Thursday, August 18, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttarakhand NewsDehradunअनुपूरक बजट सहित 7 विधेयक पास, शीतकालीन सत्र अनिश्चितकाल के लिए स्थगित

अनुपूरक बजट सहित 7 विधेयक पास, शीतकालीन सत्र अनिश्चितकाल के लिए स्थगित

- Advertisement -

जनवाणी ब्यूरो |

देहरादून: उत्तराखंड विधानसभा के शीतकालीन सत्र का आज समापन हो गया। सत्र अनिश्चित काल के लिए स्थगित हो गया। शीतकालीन सत्र में अनुपूरक बजट सहित 7 विधेयक पास हुए। सुबह करीब 11 बजे विधानसभा सत्र कार्यवाही की शुरू हुई। हरिद्वार में दरिंदगी की शिकार मासूम बच्ची की घटना पर चर्चा हुई। विपक्ष ने 310 के तहत मामला उठाया। 58 के तहत चर्चा शुरू हुई।

हरिद्वार की घटना पर संसदीय कार्य मंत्री मदन कौशिक ने सदन में कहा कि दूसरे आरोपी की गिरफ्तारी के लिए 20, 000 की इनामी राशि एक लाख की गई है। डीआईजी गढ़वाल के नेवतृत्व में टीम का गठन अतिरिक्त रूप से किया जाएगा और अभियुक्त को फांसी की सजा तक पहुंचाया जाएगा। फास्ट ट्रैक में मामला चलेगा। डीआईजी की टीम केवल जांच नहीं करेगी, बल्कि अभियोजन के दौरान उसकी मॉनिटरिंग भी करेगी।

महंगाई के मुद्दे पर कांग्रेस विधायकों ने सदन से वॉकआउट किया। जिसके बाद विधानसभा सत्र अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया। उत्तराखंड विधानसभा के शीतकालीन सत्र का आज चौथा और अंतिम दिन था। आज असरकारी दिवस हुआ, जिसमें प्रश्नकाल नहीं हुआ।

गुरुवार को विस के आखिरी दिन कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह के नेतृत्व में अन्य कांगेसी नेताओं ने सिलिंडर और प्याज की महंगाई के विरोध में प्रदर्शन किया। यह प्रदर्शन विधानसभा गेट के सामने किया गया।

बुधवार को सरकार ने राजभवन से लौटे दो विधेयकों सहित छह विधेयक पारित कराए। अंब्रेला विश्वविद्यालय विधेयक में एक संसोधन किया गया, जबकि उच्च शिक्षा से संबंधित दूसरे विधेयक को मूल रूप से पारित किया गया। संसदीय कार्यमंत्री मदन कौशिक ने कहा सत्र का कामकाज बढ़िया रहा। विपक्ष ने कौशिक बहुत की, लेकिन सत्ता ने बेहतर काम किया।

उत्तराखंड विधानसभा के शीतकालीन सत्र का आज चौथा और अंतिम दिन था। आज असरकारी दिवस हुआ, जिसमें प्रश्नकाल नहीं हुआ।

वहीं गुरुवार को सचिवालय में विधायक भगवानपुर ममता राकेश ने मुख्य सचिव ओमप्रकाश से भेंट कर क्षेत्र में जल भराव की समस्या से अवगत कराया।

मुख्य सचिव ने सिंचाई विभाग को ड्रेनेज प्रोजेक्ट को निर्धारित समय-सीमा के अंदर पूर्ण करने के निर्देश दिए। कहा कि क्षेत्र में जलभराव की समस्या को दूर करने के लिए 15 फरवरी 2021 तक ड्रेनेज प्लान तैयार कर, 28 फरवरी तक डीपीआर तैयार कर ली जाए।

अगले एक माह में टेंडर प्रक्रिया पूर्ण करते हुए एक अप्रैल, 2021 से काम शुरू कर लिया जाए। उन्होंने कहा कि प्री-कंस्ट्रक्शन एक्टिविटी 28, फरवरी तक पूर्ण करते हुए 31 मई, 2021 तक प्रत्येक स्थिति में कार्य पूर्ण किया जाना सुनिश्चित किया जाए। इस अवसर पर महाप्रबंधक कुल एसए मुरूगेशन भी उपस्थित थे।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments