Tuesday, March 2, 2021
Advertisment Booking
Home Uttar Pradesh News Baghpat तप करने से होता है अंत:करण पवित्र: सिद्धगुरु

तप करने से होता है अंत:करण पवित्र: सिद्धगुरु

- Advertisement -
0
  • सामवेद पारायण महायज्ञ का दूसरा दिन

जनवाणी संवाददाता |

बिनौली: जिवाना गुलियान के नीलकंठ आश्रम में चल रहे पांच दिवसीय सामवेद पारायण महायज्ञ के दूसरे दिन शनिवार को उपदेश देते हुए सिद्धगुरु महाराज ने कहा कि परमात्मा ने मानव को शुभ कर्म करने के लिए जीवन दिया है।

सिद्धगुरु महाराज ने कहा कि परमात्मा की सच्चे मन से भक्ति करनी चाहिए। जप करने से अन्तःकरण पवित्र होता है। अन्तःकरण पवित्र होगा तो हम ईश्वर की सत्ता का अनुभव कर सकते हैं। परमात्मा ने मानव चौला शुभ कर्मों को करने के लिए दिया है। परहित करके ही हम शुभ कर्म कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि हमे दीन दुखियों व माता पिता के सेवा करनी चाहिए तभी कल्याण हो सकता है। बरनावा लाक्षागृह के आचार्य अंकुर भारद्वाज ने ईश भक्ति से ओतप्रोत भजन प्रस्तुत किये। आचार्य अमित शास्त्री ने सस्वर वेदपाठ किया। कर्नल नरेंद्र सपत्नी यज्ञमान रहे।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments