Saturday, January 29, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutकरोड़ों की गाड़ियों में पल रहे जहरीले सांप

करोड़ों की गाड़ियों में पल रहे जहरीले सांप

- Advertisement -
  • ईओडब्लू में चल रही अरबों की बाइक बोट घोटाले की जांच
  • ऊंची-ऊंची घास में खड़ी है जगुआर, फार्च्यूनर बीएमडब्लू जैसी महंगी गाड़ियां

ज्ञान प्रकाश  |

मेरठ: सड़कों पर स्टेटस सिंबल बन चुकी जगुआर, फार्च्यूनर और बीएमडब्लू जैसी गाड़ियां झाड़ियों में खड़ी हुई जंग खा रही है। यह सुनने में भले अजीब लगे, लेकिन ऐसा हकीकत में हो रहा है।

3500 करोड़ रुपये के बाइक बोट घोटाले के आरोपियों के पास से मिली इन मंहगी गाड़ियों को पीएसी की 44वीं बटालियन में स्थित आपराधिक अपराध शाखा (ईओडब्लू) में रखा गया है। हर कोई आकर इन गाड़ियों को देखकर चर्चाओं में डूब जाता है।

बहुचर्चित बाइक बोट घोटाला वर्ष 2018 में शुरू हुआ था। बाइक टैक्सी के नाम पर निवेश कराने वाली कंपनी गर्वित इनोवेटिव प्रमोटर्स लिमिटेड के मालिक विजेंद्र सिंह हुड्डा को अभी तक गिरफ्तार नहीं किया जा सका है। हजारों लोगों की गाढ़ी कमाई डकारने के 22 आरोपियों को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है।

मामले की जांच प्रवर्तन निदेशालय व आर्थिक अपराध शाखा भी कर रही है। कंपनी मालिक विजेंद्र सिंह हुड्डा व निदेशक बसपा नेता संजय भाटी ने यह स्कीम लांच की थी।

इसके तहत लोगों को बाइक बोट स्कीम से जोड़ा गया। निजी चैनल का मालिक और फजीवाड़े का आरोपी बीएन तिवारी की कंपनी बैट्री से चलने वाली बाइक बनाकर गर्वित इनोवेटिव कंपनी को देता था। कंपनी 19 लोगों के नाम रजिस्टर्ड थी।

कंपनी ने यह स्कीम यूपी के अलावा दिल्ली, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा व बिहार समेत कई राज्यों में शुरू की थी। बद्री नारायण तिवारी पर 50 हजार रुपये का इनाम घोषित हुआ था।

इसे एसटीएफ ने गिरफ्तार किया था। विजेंद्र सिंह हुड्डा को पुलिस व अन्य विभाग भारत लाने की कोशिश कर रहे हैं। स्कीम के तहत लोगों से प्रति बाइक 62100 रुपये लिए जाते थे।

इसके बदले उन्हें एक साल तक 9800 रुपये प्रति माह देने का झांसा दिया जाता था। एक साल में मुनाफा दोगुना होने का लालच पाकर लोगों ने जमकर निवेश किया।

शुरू में कंपनी की ओर से लोगों को मुनाफे की रकम दी गई। एक साल में ही कंपनी के पास 4200 करोड़ रुपये आ गए।

इसके बाद आरोपी कंपनी बंदकर भाग निकले। कंपनी ने निवेशकों को तीन बाइक पर निवेश करने पर ज्यादा बोनस देने का लालच भी दिया था। यही वजह है कि लोगों ने अपनी मेहनत की कमाई कंपनी में लगा दी और ठगी के शिकार हो गए। ईओडब्लू इस मामले की जांच कर रही है।

कंपनी के मालिकों के पास से पुलिस ने दो जगुआर गाड़ी, फार्च्यूनर, बीएमडब्लू आदि मंहगी गाड़ियां बरामद की थी। इनको कार्यालय के बाहर मैदान में खड़ा किया गया है। कारें ऊंची ऊंची झाड़ियों में ढक गई है। इन गाड़ियों में काफी तादाद में जहरीले सांप पनाह ले रहे है।

ईओडब्लू के स्टाफ का कहना है कि यह कोर्ट की प्रापर्टी है और फिलहाल सांप और गोह इन महंगी गाड़ियों में आराम फरमा रहे हैं। आए दिन कोबरा, घोड़ा पछाड़ और करैत जैसे सांपों से लोगों का आमना सामना हो जाता है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments