Sunday, June 13, 2021
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutबसों के साथ यात्रियों की संख्या 50 प्रतिशत से नीचे पहुंची

बसों के साथ यात्रियों की संख्या 50 प्रतिशत से नीचे पहुंची

- Advertisement -
+1
  • रोडवेज यात्रियों की कमी से निगम को भी नुकसान
  • फिलहाल बंद है इंटरस्टेट बसों का संचालन

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: परिवहन निगम इन दिनों यात्रियों की कमी से जूझ रहा है। रोडवेज से यात्रा करने वाले यात्रियों की आधी से भी कम हो गई है। कोरोना संक्रमण के चलते इन दिनों बसों का संचालन भी घटाया गया है। वहीं, इसी वजह से यात्रियों की संख्या में भी गिरावट आई है। जिससे निगम को भी नुकसान झेलना पड़ रहा है।

लॉकडाउन के बाद से ही रोडवेज बसों में सफर करने वाले यात्री भी इन दिनों बसों से परहेज कर रहे हैं। जिस कारण भैंसाली और सोहराब गेट बस स्टैंड इन दिनों खाली नजर आ रहे हैं। गौरतलब है कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के चलते परिवहन निगम द्वारा गाईडलाइन जारी की गई थी। जिसके बाद से ही अंतर्राज्यीय बसों का संचालन बंद कर दिया गया है।

इंटरस्टेट बसों को प्रदेश में शेड्यूल करके संचालित किया जा रहा है। लेकिन बसों में सफर करने के लिए यात्री नहीं मिल पा रहे हैं। यात्रियों की संख्या 50 प्रतिशत से भी कम हो गई है। जिस वजह से निगम को भी भारी नुकसान रोजाना हो रहा है। पिछले कुछ महीनों की बात करें तो कोरोना संक्रमण के कारण यात्री देखने को नहीं मिल रहे हैं। बताते चलें कि मेरठ रीजन के सभी डिपो की कुल 91 अंतर्राज्यीय बसों को री शेड्यूल कर प्रदेश में ही दौड़ाया जा रहा है।

जिसमें मेरठ डिपो से कुल 30 बसों के इंटरस्टेट संचालन पर रोक लगाई गई है। वहीं, भैंसाली डिपो की 11 और सोहराबगेट डिपो की 10 अंतर्राज्यीय बसों को रीशेड्यूल किया जा चुका है। इन बसों का इंटरसिटी ही संचालित किया जा रहा है। ऐसे में बसों का संचालन भी इन दिनों घटा है।

इस वजह से यात्रियों की संख्या में कमी देखी गई है। वहीं, दूसरी ओर रोजाना सफर करने वाले यात्रियों के ग्राफ में भी कमी देखने को मिली है। यात्रियों के न होने से बसों को स्टैंड पर खाली खड़ा होते देखा जा रहा है। मात्र भैंसाली और मेरठ डिपो की ही बात करें तो प्रतिदिन लाखों रुपयों का नुकसान झेलना पड़ रहा है।

पिछले लॉकडाउन के बाद जनवरी और फरवरी माह में रोडवेज का रेवेन्यू ढर्रे पर लौटा ही था कि कोरोना की दूसरी लहर ने एक बार फिर से निगम को झटका दिया है। उधर, भैंसाली बस अड्डे पर बाहर से आने वाले सभी यात्रियों की कोरोना जांच भी की जा रही है।

वहीं, संबंध में सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक राकेश कुमार का कहना है कि इंटरस्टेट बसों का संचालन इन दिनों बंद चल रहा है। इस वजह से भी यात्रियों की संख्या में कमी देखी जा रही है। वहीं, संक्रमण में राहत के बाद ही दोबारा से इंटरस्टेट बसों का संचालन संभव है। ऐसे में इसके बाद ही यात्रियों की संख्या में बढ़ोतरी देखने को मिल सकती है।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments