Wednesday, October 20, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUttar Pradesh NewsMeerutमहिलाओं और व्यापारियों पर बढ़ते अपराध हों कम

महिलाओं और व्यापारियों पर बढ़ते अपराध हों कम

- Advertisement -

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: पश्चिमी उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार मंडल के सदस्यों ने मेरठ में व्यापारियों और महिलाओं के साथ बढते अपराधों को लेकर एक ज्ञापन वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रभाकर चौधरी को दिया। सबसे पहले उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार मंडल के पदाधिकारी एवं समस्त सदस्य की ओर से तुलसी पौधा भेंट कर उनका हार्दिक स्वागत एवं अभिनंदन किया।

व्यापारियों ने कहा कि व्यापारियों व समाज के अन्य वर्ग के साथ समस्याएं एक लंबे समय से चली आ रही हैं जिनका निदान समय-समय पर होता रहा है परंतु अभी भी कई मुद्दों पर सुधार की गुंजाइश है।व्यापारियों के साथ आए दिन लूटपाट, धमकी देना तथा अन्य प्रकार की समस्याएं व घटनाएं होती रहती हैं जिन के समाधान हेतु बाजारों में पुलिस की गश्त को बढ़ाया जाना तथा साथ ही व्यापारियों के निजी सुरक्षा हेतु हथियार का लाइसेंस स्वीकृत किए जाने की आवश्यकता है।

सोनम वर्मा ने कहा कि महिलाओं के साथ आए दिन छेड़खानी तथा चेन स्नेचिंग की घटनाएं होती रहती हैं जिनके लिए दोषियों को गिरफ्तार करना तथा उन्हें सजा दिलाना आवश्यक है ताकि लोगों के अंदर भय कायम रखा जा सके जिससे भविष्य में किसी भी प्रकार की छेड़खानी व लूटपाट महिलाओं के साथ ना हो।

मेरठ के मुख्य बाजार जाम से दिन रात जूझते रहते हैं ,चौराहों पर ई रिक्शा, ठेले तथा रेड लाइट खराब होने के कारण व्यवस्था बिगड़ी रहती है | निवेदन है की किसी भी एक या दो चौराहे को मॉडल चौराहा मानते हुए वहां पर ट्रैफिक व्यवस्था दिल्ली की स्तर पर दुरुस्त की जाए।

मेरठ में सड़कों पर डिवाइडर पर जगह-जगह कट बने हुए हैं अत: अनावश्यक कट बंद कराए जाने की आवश्यकता है। साथ ही जिस सड़क पर डिवाइडर अभी नहीं बने हैं वहां पर डिवाइडर की व्यवस्था भी किए जाने की आवश्यकता है।

बाजारों में पार्किंग की सुविधाएं न के बराबर हैं। खरीदारी करने गई आम जनता के पास ड्राइवर की सुविधा भी नहीं है जिसकी वजह से गाड़ी पार्क करने की जगह नहीं मिलती है, और वह गाड़ी अज्ञानता पूर्ण नो पार्किंग ज़ोन में गाड़ी खड़ा कर देता है जिस कारण कई बार उनकी गाड़ी को ट्रैफिक पुलिस द्वारा टो भी कर लिया जाता है।

बाजारों के आस पास पार्किंग ज़ोन चिन्हित कर उनके जगह जगह बोर्ड लगवायें जायें। पीड़ित व्यक्ति द्वारा अपनी व्यथा सुनाने गए अथवा अपनी रिपोर्ट दर्ज कराने गए व्यक्ति की बात थानों में सहजता से सुनी जाए तथा उसके निराकरण के लिए उसे आश्वासन दिया जाए ताकि आम जनता / व्यापारी को थाने जाते हुए डर ना लगे। पीड़ित के साथ पुलिस के मैत्री पूर्ण संबंध होने की आवश्यकता है।

इस मौके पर अध्यक्ष मनोज गुप्ता, महामंत्री विपुल सिंघल, प्रदेश उपाध्यक्ष सुबोध गुप्ता, प्रदेश संयुक्त महामंत्री सोनम वर्मा, महानगर अध्यक्ष सुनील गुप्ता, नवीन अग्रवाल, बबीता गुप्ता, हेमा गौड़, सुशीला रस्तोगी, विनीत बिश्नोई ,विजय आर्या, विकास गोयल आदि मौजूद रहे।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments