Wednesday, January 26, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutभाजपा कैंट और सिवालखास में उतारेंगी नए चेहरे !

भाजपा कैंट और सिवालखास में उतारेंगी नए चेहरे !

- Advertisement -
  • कैंट से अमित अग्रवाल, सिवालखास से मनिंदरपाल और शहर से सुनील भराला पर दांव लगा सकती है भाजपा

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: भाजपा में टिकट को लेकर भारी उथल-पुथल चल रहा है। कैंट विधानसभा क्षेत्र पर चार बार विधायक निर्वाचित हो चुके सत्यप्रकाश अग्रवाल का टिकट इस बार कट सकता है। उनके स्थान पर पूर्व विधायक अमित अग्रवाल का नाम लगभग फाइनल माना जा रहा है। हालांकि भाजपा की अधिकृत सूची अभी जारी होना बाकी है। सिवालखास से सीटिंग एमएलए जितेन्द्र सतवाई का भी टिकट कट सकता है, उनके स्थान पर कोपरेटिव बैंक के चेयरमैन मनिंदरपाल सिंह का टिकट फाइनल होना बताया जा रहा है।

हालांकि अधिकृत तरीके अभी पार्टी ने सूची जारी नहीं की है। यह खबर एक न्यूज चैनल पर भी चल रही है। किठौर से भाजपा विधायक सत्यवीर त्यागी का भारी विरोध था, लेकिन उस पर पार्टी ने फिर से विश्वास जता रही है। ऐसी चर्चाएं भाजपा में चल रही है। मेरठ शहर में सुनील भराला को प्रत्याशी के रूप में चुनाव मैदान में उतारा जा सकता है।

मेरठ दक्षिण से डा. सोमेन्द्र तोमर तथा सरधना से संगीत सोम और हस्तिनापुर से दिनेश खटीक को चुनाव मैदान में उतारकर फिर से भरोसा जताने पर भाजपा लगभग मुहर लगा चुकी है, लेकिन भाजपा की फाइनल सूची अभी जारी नहीं हुई है। बताया जा रहा है कि 16 जनवरी को भाजपा अपने प्रत्याशियों की अधिकृत सूची जारी करेंगी।

…तो हरपाल सैनी होंगे सरधना से सपा-रालोद गठबंधन के प्रत्याशी

स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ भाजपा छोड़कर सपा की साइकिल पर सवार होने वाले हरपाल सैनी सरधना विधानसभा सीट से सपा-रालोद गठबंधन के प्रत्याशी होंगे। सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इस पर फाइनल मुहर लगा दी हैं। शुक्रवार को इसकी अधिकृत घोषणा भी पार्टी स्तर से कर दी जाएगी।

हरपाल सैनी सरधना विधानसभा क्षेत्र से1996 में कांग्रेस छोड़कर बसपा में शामिल हुए थे, तब बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ा था तथा बहुत कम अंतर से चुनाव हार गए थे। इसके बाद बसपा से ही 2002 में विधानसभा चुनाव लड़ा, लेकिन फिर हार गए थे। 21 मार्च 2015 को फलावदा में सपा मुखिया अखिलेश यादव की सभा कराई और सपा की सदस्यता ग्रहण की थी।

इसके बाद स्वामी प्रसाद मौर्य बसपा छोड़कर भाजपा में गए तो हरपाल सैनी भी उनके साथ भाजपा में चले गए थे। अब फिर से स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ पूर्व एमएलसी हरपाल सैनी ने भाजपा छोड़ दी। इसके बाद ही सपा-रालोद गठबंधन के सरधना विधानसभा क्षेत्र से हरपाल सैनी प्रत्याशी होंगे। क्योंकि स्वामी प्रसाद मौर्य ने सरधना की सीट अखिलेश यादव से मांग ली हैं।

पश्चिम में प्रभावित करता है सैनी समाज

सैनी समाज भाजपा से जुड़ा हुआ था, लेकिन वर्तमान में जिस तरह से पूर्व एमएलसी हरपाल सैनी, पूर्व कैबिनेट मंत्री धर्म सिंह सैनी जैसे दिग्गज भाजपा को छोड़कर चले गए, इससे पश्चिमी में निश्चित रूप से भाजपा को भारी झटका लगा है। मेरठ जनपद में करीब डेढ़ लाख सैनी समाज के मतदाता हैं, जबकि पश्चिम में सैनी समाज की संख्या 15 लाख बतायी गयी है।

What’s your Reaction?
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments