Sunday, October 17, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUttar Pradesh NewsSaharanpurभाकियू की अगुवाई में किसानों ने हाईवे पर भरी हुंकार

भाकियू की अगुवाई में किसानों ने हाईवे पर भरी हुंकार

- Advertisement -
  • सपा, कांग्रेस, बसपा और रालोद ने भी कृषि कानूनों की मुखालफत की
  • बसपा सांसद किए गए नजरबंद, देवबंद में पुलिस और सपाइयों में झड़प
  • महानगर में बंद रहा बेअसर, कस्बों में किसानों ने कई जगह किया चक्का जााम

मुख्य संवाददाता |

सहारनपुर: कृषि कानूनों की मुखालफत में भारत बंद का सहारनपुर जनपद में खास असर देखा गया। साप्ताहिक बंदी की वजह से महानगर में तो ज्यादातर दुकानें स्वाभाविक रूप से बंद रहीं पर तहसील, ब्लाक मुख्यालयों पर बंद कामयाब रहा। किसान संगठनों और राजनीतिक दलों ने मिलकर सरकार की मुखालफत की। भाकियू की अगुवाई में किसानों ने छुटमलपुर, नागल, सरसावा, रामपुर आदि में चक्का जाम कर दिया। इस दौरान पुलिस के पसीने छूटते रहे। पुलिस ने सपा, कांग्रेस और बसपा तथा सपा के कई नेताओं को नजरबं किए रखा।

बता दें कि भारतबंद के आह्वान का भाकियू समेत अन्य किसान संगठनों व सियासी दलों जैसे कांग्रेस, सपा, बसपा और रालोद आदि ने समर्थन किया था। हालांकि, महानगर में साप्ताहिक बंदी थी, लिहाजा दुकानें वैसे भी नहीं खुलीं। लेकिन, बंद का असर यहां न के बराबर रहा। जबकि कस्बों में किसानों ने चक्का जाम कर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। सरसावा प्रतिनिधि के मुताबिक भाकियू के बैनर तले किसान सरसावा-शाहजहांपुर में अम्बाला हाईवे पर सुबह से ही जुटने लगे थे। दोपहर तक वहां किसानों की भारी भीड़ रही। उन्होंने चक्का जाम कर दिया।

नागल प्रतिनिधि के मुताबिक तल्हेड़ी में किसानों से पहले भारी पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया। नागल के बाजारों में पुलिस ने गश्त शुरू कर दी थी। बावजूद यहां भी किसानों ने हुंकार भरी। गागलहेड़ी संवाददाता के मुताबिक कस्बे के ज्योतिबाफुले चौक पर किसानों का जमावड़ा सुबह से ही होने लगा था। दोपहर होते-होते यहां हजारों की संख्या में किसान एकत्र हो गए। उन्होंने सरकार विरोधी नारेबाजी की और कहा कि कृषि कानून को सरकार वापस ले, नहीं तो ईंट से ईंट बजा दी जाएगी।

उधर, राजनीतिक दलों ने भी बंद में अपनी भागीदारी की। रालोद के प्रदेश सचिव धीर सिंह चौधरी के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने घंटाघर पर पहुंच कर प्रदर्शन किया। सपाइयों ने शहर में कई जगहों पर सड़क पर उतरने की कोशिश की मगर पुलिस ने उन्हें रोक दिया। वरिष्ठ जिला उपाध्यक्ष फरहाद गाड़ा को नागल जाने से पहले ही रोक लिया गया। सदर विधायक संजय गर्ग को भी नजरबंद रखा गया।

देवबंद में पूर्व विधायक माविया अली के समर्थकों की पुलिस से झड़प हुई। इसी तरह बसपा के सांसद हाजी फजलुर्हमान को उनके ही घर में नजरबंद कर दिया गया। उधर, कांग्रेस जिलाध्यक्ष मुजफ्फर अली, इमरान मसूद, विधायक नरेश सैनी, विधायक मसूद अख्तर, महानगर अध्यक्ष वरुण शर्मा, आईसीसी सदस्य जावेद साबरी और बसपा जिलाध्यक्ष योगेश कुमार को घर में ही नजरबंद रखा गया। भीम आर्मी के राष्ट्रीय महासचिव कमल वालिया आदि को भी नजरबंद कर दिया गया था। फिलहाल, बंद के दौरान कहीं से कोई अप्रिय समाचार की सूचना नहीं है। तीन बजे के बाद हालात सामान्य होने लगे।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
1

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments