Sunday, July 21, 2024
- Advertisement -
Homeसंवादसप्तरंगऑडियंस को पसंद आ रही है ‘बधाई दो’

ऑडियंस को पसंद आ रही है ‘बधाई दो’

- Advertisement -

 

Senayvani 14


‘कोरोना 3’ की लहर कमजोर पड़ने के बाद, ‘बधाई दो’ इस 11 फरवरी को थिएटर्स में रिलीज हुई। इसमें पहली बार राजकुमार राव और भूमि पेडनेकर की जोड़ी नजर आई। ‘बधाई दो’ संभवत मेनस्ट्रीम हिंदी सिनेमा की पहली ऐसी फिल्म है जो लैवेंडर मैरिज यानी ‘गे’ और ‘लेस्बियन’ की शादी पर पर बेस्ड है। इस फिल्म में समलैंगिक कम्युनिटी के लोगों की जिंदगी का सेलिब्रेशन काफी रोचक ढंग से फिल्माया गया है। फिल्म के लीड एक्टर राजकुमार राव का कहना है कि जब उन्हें इस फिल्म का आॅफर मिला तो उन्हें इसकी स्क्रि प्ट बेहद शानदार लगी थी। स्क्रि प्ट में हृूमर, इमोशंस और ड्रामा को बहुत अच्छे तरीके से बैलेंस किया गया था। राजकुमार राव मानते हैं कि यह उनके द्वारा निभाए गए अब तक के सबसे अधिक लेयर्ड कैरेक्टर में से एक है। उन्होंने फिल्म में शार्दुल नाम के एक ऐसे पुलिस अधिकारी का किरदार निभाया है जो सैक्सुअलिटी को नार्मल बताने की कोशिश करता है। फिल्म को ‘हंटर’ जैसी फिल्म निर्देशित कर चुके हर्षवर्धन कुलकर्णी ने डायरेक्ट किया है। उन्होंने इसे लिखने से पहले सब्जेक्ट पर काफी रिसर्च किया। इसके लिए उन्होंने इस कम्युनिटी के लोगों से भी काफी मदद ली। उन्होंने फिल्म की स्क्रिप्ट तैयार करने में ही कई साल लगाए। ‘बधाई दो’ में राजकुमार राव के अपोजिट भूमि पेडनेकर ने सुमन नाम की पीटी टीचर का केरेक्टर बड़ी खूबसूरती के साथ निभाया है। फिल्म में शार्दुल और सुमन के बीच की आॅन स्क्रीन कैमिस्ट्री बेहद शानदार नजर आई। खासकर फिल्म में जिस तरह से शार्दुल और सुमन दोनों ही अपने अपने किरदारों में, अपनी पर्सनल लाइफ से जुड़ी हकीकत को एक दूसरे से छिपाते फिरते हैं वह आॅडियंस के लिए काफी मनोरंजक साबित हुआ। राजकुमार राव और भूमि के किरदार समलैंगिक हैं। दोनों पर ही परिवार की तरफ से शादी का प्रेशर है। लिहाजा सामाजिक दबाव से बचने और एक्सेप्टेंस के साथ जीने के लिए दोनों एग्रीमेंट करते हैं कि शादी के बाद दोनों अपने पसंद के पार्टनर के साथ रहेंगे। दोनों राजी खुशी शादी कर लेते हैं लेकिन जिस तरह से वो अपना भांडा फूटने से बचते रहते हैं, वह सब कुछ देखकर दर्शकों को खूब हंसी आती है।

कुल मिलाकर ‘बधाई दो’,समलैंगिकता से जुड़ी चुनौतियों को एक्सप्लोर करने की काफी खूबसूरत कोशिश कही जा सकती है। ‘गे’ और लेस्बियन युवाओं की कहानी को बड़ी ही खूबवसूरती के साथ बड़े मनोरंजक ढंग से सिल्वर स्क्र ीन पर प्रस्तुत किया गया है। ‘बधाई दो’ में राजकुमार राव, मूंछों वाले गैटअप में नजर आए। इसके लिए उन्होंने नकली मूछों का इस्तेमाल न करते हुए नेचुरल रूप से मूंछों को बढ़ाया।

सुभाष शिरढोनकर


janwani address 162

What’s your Reaction?
+1
0
+1
6
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments