हो चुके हैं, लेकिन कोई ध्यान देने वाला नहीं है। हापुड़ रोड से लोहियानगर काजीपुर की ओर जाने वाले मार्ग पर वाहन चालक गड्ढों में गिरकर घायल हो रहे हैं, लेकिन कोई सुध लेने वाला नहीं है। जनप्रतिनिधियों ने इस ओर से आंखे मूंद ली हैं, जबकि इसकी शिकायत जनसुनवाई पोर्टल पर मुख्यमंत्री तक से की जा चुकी है।

शहर में रैपिड रेल, मेट्रो ट्रेन समेत एक्सप्रेस-वे तक के कार्य किये जा रहे हैं, लेकिन शहर के अंदर के हालात किसी से छिपे नहीं हैं। शहर के पॉश एरियों तक में सड़कों की हालत खराब हो चुकी है। मेरठ को मेट्रो सिटी का दर्जा मिला हुआ है, लेकिन शहरवासियों को मेट्रो सिटी वाली सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं। शहर के अंदर सड़कों की बात करें तो यहां हालात बेहद खराब हैं।

06 23

हापुड़ रोड स्थित सब्जी मंडी से लेकर लोहिया नगर को जानी वाली सड़क की हालत इतनी खराब है कि यहां कोई न कोई वाहन चालक रोजाना घायल हो रहा है। सड़क में दो से लेकर तीन फीट तक गहरे गड्ढे हो चुके हैं। इस सड़क की इस हालत को करीब एक साल होने का जा रहा है, लेकिन इसके बावजूद सड़क को सही नहीं कराया जा रहा है। इन गड्ढों में पानी भरा हुआ है जिसमें रोज वाहन चालक गिर जाते हैं। जबकि मंडी में रोजाना किसानों का भी आना जाना रहता है। जिससे उन्हें परेशानी होती है।

जनप्रतिनिधि बेखबर

लोहियानगर का यह क्षेत्र दक्षिण विधानसभा क्षेत्र में आता है। मंडी से लेकर लोहिया नगर को जाने वाले इस मार्ग के एक ओर ग्राम काजीपुर है और एक ओर लोहिया नगर है। काजीपुर गांव निवासी रिंकू भड़ाना का कहना है कि यह सड़क एक वर्ष से भी ज्यादा समय से टूटी है।

इसे लेकर क्षेत्र के विधायक सोमेन्द्र तोमर और सांसद राजेन्द्र अग्रवाल से भी शिकायत की, लेकिन उनकी ओर से कोई सुनवाई नहीं होती। जबकि क्षेत्र में सबसे अधिक भाजपा के वोटर रहते हैं। उसके बावजूद लोगों की बात नहीं सुनीं जा रही है। जनता में इस बार बहुत रोष है।

सीएम से शिकायत के बाद भी नहीं हुई सुनवाई
07 25
काजीपुर निवासी एडवोकेट विरेन्द्र वर्मा का कहना है कि उन्होंने कई बार इस समस्या को उठाया लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं हुई। जिसके बाद उन्होंने चार जनवरी को इसकी शिकायत जनसुनवाई पोर्टल पर मुख्यमंत्री को की, लेकिन शिकायत किये आज एक माह से भी अधिक हो चुका है लेकिन कोई अधिकारी यहा जनप्रतिनिधि इसकी सुध लेने को तैयार नहंी है। वाहन चालक यहां सड़कों में गिरकर घायल हो रहे हैं।

मौजूदा सांसद, विधायक नहीं देते ध्यान
08 25गौरव गुर्जर का कहना है कि मौजूद सांसद राजेन्द्र अग्रवाल और क्षेत्र के विधायक सोमेन्द्र तोमर जनता की समस्याओं पर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं। शहर की जनता परेशान हो चुकी है। दिन-पर-दिन महंगाई बढ़ती जा रही है और आम जन को मिलने वाली सुविधाओं का कोई ख्याल तक नहीं है। मौजूद सरकार में जनता त्रस्त हो चुकी है। यहां सड़क की हालत इतनी जर्जर है कि वह खुद एक बार यहां आये तो दोबारा यहां से गुजर नहीं सकते।

विकास पर नहीं है ध्यान
09 24
मोहित धामा ने बताया कि जनप्रतिनिधियों को यहां तक पहुंचाने में क्षेत्र की जनता का बहुत बड़ा हाथ है। यहां की जनता ने हमेशा इनका साथ दिया, लेकिन अब जनप्रतिनिधि लोगों की समस्याओं को अनदेखा कर रहे हैं। वह अपनी स्थिति को सुधारने में लगे हैं। यही कारण है कि क्षेत्र का विकास भी नहीं हो पा रहा है। जिसके लिये यहां के जनप्रतिनिधि जिम्मेदार हैं।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments