Monday, August 2, 2021
- Advertisement -
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUttar Pradesh NewsShamliकोरोना संक्रमण से जूझ रहा रालोद नेता विक्रांत जावला का परिवार

कोरोना संक्रमण से जूझ रहा रालोद नेता विक्रांत जावला का परिवार

- Advertisement -
  • हाल ही में कोरोना संक्रमण से हो चुका है पिता का निधन

जनवाणी संवाददाता |

कांधला: राष्ट्रीय लोकदल के जिला उपाध्यक्ष विक्रांत जावला अपने पूरे परिवार के साथ कोरोना सक्रंमण से लड़ रहे हैं। हाल ही में उनके पिता की संक्रमण के चलते मौत हो गई। वहीं संक्रमण फैलने के कारण गांव में हड़कंप मचा है। रालोद नेता ने सभी से अपना और परिवार का चेकअप कराने की सलाह दी है।

राष्ट्रीय लोकदल के जिला उपाध्यक्ष विक्रांत जावला का पूरा परिवार इस समय कोरोना संक्रमण की चपेट में है। कोरोना सक्रंमण के कारण जहां उनके पिता की मृत्यु हो चुकी है। वहीं उनका बड़ा भाई अजय जावला कोरोना के सक्रंमण में आने के कारण परिवार सहित लुधियाना में होम आईसुलेट हो गया है। वहीं विक्रांत जावला की माता व उनकी बड़ी भाभी भी कोरोना सक्रमंण के चलते करनाल के एक हॉस्पिटल में भर्ती है।

विक्रांत जावला उनकी पत्नी व उनके दोनों बच्चे मेरठ के एक नर्सिंग होम में भर्ती है, तथा एक भाई का परिवार गांव हुरमजपुर में होम आईसुलेट है। विक्रांत जावला ने बताया कि जिला पंचायत के वार्ड नंबर 15 पर रालोद प्रत्याशी अरविंद भारसी के पक्ष में मतदान करने के लिए पूरा परिवार गांव हुरमजपुर में एकत्रित हुआ था।

अंदेशा है कि पूरा परिवार वहीं से सक्रंमित हुआ है। उन्होंने सभी ग्रामीणों एवं शुभचिंतकों से सावधानी बरतने तथा थोडी भी तकलीफ होने पर चिकित्सकों से परामर्श लेने तथा मास्क का प्रयोग करने की अपील की है।

ग्रामीणों ने कोरोना टेस्ट कराने से किया इंकार, टीम बैरंग लौटी

बुधवार को रालोद किसान प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष योगेश भभीसा ने डीएम व सीएमओ को शिकायती पत्र भेजते हुए कहा था कि गांव ताहिरपुर भभीसा में पिछले दो दिनों में आधा दर्जन से भी अधिक मौतें हो जाने के कारण गांव में दहशत का माहौल है, उनको अंदेशा है कि गांव में कोरोना ने पैर ना पसार लिए हो। मामले को लेकर उन्होंने गांव में टीम भेजकर चेकअप कराने की मांग की थी।

जिसके बाद चिकित्सा अधीक्षक ने गुरुवार को चार सदस्य एक टीम को गांव ताहिरपुर भभीसा में ग्रामीणों को कोरोना टेस्ट के लिए भेजा था। किन्तु ग्रामीणों ने टीम से किसी प्रकार का भी चेकअप कराने से मना कर दिया। ग्रामीणों के अनुसार गांव में हुई मौतें स्वाभाविक थी तथा गांव में किसी प्रकार की कोई बीमारी नहीं है।

जिसके बाद टीम ने मामले की सूचना सामुदायिक केन्द्र आकर चिकित्सा अधीक्षक को दी। मामले को लेकर चिकित्साधीक्षक रामबीर सिंह का कहना है कि उन्होंने मामले को लेकर उच्चाधिकारियों को अवगत करा दिया है। जल्द ही गांव के गणमान्य लोगों को साथ लेकर ग्रामीणों को समझा बुझाकर उनके टेस्ट कराएं जाएंगे।


What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments