Saturday, May 25, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutवाह रे! प्रशासन, हाड़ कंपाती ठंड में भी लगा दिये तूफान पंखे

वाह रे! प्रशासन, हाड़ कंपाती ठंड में भी लगा दिये तूफान पंखे

- Advertisement -
  • नामांकन स्थल पर प्रशासन की ओर से सर्दी में भी लगा दिये गये पंखे
  • पिछली बार का ही टेंडर कर दिया गया रिवाइज
  • अधिकारियों को थोड़े ही देने हैं रुपये, जाएंगे तो सरकारी खर्च से ही

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: जिला प्रशासन का खेल भी अजब ही है। प्रशासन की ओर से कलक्ट्रेट में नामांकन स्थल बनाया गया हैं, जहां विधानसभा चुनाव लड़ रहे प्रत्याशी नामांकन करेंगे। यहां प्रशासनिक अधिकारियों का खेल तो देखिये हाड़ कंपाती ठंड में भी प्रशासन की ओर से नामांकन स्थल पर बड़े पंखे तक लगा दिये गये हैं। हालांकि इन पंखों को कनेक्शन नहीं हुआ है, लेकिन इतनी ठंड में पंखों को किराये पर मंगाने का यहां कौन-सा औचित्य है, क्या कारण है? यह किसी को समझ में नहीं आ रहा है।

बता दें कि जिलाधिकारी कार्यालय के पास स्थित एडीएम फर्स्ट न्यायालय व अन्य न्यायलयों में नामांकन कक्ष बनाये गये हैं। जहां विधानसभा चुनाव लड़ने के लिये प्रत्याशी नामांकन करेंगे। यहां प्रशासन की ओर से नामांकन व्यवस्था की गई है। जिसमें सातों विधानसभा वार अलग-अलग कमरे बनाये गये हैं। इसके लिये कलक्ट्रेट में बैरिकेडिंग तक कर दी गई है। कोई भी व्यक्ति इस ओर नहीं जा सकता है। यहां तक कि मीडिया के लिये भी अलग से गैलरी बनाई गई है, लेकिन यहां नामांकन स्थल पर लगाये गये पंखे सभी के लिये एक प्रश्न खड़ा कर रहे हैं।

प्रशासन ने यहां सभी नामांकन स्थल के बार पंखे लगा दिये हैं। यहां पर बड़े पंखे लाकर रख दिये गये हैं। जिनका हाड़ कंपाती ठंड में कोई कार्य नहीं है। इन पंखों का यहां पर क्या कार्य है? इसका कोई जवाब तक नहीं दे रहा है। हालांकि पंखों का कनेक्शन बिजली से नहीं किया गया है, लेकिन इन पंखों को यहां किस लिये रखा गया है यह कह पाना मुश्किल है।

सभी कार्यालयों में लगे हैं एसी

अगर बात मानी जाये कि यह पंखे कार्यालयों के अंदर के हैं तो इस पर विश्वास करना भी मुश्किल है। क्योंकि कलक्ट्रेट स्थित सभी कार्यालयों में ऐसी लगे हुए हैं। यहां गर्मियों में कभी भी किसी कार्यालय में तूफान मेल पंखे नहीं लगाये गये हैं। यानि किसी कार्यालय में पंखे नहीं है। ऐसे में नामांकन स्थल पर इन पंखों का पहुंचना ही सवाल खड़ा करता है।

पुराना टेंडर कर दिया रिवाइज

अभी बीते दिनों यहां चुनाव प्रक्रिया की गई थी। जिसके चलते प्रशासन की ओर से पुराना टेंडर ही शायद रिवाइस कर दिया गया है। यह प्रक्रिया गर्मियों के दिनों की ही थी। जिसके चलते अधिकारियों ने इस पर ध्यान नहीं दिया और ठेकेदार ने तो अपनी कमाई करने के लिये यहां पंखे पहुंचा दिये हैं, लेकिन इसका खर्च तो सरकारी खजाने से ही वहन किया जायेगा।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments